मंगलवार, सितम्बर 29, 2020
होम कुश्ती वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप: इतिहास रचने से चूक गई पूजा ढांडा, बजरंग पूनिया...

वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप: इतिहास रचने से चूक गई पूजा ढांडा, बजरंग पूनिया और रवि कुमार को टोक्यो का टिकेट

कज़ाख़्सान के नूर- सुल्तान में चल रही वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप का छठा दिन भारत के लिए मिला जुला रहा, जहां बजरंग पूनिया (65 किग्रा) और रवि कुमार (57 किग्रा) मेंस फ़्री स्टाइल के सेमीफ़ाइनल तक पहुंचते हुए टोक्यो ओलंपिक का टिकेट हासिल किया। वहीं 59 किग्रा वर्ग में भारतीय महिला पहलवान पूडा ढांडा लगातार दूसरी बार वर्ल्ड चैंपियनशिप में पदक जीतने का रिकॉर्ड बनाने से चूक गईं।

पूजा को सेमीफ़ाइनल में चाइना की पहलवान झिंगरू पाई ने शिकस्त दी, पाई ने पूजा को 5-3 से मात दी, अगर पूजा की जीत होती तो वह लगातार दो बार वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बन जातीं। इससे पहले पूजा ने पिछली बार 2018 में बुडापेस्ट में हुए वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में उन्होंने कांस्य पदक जीता था, तब पूजा ने 57 किग्रा वर्ग में भारत के लिए पदक पर कब्ज़ा जमाया था।

कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 में भी पूजा ढांडा को मिला था रजत पदक

वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में गुरुवार को भारत की कई उम्मीदें मैट पर पदक की ज़ोरआज़माइश के लिए लगी थीं। जहां बजरंग पूनिया और रवि कुमार ने सेमीफ़ाइनल में जगह बना ली है यानी इन दोनों ही भारतीय पहलवानों को टोक्यो ओलंपिक का टिकट मिल गया है। विनेश फ़ोगाट के बाद ये तीसरे पहलवान हैं जिन्होंने टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफ़ाई कर लिया है।

हालांकि रवि कुमार सेमीफ़ाइनल की लाइन नहीं क्रॉस कर पाए जहां उन्हें रूस के पहलवान उगुएव से 4-6 से हार का सामना करना पड़ा। रवि अब शुक्रवार को कांस्य पदक के मुक़ाबले के लिए मैट पर उतरेंगे, रवि ने टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफ़ाई कर लिया है।

रवि के बाद अब सेमीफ़ाइनल मुक़ाबले में बजरंग पूनिया का सामना कज़ाख़स्तान के पहलवान नियाजबेकोव डी के साथ था, जहां शुरुआत में कज़ाख़स्तान के पहलवान ने 9-4 से बढ़त बना ली थी, लेकिन फिर बजरंग ने वापसी करते हुए स्कोर 9-9 तक ला दिया था। बेहद रोमांचक मुक़ाबले में आख़िरी लम्हों में रेफ़री ने जीत कज़ाख़स्तान के पहलवान को दे दी और इस तरह से बजरंग पूनिया को अब शुक्रवार को कांस्य पदक के लिए रिंग में उतरना होगा।

साथ ही साथ नज़र है पूजा ढांडा पर भी, जो 59 किग्रा वर्ग में पूजा सेमीफ़ाइनल तक पहुंचकर हार गईं थी इसलिए उन्हें अब कांस्य पदक के लिए मैट में उतरना है। लेकिन भारत के लिए निराशाजनक ये है कि रियो ओलंपिक में भारत को पदक दिलाने वाली साक्षी मलिक का सफ़र थम गया और उन्हें रेपेचेज राउंड में भी जाने का मौक़ा नहीं मिला क्योंकि उन्हें हराने वाली नाइजीरियन पहलवान अमीनात भी हार कर बाहर हो गईं।

ये भी पढ़ें: कैसे विनेश ने बुधवार को दिलाया पहला पदक और आज पूजा रच सकती हैं इतिहास

इससे पहले साक्षी का मुक़ाबला नाइजीरिया की पहलवान अमीनत अदिनी से था, लेकिन पहले ही दौर में नाइजीरिया की ये पहलवान साक्षी पर भारी पड़ी और उन्हें 10-7 से करारी शिकस्त दी। अब साक्षी और भारतीय फ़ैन्स यही दुआ कर रहे थे कि नाइजीरिया की ये पहलवान फ़ाइनल तक पहुंचे ताकि साक्षी को रेपेचेज के ज़रिए एक और मौक़ा मिल सके। लेकिन ऐसा हो न सका और नाइजाीरियाई पहलवान का सफ़र फ़ाइनल से पहले ही थम गया और इस तरह से भारत को एक बड़ा झटका लगा।

महिला वर्ग में ही 62 किग्रा में भारत की दिव्या काकरण का सामना जापान की रेसलर सारा दोशो से हुआ, जहां भारतीय पहलवान को पहले ही मैच में 0-2 से हार का सामना करना पड़ा। सारा दोशो रियो ओलंपिक की गोल्ड मेडलिस्ट हैं, जिनसे दिव्या को 0-2 से हार मिली। अब दिव्या की उम्मीद थी कि सारा फ़ाइनल तक पहुंचे ताकि उन्हें रेपेचेज में मौक़ा मिल सके, लेकिन सारा क्वार्टर फ़ाइनल में अमेरिकी पहलवान से हार गईं और इस तरह से दिव्या काकरण के रेपेचेज राउंड की उम्मीद भी ख़त्म हो गई।

भारत की सबसे बड़ी उम्मीदों में से एक बजरंग पूनिया भी आज मैट पर ज़ोरआज़माइश करने के लिए उतरे और उन्होंने 65 किग्रा वर्ग में पोलैंड के क्रिस्टोफ़ बाइन्कोस्की को एकतरफ़ा मुक़ाबले में 9-2 से रौंद डाला।

बजंरग पूनिया अपने दूसरे मैच में धमाकेदार अंदाज़ में नज़र आए, इस बार पूनिया के सामने थे स्लोवेनिया के हाबट डी जिन्हें भी बजरंग को हराने में ज़्यादा परेशानी नहीं हुई और इस भारतीय पहलवान ने मुक़ाबला 3-0 से अपने नाम करते हुए क्वार्टर फ़ाइनल में प्रवेश कर लिया था। क्वार्टर फ़ाइनल में भी बजंरग पूनिया ने अपने प्रतिद्वंदी पर शानदार जीत करते हुए सेमीफ़ाइनल में जगह बनाई और साथ गही साथ टोक्यो ओलंपिक का भी टिकट हासिल कर लिया।

इसके बाद मेंस फ़्रीस्टाइल में 57 किग्रा वर्ग में रवि कुमार की टक्कर कोरिया के किम संगवोन से हुई और इस मैच में भी भारतीय पहलवान ने धमाकेदार तरीक़े से 11-0 से मुक़ाबला अपने नाम करते हुए इरादे साफ़ कर दिए थे।

रवि कुमार का ये शानदार सफ़र यहीं नहीं रुका रवि ने अपने अगले मुक़ाबले में अरमेनिया के पहलवान हारुच्यूनयान को बेहतरीन अंदाज़ में मात दी, रवि शुरुआत में 0-4 से पीछे थे और इसके बाद उन्होंने वापसी करते हुए अरमेनिया के पहलवान को 17-6 से रौंद डाला। इस जीत के साथ ही रवि ने भी बजरंग पूनिया के बाद क्वार्टर फ़ाइनल में प्रवेश कर लिया था।

रवि कुमार का बड़ा धमाका अभी बाक़ी था जब उन्होंने पूर्व वर्ल्ड चैंपियन जापान के ताकाहाशी को धमाकेदार अंदाज़ में क्वार्टर फ़ाइनल में 6-1 से हराते हुए न सिर्फ़ सेमीफ़ाइनल में जगह बनाई बल्कि उससे अहम ये कि रवि टोक्यो ओलंपिक में क्वालिफ़ाई करने वाले विनेश फ़ोगाट के बाद अब दूसरे भारतीय पहलवान बन गए हैं।