Sunday, March 7, 2021
  • Players Speak
  • Coach’s Corner
  • Forgotten Heroes
  • Para Sports
  • From The Grassroots
  • Sports Market
  • Videos
Home कुश्ती एशियाई रेसलिंग चैंपियनशिप : महिला फ्रीस्टाइल पहलवानो ने जीते 4 पदक

एशियाई रेसलिंग चैंपियनशिप : महिला फ्रीस्टाइल पहलवानो ने जीते 4 पदक

चीन के ज़ियान शहर में हो रही एशियाई रेसलिंग चैंपियनशिप 2019 के तीसरे और चौथे दिन भारतीय फ्रीस्टाइल महिला पहलवानो ने देश के लिए 4 पदक हासिल किये, भारतीय पहलवानो का प्रदर्शन असंतोषजनक ही रहा और कोई भी महिला पहलवान फाइनल में जगह बनाने में नाकामयाब रही।

50 किलोग्राम भारवर्ग में सीमा को क्वालिफिकेशन राउंड में जापान की युकी इरी के हाथो 10-0 के स्कोर के साथ टेक्निकल सुपेरिओरिटी के आधार पर शिकस्त मिली। हालाँकि जापानी पहलवान के फाइनल में पहुंचने के साथ सीमा को रेपीचेज खेलने का मौका मिला। रेपीचेज राउंड में सीमा ने चीनी ताइपे की पहलवान को 10-2  से हराकर कांस्य पदक मुक़ाबले में जगह बनायीं, जहा उन्हें कज़ाख़स्तान की वैलेंटिना इवानोव्ना इस्लामोवा बरीक के हाथो 11-5 से शिकस्त झेलनी पड़ी।

55 किलोग्राम भारवर्ग में ललिता ने सिंगापुर की सुन जू याप के विरुद्ध क्वालिफिकेशन राउंड में 10-0 के साथ टेक्निकल सुपेरिओरिटी के आधार पर जीत हासिल की, लेकिन क्वार्टर फाइनल में मंगोलिया की दुलगुन बोलोरमा ने उन्हें 4-1 से हराया, बाद में मंगोलियन पहलवान फाइनल में नहीं पहुंच पायी और ललिता का सफर क्वार्टर फाइनल में हार के साथ ही समाप्त हो गया।

59 किलोग्राम में मंजू कुमारी ने क्वार्टर फाइनल में कज़ाख़स्तान की मदीना बकबेरजेनोवा 5-3 से हराया, लेकिन सेमी फाइनल में मंगोलिया की बाटसेटेग अल्तनतसेतेग ने उन्हें 15-6 से हराया, कांस्य पदक मुक़ाबले में मंजू ने वियतनाम की थी हुआंग दाओ को 11-2 से हराकर चैंपियनशिप में महिला कुश्ती का पहला पदक देश को दिलाया। कांस्य पदक मुक़ाबले के शुरू होते ही दोनों पहलवानो ने एक दूसरे पर हमले करने चालू कर दिए और 30 सेकण्ड्स में ही स्कोर 2-2 की बराबरी पर आ गया, इसके बाद मंजू ने एक के एक बाद एक दांव लगाते हुए स्कोर 11-2 पे ला दिया। पहले राउंड की समाप्ति तक स्कोर इसी तरह रहा, दूसरे राउंड में मंजू बहुत ही रक्षात्मक तरीके से खेलती दिखी और उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी को हमले करने के कोई मौके नहीं दिए, दूसरे राउंड में दोनों पहलवान कोई भी अंक नहीं बटोर सके और मैच मंजू के पक्ष में आसानी से चला गया।

68 किलोग्राम में एशियाई खेलो की कांस्य पदक विजेता दिव्या काकरण ने क्वार्टर फाइनल में वियतनाम की होन्ग के ऊपर 10-0 के साथ टेक्निकल सुपेरिओरिटी के आधार पर जीत हासिल की, लेकिन सेमी फाइनल में चीन की फेंग ज़ोउ ने 14-4  से हरा दिया, कांस्य पदक मुक़ाबले में दिव्या ने मंगोलिया की बाटसेटेग सोरोंजोबोल्ड को फॉल से हारते हुए देश को दूसरा पदक दिलाया। सेमी फाइनल में मिली हार से निराश दिव्या को कांस्य पदक जितने में ज़्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ी, 1 मिनट और 10 सेकंड बाद ही दिव्या ने दांव लगाकर फॉल करने की कोशिश की लेकिन मंगोलियन पहलवान उनके चंगुल से बच गयी और दिव्या को 2-0 से बढ़त मिल गयी, हालाँकि चंगुल से निकलकर बाटसेटेग ने तुरंत हमला किया लेकिन दिव्या ने काउंटर अटैक करते हुए फिर से अपने प्रतिद्वंदी को अपने दांव में फंसा लिया, रेफ़री ने मैच को तुरंत रोकते हुए फॉल से दिव्या को विजयी घोषित कर दिया और दिव्या ने 2 मिनट से भी कम समय में पदक अपने नाम कर लिया।

चित्र : वर्ल्ड रेसलिंग फेडरेशन

76 किलोग्राम में पूजा का सामना मंगोलिया की पहलवान ज़गरदुलाम से क्वार्टर फाइनल में था, जहा मंगोलियन पहलवान ने पूजा को 14-3 से हराते हुए सेमी फाइनल में जगह बनायीं। मंगोलियन पहलवान के सेमी फाइनल में हार के साथ ही पूजा का सफर चैंपियनशिप में बिना पदक के थम गया।

तीसरे दिन भारतीय महिला पहलवान सिर्फ 2 कांस्य पदक ही जीत पायी। चैंपियनशिप का चौथा दिन बहुत महत्वपूर्ण था, साक्षी मलिक और विनेश फोगट अन्य भारतीय पहलवानो के साथ पदको की संख्या बढ़ाने के इरादे से मेट पर उतरने वाली थी।

53 किलोग्राम के क्वार्टर फाइनल में स्वर्ण पदक की प्रबल दावेदार मानी जा रही विनेश फोगट को जापान की मायू मैकैइदा ने 10-0 से हराया, जापानी पहलवान के आगे विनेश की कुश्ती का स्तर कमज़ोर रहा और जापानी पहलवान ने उन्हें एक भी अंक बनाने का मौका नहीं दिया, बाद में जापानी पहलवान के फाइनल में पहुंचने के साथ ही विनेश को कांस्य पदक जितने का एक और मौका मिला। रेपीचेज राउंड में विनेश ने चीनी ताइपे की जो किह चिउ को फॉल से हराया , विनेश ने शुरुआती सत्तर सेकण्ड्स में 6-0 की बढ़त ले ली थी, मैच में लगभग डेढ़ मिनट शेष रहते हुए विनेश के दांव का तायपेई पहलवान के पास कोई जवाब नहीं था और मैच फॉल से विनेश के पक्ष में गया, इसके बाद विनेश ने चीन की किन्यु पैंग को 8-1 से हराते हुए कांस्य पदक हासिल किया और दिन का पहला पदक भारत के नाम किया।

साक्षी ने 62 किलोग्राम के क्वालिफिकेशन राउंड में वियतनाम की पहलवान को 7-7 से हराकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनायीं, क्वार्टर फाइनल में जापान की युकाको कवाई ने साक्षी को फॉल से हराया। युकाको के फाइनल में पहुंचने की वजह से साक्षी को रेपीचेज राउंड में खेलने का मौका मिला। रेपीचेज में साक्षी ने दक्षिण कोरिया के जियाई चोई को 11-0 से हराया, कांस्य पदक मुक़ाबले में साक्षी ने उत्तर कोरिया की हों ग्योंग मुन को 9-6 से हराकर देश का चौथा पदक हासिल किया। कांस्य पदक मुक़ाबले के पहले राउंड तक साक्षी 1-2 से पिछड़ रही थी, दूसरे राउंड में एक मिनट बीत जाने के बाद साक्षी ने इस स्कोर 5-2 कर दिया था , मैच में डेढ़ मिनट शेष रहते हुए यह स्कोर 7-2 हो गया, 40 सेकण्ड्स शेष रहते कोरियाई पहलवान ने इस स्कोर को 7-6 करते हुए वापसी करने की कोशिश की लेकिन 20 सेकण्ड्स शेष रहते हुए साक्षी ने अपने दांव पर 2 अंक बटोरते हुए इसे 9-6 कर दिया, कोरियाई पहलवान के पास वापसी का कोई रास्ता नहीं बचा और पदक साक्षी के नाम हो गया।

विश्व चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता पूजा ढांडा को 57 किलोग्राम भारवर्ग के कांस्य पदक मुक़ाबले में मंगोलिया की त्सेरेनचिमेद सुखी ने 5-3 से हराया, इससे पूर्व पूजा ने क्वालिफिकेशन राउंड में उज़्बेकिस्तान की सेवरा ऐश्मुरातोवा को 10-0 से, क्वार्टर फाइनल में कज़ाख़स्तान की एमा तिस्सईना को 7-3 से हराया था लेकिन सेमी फाइनल में चीन की निंगनिंग रोग ने पूजा को 8-4 से हराते हुए उनके विजय रथ को रोक दिया था।

72 किलोग्राम के क्वार्टर फाइनल में किरण को कज़ाख़स्तान की झामिला बक्बारजेनोवा ने 7-4 से हराया, कज़ाक पहलवान के सेमी फाइनल में हार के साथ किरण का सफर पहले ही राउंड में रुक गया ।

65 किलोग्राम के कांस्य पदक मुक़ाबले में नवजोत कौर को कज़ाख़स्तान की ऐना टेमिरतासोवा ने 7-0 से शिकस्त झेलनी पड़ी, नवजोत को क्वार्टर फाइनल में ही चीन की जिआओजुआन लुओ के हाथो 12-1 से हार झेलनी पड़ी थी, चीनी पहलवान के फाइनल में पहुंचने के कारन नवजोत को कांस्य पदक मुक़ाबले में खेलने का एक मौका मिला था।

फ्रीस्टाइल महिला कुश्ती में भारत को 4 कांस्य पदको से संतोष करना पड़ा। टीम रैंकिंग में भारतीय टीम 113 अंको के साथ तीसरे स्थान पर रही, जापान 215 अंको के साथ शीर्ष पर रही वही चीन 183 अंको के साथ दूसरे स्थान पर रही।

पुरुषो और महिलाओ की फ्रीस्टाइल कुश्ती के बाद भारत 1 स्वर्ण, 3 रजत और 8 कांस्य पदको के साथ पदक तालिका में पांचवे स्थान पर है। चैंपियनशिप के अंतिम चरण में पुरुषो की ग्रीको रोमन स्पर्धा होगी।

175,530FansLike
13,682FollowersFollow
8,328FollowersFollow

Madhavan’s son Vedaant wins bronze for India in swimming

Vedaant Swimmer
Actor R Madhavan is a proud father as his son Vedaant has won bronze for India in swimming at the Latvian Open Swimming Champion. The actor shared the news on social media along with pictures. Sharing a picture on Instagram, Madhavan wrote, “So very happy...