शुक्रवार, सितम्बर 25, 2020
होम कुश्ती 2019 वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप: भारत की बेहद निराशाजनक शुरुआत, पहले दिन ग्रेको...

2019 वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप: भारत की बेहद निराशाजनक शुरुआत, पहले दिन ग्रेको रोमन में सभी भारतीय पहलवान हारकर बाहर

नुर- सुल्तान में शनिवार से 2019 वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप की शुरुआत हुई जहां पहले दिन ग्रेको रोमन मुक़ाबले में भारत की सारी उम्मीद धराशाई हो गई। हालांकि भारत को ग्रेको रोमन से बहुत ज़्यादा उम्मीदें नहीं थीं क्योंकि भारत की असली दावेदारी विमेंस रेसलिंग और फ़्रीस्टाइल रेसलिंग में है। लेकिन ग्रेको रोमन में एशियन चैंपियनशिप के सिल्वर मेडलिस्ट हरप्रीत सिंह और 55 किग्रा वर्ग में मनजीत सिंह से आस ज़रूर थी।

55 किग्रा वर्ग में पांचवीं सीडेड मनजीत सिंह को अज़ेरबाइजान के एलदानीज़ अज़ीज़ली से 0-8 से हार का सामना करना पड़ा। एलदानीज़ अज़ीज़ली मौजूदा वर्ल्ड चैंपियन भी हैं। मंजीत की उम्मीदें रेपेचेज राउंड के लिए बाक़ी थी क्योंकि एलदानीज़ ने क्वार्टरफ़ाइनल मुक़ाबले में मंगोलिया के मॉंख एरदेनीन को शिकस्त देकर सेमीफ़ाइनल में एंट्री ले ली थी। लेकिन सेमीफ़ाइनवल मुक़ाबले में कज़ाख़़्सतान के ख़ोरलाव ज़ाकान्शा से 11-5 से हार गए।

तो वहीं 72 किग्रा वर्ग में अमेरिका के रेमंड बंकर से योगेश एक कांटे के मुक़ाबले में 5-6 से हार गए। योगेश की रेपेचेज राउंड की भी उम्मीदों पर तब पानी फिर गया जब अमेरिका के रेमंड बंकर अगले दौर में बुलगारिया के एईक मत्साकनियन से 2-6 से हार गए।

इससे पहले 63 किग्रा वर्ग में भारत के सागर को कज़ाख़स्तान के अलमत केबिसपाए से 0-9 से हार का सामना करना पड़ा। हालांकि सागर की उम्मीदें अभी भी रेपेचेज राउंड के लिए ज़िंदा थी क्योंकि केबिसपाए ने क्वार्टरफ़ाइनल में तुर्की के रहमान बिलची को 7-4 से हराकर सेमीफ़ाइनल में प्रवेश कर लिया था। पर ये उम्मीद भी तब ख़त्म हो गई जब सेमीफ़ाइनल में केबिसपाए को जापान के पहलवान शिनोबु ओटा ने 10-1 से हरा दिया।

जबकि भारत की सबसे बड़ी उम्मीदों में से एक 82 किग्रा वर्ग में एशियन चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता और 12वीं सीडेड हरप्रीत सिंह क्ज़ेच रिपब्लिक के पहलवान पीटर नोवाक से 0-7 से आसानी से हार गए।  हरप्रीत की रेपेचेज राउंड की उम्मीद भी तब ख़त्म हो गई जब पीटर नोवाक अगले राउंड में ईरान के सईद अब्देवाली से हार गए।

ग्रेको रोमन में भारत के 4 और पहलवानों का मुक़ाबला रविवार को होगा, जिसमें मनीष (60 किग्रा), ,सुनील कुमार (87 किग्रा), रवि (97 किग्रा) और नवीन (130 किग्रा) चिनौती देंगे। इसके बाद भारतीय चुनौती 17 सितंबर से विमेंस रेसलिंग में शुरू होगी जबकि मेंस फ़्रीस्टाइल के मुक़ाबलों की शुरुआत 20 सितंबर से होगी। विमेंस रेसलिंग में जहां सभी की उम्मीदें विनेश फ़ोगाट और साक्षी मलिक से हैं तो मेंस फ़्रीस्टाइल में बजंरग पुनिया के साथ साथ वापसी कर रहे सुशील कुमार पर भी निगाहें होंगी।