गुरूवार, अक्टूबर 29, 2020
होम कुश्ती हरियाणा चुनाव में संदीप सिंह ने जीता गोल्ड, बबिता और योगेश्वर को...

हरियाणा चुनाव में संदीप सिंह ने जीता गोल्ड, बबिता और योगेश्वर को कांस्य पदक से करना पड़ा संतोष

देश में चुनावों की बात आते ही सभी की नज़रें उसी पर टिक जाती हैं, गुरुवार को देश के दो बड़े राज्यों हरियाणा और महाराष्ट्र में भी चुनावी नतीजों का दिन था। जहां खेल प्रेमियों की भी उम्मीदें टिकी थीं, वजह थी हरियाणा से देश के तीन दिग्गज खिलाड़ी पहली बार चुनावी मैदान में क़िस्मत आज़मा रहे थे।

हॉकी से जहां संदीप सिंह थे तो कुश्ती के अखाड़े से बबिता फ़ोगाट और भारत को ओलंपिक पदक दिलाने वाले योगेश्वर दत्त की चुनौती थी। तीनों ही खिलाड़ी भारतीय जनता पार्टी की टिकेट पर मैदान में उतरे थे। जहां हॉकी की स्टिक कुश्ती के दांव पेंच पर भारी पड़ी। क्योंकि संदीप जीत के साथ पहली बार बीजेपी के विधायक बने तो बबिता फ़ोगाट और योगेश्वर दत्त को हार का सामना करना पड़ा।

प्रो कबड्डी सीज़न-7 के 5 खिलाड़ी जिनके नाम रहे सबसे ज़्यादा रेड प्वाइंट्स

भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान संदीप सिंह कुरुक्षेत्र के पेहोवा सीट से चुनाव लड़ रहे थे जहां उनके सामने 10 उम्मीदवारों की चुनौती थी। फ़्लिकर सिंह के नाम से मशहूर संदीप को कुल 42 हज़ार 613 वोट मिले और उन्होंने 5313 वोट से दूसरे नंबर पर रहे मनदीप सिंह चट्टा को शिकस्त दे दी। मनदीप कांग्रेस की टिकेट से चुनाव लड़ रहे थे और उन्हें कुल 37 हज़ार 299 वोट हासिल हुए।

EXCLUSIVE: मस्जिद में शूटींग अकादमी, गन्ने की बंदूक और ईंट-पत्थर से होल्डिंग प्रैक्टिस

हॉकी में तो संदीप में अपनी स्टिक की ताक़त दिखा दी, लेकिन कुश्ती के अखाड़े से चुनावी मैदान में उतरे दो भारतीय दिग्गजों को मुंह की खानी पड़ी। हरियाणा की बरोद सीट से बीजेपी की टिकेट पर चुनाव लड़ रहे योगेश्वर दत्त कांग्रेस के श्रीकृष्ण हुडा को टक्कर भी नहीं दे पाए। क्योंकि वह 16729 वोट के साथ तीसरे स्थान पर रहे, जबकि हुडा को 50530 वोट मिले तो दूसरे नंबर पर इंडियन नेश्नल लोक दल के कपूर सिंह नरवाल रहे जिन्हें 45347 वोट हासिल हुआ। योगेश्वर की ही तरह बबिता कुमारी फ़ोगाट भी बीजेपी की टिकेट पर दादरी से चुनावी मैदान में उतरीं थीं, लेकिन उनके लिए भी चुनाव का पहला अनुभव खट्टा रहा। दादरी सीट से कुल 18 उम्मीदवार मैदान में थे जिसमें बबिता तीसरे पायदान पर रहीं। इस सीट से न तो कांग्रेस की जीत हुई और न ही बीजेपी की, यहां से निर्दलीय उम्मीदवार सोमबीर विजेता रहे। दूसरे नंबर पर जननायक जनता पार्टी के उम्मीदवार सतपाल संगवान रहे।