शुक्रवार, सितम्बर 25, 2020
होम कुश्ती 2019 वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप के बारे में वह जानकारी जो आपके लिए...

2019 वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप के बारे में वह जानकारी जो आपके लिए है बेहद ज़रूरी

भारतीय खेल प्रेमियों के लिए सितंबर का महीना रोमांच से भरपूर होने वाला है, क्योंकि कई खेलों के साथ साथ इस बार वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप भी होने जा रही है। जहां कई भारतीय पहलवान अपनी क़िस्मत आज़माते हुए नज़र आएंगे। कज़ाक़िस्तान के नूर-सुल्तान में ये प्रतियोगिता 14 से 22 सितंबर के बीच खेली जाएगी।

इस प्रतियोगिता पर ज़ाहिर तौर पर भारतीय कुश्ती प्रेमियों की नज़र होगी क्योंकि ये टोक्यो 2020 ओलंपिक के लिए पहला क्वालिफ़िकेशन इवेंट भी होगा, नियमानुसार, इस प्रतियोगिता में होने वाले हर ओलंपिक वेट कैटेगिरी से टॉप-6 रेसलर्स को टोक्यो ओलंपिक 2020 का टिकट दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें: सितंबर में भारत और किन किन खेलों में कर रहा है शिरकत

भारत की तरफ़ से महिला रेसलिंग में विनेश फ़ोगाट और पुरुष रेसलिंग में बजरंग पुनिया भारत की सबसे बड़ी उम्मीदें हैं। पद्मश्री से नवाज़े गए बजरंग पुनिया को इस टूर्नामेंट में पहली सीड हासिल है। बजरंग 65 किग्रा फ़्रीस्टाइल कैटेगिरी में भारत की अगुवाई करेंगे।

वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में बजरंग पुनिया 65 किग्रा वर्ग में हैं नंबर-1 पहलवान

बजरंग को पिछले बार इसी प्रतियोगिता में रजत पदक मिला था, जिसे वह इस बार स्वर्ण पदक में बदलने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। इसी टूर्नामेंट में पुनिया को पहली बार 60 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक मिला था जिसे उन्होंने 2018 में रजत में तब्दील किया और अब सभी को उम्मीदें हैं कि इस बार बजरंग उसका भी रंग बदलते हुए सुनहरा कर दें। वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में भारत के लिए इससे पहले एकमात्र स्वर्ण पदल सुशील कुमार ने 2010 में दिलाया था।

पुनिया इसके लिए जीतोड़ मेहनत कर रहे हैं और उन्होंने विदेशों में कई धुरंधर पहलवानों के बीच रहते हुए इसकी तैयारी की है।

‘’विदेश में रहते हुए धुरंधर पहलवानों के बीच प्रैक्टिस करने से मुझमें काफ़ी बदलाव आए हैं और अब मैं ख़ुद को एक संपूर्ण पहलवान समझता हूं। जॉर्जिया, रूस और संयुक्त राष्ट्र संघ के नामी गिरामी रेसलर्स के साथ खेलने से मुझे अपने विपक्षियों की रणनीतियों के बारे में और भी अच्छी समझ हुई है। मैंने इस वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए जी जान से मेहनत की है जो इस बार ओलंपिक क्वालिफ़ायर्स भी है, मुझे उम्मीद है कि मैं देश का नाम रोशन करूंगा।‘’ – बजरंग पुनिया, पहलवान, भारत

वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप 2019 की हर जानकारी के लिए क्लिक यहां:

बजंरग के अलावा सुशील कुमार भी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 8 साल बाद वापसी कर रहे हैं, 74 किग्रा में भारत के लिए सुशील कुमार भी पदक के एक बड़े उम्मीदवार हैं। सुशील के अलावा 61 किग्रा में दूसरी सीडेड राहुल अवारे और 86 किग्रा में चौथी वरीयता हासिल दीपक पुनिया से भी पदक की उम्मीद है।

74 किग्रा वर्ग में वापसी कर रहे सुशील कुमार से भी होंगी उम्मीदें

2019 वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप की शुरुआत ग्रेको रोमन प्रतियोगिता के साथ होगी। 9 दिन तक चलने वाली इस विश्व चैंपियनशिप में 101 देशों के हज़ार से भी ज़्यादा पहलवानों के बीच ग्रेको-रोमन, फ्री स्टाइल और विमेंस रेसलिंग कैटेगिरी में जंग होगी।

वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप के लिए भारतीय दल इस प्रकार है:

फ्री स्टाइल रेसलिंग

57 किग्रा – रवि कुमार, 61 किग्रा – राहुल अवारा, 65 किग्रा – बजरंग पुनिया, 70 किग्रा – करण, 74 किग्रा – सुशील कुमार, 79 किग्रा – जितेन्दर, 86 किग्रा – दीपक पुनिया, 92 किग्रा – परवीन, 97 किग्रा – मौसम खत्री, 125 किग्रा – सुमित

विमेंस रेसलिंग

50 किग्रा – सीमा, 53 किग्रा – विनेश फ़ोगाट, 55 किग्रा – ललिता, 57 किग्रा – सरिता, 59 किग्रा – पूजा ढांढा, 62 किग्रा – साक्षी मलिक, 65 किग्रा – नवजोत कौर, 68 किग्रा – दिव्या काकरण, 72 किग्रा – कोमल भगवान गोले, 76 किग्रा – किरण

ग्रेको-रोमन रेसलिंग

55 किग्रा – मनजीत, 60 किग्रा – मनीष, 63 किग्रा – सागर, 67 किग्रा – मनीष, 72 किग्रा – योगेश, 77 किग्रा – गुरप्रीत सिंह, 82 किग्रा – हरप्रीत सिंह, 87 किग्रा – सुनील कुमार, 97 किग्रा – रवि, 130 किग्रा – नवीन