गुरूवार, अक्टूबर 29, 2020
होम कुश्ती चोटिल सुशील कुमार ओलंपिक क्वालीफायर ट्रायल्स में नहीं ले पाएंगे हिस्सा, टालने...

चोटिल सुशील कुमार ओलंपिक क्वालीफायर ट्रायल्स में नहीं ले पाएंगे हिस्सा, टालने की मांग की

भारतीय दिग्गज पहलवान सुशील कुमार ने शुक्रवार को एशियाई चैंपियनशिप के लिए होने वाले ट्रायल्स से खुद को अलग कर लिया है। उन्होंने चोट का हवाला देते हुए इन ट्रायल मुकाबलों को स्थगित करने की मांग की है। वह अपने दायें कंधे की चोट से जूझ रहे हैं। शुक्रवार को होने वाले ट्रायल्स मुकाबले ओलपिंक के लिहाज से महत्वपूर्ण होने वाले हैं।

दो बार के ओलंपिक पदक विजेता सुशील ने कहा है कि वह अभी कंधे की चोट से पूरी तरह से उबर नहीं पाये हैं और उन्होंने भारतीय कुश्ती महासंघ को इस संबंध में मेडिकल सर्टिफिकेट जमा कर दिया है। इसके आलावा सुशील ने 74 किग्रा भारवर्ग के ट्रायल्स मुकाबलों को टालने की मांग की है। हालांकि यह संभावना है कि महासंघ उनके अनुरोध को स्वीकार करेगा।

रियो ओलंपिक में 74 किग्रा भारवर्ग में किसी भी पहलवान ने भाग नहीं लिया। जिसके बाद सुशील ने साल 2018 में बड़ी प्रतियोगिताओं में भाग लेना शुरू किया। उन्होंने कॉमनवेल्थ खेलों में स्वर्ण जीता लेकिन उस वर्ष एशियाई खेलों में वह जल्दी बाहर हो गए। इसके बाद 2019 में हुए विश्व चैंपियनशिप में भी उनका खराब प्रदर्शन जारी रहा जो कि पहला ओलंपिक क्वालिफिकेशन इवेंट था।

विश्व चैम्पियनशिप के बाद सुशील का भविष्य अनिश्चित हो गया है क्योंकि उन्होंने उसके बाद किसी भी टूर्नामेंट में भाग नहीं लिया है, जिसमें राष्ट्रीय चैंपियनशिप भी शामिल है। उनकी अनुपस्थिति में 18 वर्षीय गौरव बलियान 74 किग्रा वर्ग में देश के सर्वश्रेष्ठ पहलवान के रूप में उभरे हैं। सुशील ने ट्रायल्स को लेकर कहा, “मैंने फेडरेशन से ट्रायल स्थगित करने का अनुरोध किया है। मैं अपने दाहिने कंधे में चोट से उबर रहा हूं और शुक्रवार के ट्रायल्स के लिए फिट नहीं हो पाऊंगा। मैं लंबे समय से इसकी तैयारी कर रहा था, इसलिए मुझे उम्मीद है कि महासंघ इस पर विचार करेगा और ट्रायल्स को बाद में करने पर विचार करेगा।”

डब्ल्यूएफआई के अनुसार, चार ओलंपिक कोटा विजेताओं में से केवल बजरंग पुनिया (65 किग्रा) को उनके लगातार अच्छे प्रदर्शन के कारण ट्रायल में प्रतिस्पर्धा से छूट दी गई है। इनके अलावा बाकी रवि दहिया (57 किग्रा), दीपक पुनिया (86 किग्रा) और विनेश फोगट (53 किग्रा) ओलंपिक कोटा अर्जित करने और विश्व चैम्पियनशिप पदक जीतने के बावजूद ट्रायल में भाग लेंगे।