Begin typing your search above and press return to search.

ताज़ा ख़बर

अंडर 16 स्नूकर वर्ल्ड चैम्पियनशिप में जीता पदक, पिता को किया समर्पित

अंडर 16 स्नूकर वर्ल्ड चैम्पियनशिप में जीता पदक, पिता को किया समर्पित
X
By

P. Divya Rao

Published: 26 Aug 2019 6:37 AM GMT

शनिवार को रूस में हुए IBSF अंडर - 16 वर्ल्ड चैम्पियनशिप में चंडीगढ़ के रणवीर दुग्गल ने कांस्य पदक जीत कर भारत का नाम रोशन किया| पदक जीतने के बाद वह खुद के आँसू को रोक नहीं पाए और उनकी माँ जसविंदर कौर के गले लग गए| भले ही वह सेमीफइनल्स में अंटोनी कोलवेस्की से 1 - 4 से हार गए हों पर यह पहली बार है कि चंडीगढ़ के किसी जूनियर खिलाड़ी ने यह मुकाम हासिल किया है

दरअसल करीब 4 साल पहले रनवीर के पिताजी, संदीप दुग्गल, जो खुद भी एक नेशनल चैम्पियन रह चुके हैं, उनका देंहात हो गया था| इसलिए रणवीर ने अपनी ये जीत पिता को समर्पित कर दी।

6 साल की उम्र से शुरू किया नेशनल टूर्नामेंट्स में भाग लेना
6 साल की उम्र से शुरू किया नेशनल टूर्नामेंट्स में भाग लेना

" मैं और मेरी फॅमिली बहुत खुश है| मेरे पापा हमेशा से चाहते थे कि मैं भारत के लिए पदक जीतूं| जब मैंने मेडल जीता तो मेरी माँ ने भारत का झंडा ऊँचा किया और मैं भावुक हो गया| एक साथ हमने उस समय पापा को याद किया| मुझे यकीन है कि वह मुझे देख रहे होंगे और गर्वान्वित महसूस कर रहे होंगे| अगर वो ज़िंदा होते, तो यह उनकी ज़िन्दगी की सबसे बड़ी ख़ुशी होती|" - रणवीर दुग्गल, स्नूकर खिलाड़ी

नौवीं कक्षा में पढ़ रहे रणवीर केवल 6 साल की उम्र में नेशनल पूल चैम्पियनशिप में खेलने वाले भारत के पहले खिलाड़ी बन गए थे| बाद में 2011 वह चंडीगढ़ के जूनियर और सब जूनियर चैम्पियन भी बने|

इस वर्ल्ड जूनियर चैम्पियनशिप में रणवीर ने केवल एक फ्रेम में हार कर बाकी सभी फ्रेम में जीत हासिल करी| आयरलैंड के जैक न्यूमैन को 3 - 0 से हरा कर आगे बढ़े और आयरलैंड के ही लियॉन करवले को 4 - 0 से हरा कर सेमीफइनल्स में जगह बनाई|

"रूस में सबसे बड़ी दिक्कत मौसम की होती है| भले ही हम इंडोर खेल रहे हों पर ज़्यादातर टाइम बाहर रहते हैं, जिसके कारण हमें एडजस्ट करने में दिक्कत होती है| पर मैं लीग के टॉप में में था तो वह मेरे कॉन्फिडेंस के लिए अच्छा था|"

Next Story
Share it