शुक्रवार, सितम्बर 25, 2020
होम कबड्डी प्रो कबड्डी मैच 104: 'उड़न कंडोला' पर सवार हरियाणा ने अकेले पड़े...

प्रो कबड्डी मैच 104: ‘उड़न कंडोला’ पर सवार हरियाणा ने अकेले पड़े परदीप की पटना को दी मात

सोमवार को जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में प्रो कबड्डी सीज़न के मैच नंबर 104 में हरियाणा स्टीलर्स ने पटना पायरेट्स को 39-34 से शिकस्त दे दी। हरियाणा के लिए इस जीत के हीरो एक बार फिर विकास कंडोला (13 रेड प्वाइंट्स) रहे जिन्होंने सीज़न का 8वां सुपर-10 हासिल किया। विकास का अच्छा साथ निभाया प्रशांत कुमार राय ने जिन्हें 8 रेड प्वाइंट्स मिले। पटना पायरेट्स की ओर से एक बार फिर परदीप नरवाल (17 रेड प्वाइंट्स) ने लगातार 8वां सुपर-10 लगाते हुए भरपूर कोशिश की और 14 रेड प्वाइंट्स लिए लेकिन परदीप को डिफ़ेंस का कोई साथ नहीं मिल। पटना की ओर से 20 से ज़्यादा असफल टैकल हुए और यही पटना की हार का कारण बना।

आर्टिकल 370 ख़त्म होने के बाद जानिए इस कश्मीरी बास्केटबॉल खिलाड़ी के साथ क्या हुआ ?

पहले हाफ़ की शुरुआत पटना और हरियाणा दोनों ही टीमों ने सूझ बूझ और संभल कर खेल रही थी। पटना की बागडोर एक बार फिर परदीप नरवाल के कंधों पर थी और वह प्वाइंट्स ला रहे थे। लेकिन हरियाणा का डिफेंस भी रंग में था, नतीजा ये हुआ कि पटना को ऑलआउट करते हुए हरियाणा ने मैच पटना से दूर ले जाने की कोशिश की। हालांकि, पटना ने भी शानदार वापसी करते हुए ऑलआउट का फ़ायदा हरियाणा को नहीं लेने दिया, इसका श्रेय एक बार फिर जाता है परदीप नरवाल को जिन्होंने पहले हाफट में 6 रेड प्वाइंट्स लिया और इसमें 4 बोनस प्वाइंट्स थे। इस सीज़न परदीप ने अपना 25 बोनस प्वाइंट्स भी छू लिया है। हरियाणा की ओर से विकास कंडोला और प्रशांत राय ने मिलकर हाफ़ टाइम तक 9 रेड प्वाइंट्स हासिल किया था। हाफ़ टाइम तक स्कोर 17-15 था, यानी हरियाणा को दो अंकों की बढ़त हासिल थी।

3 टीम जिनके ऊपर प्ले-ऑफ़्स से बाहर होने का ख़तरा मंडरा रहा है

दूसरे हाफ़ की शुरुआत हरियाणा ने धमाकेदार अंदाज़ में की और तुरंत ही परदीप का शिकार करते हुए पटना को गहरा आघात पहुंचा दिया था। जब तक परदीप मैट से बाहर थे तब तक हरियाणा उड़न कंडोला पर सवार एक के बाद एक प्वाइंट्स लेते हुए पटना को दूसरी बार ऑलआउट कर दिया था। हरियाणा अब 27-21 से आगे था, और विकास कंडोला ने सीज़न का 8वां सुपर-10 पूरा कर लिया था। लेकिन पटना अब ऑलइन हो चुकी थी और आते ही परदीप ने इस सीज़न की एक और सुपर रेड लगाते हुए 4 शिकार एक साथ बनाया और इस सीज़न का लगातार 8वां सुपर-10 पूरा किया और अपने करियर का 56वां सुपर-10 था। अब पटना एक बार फिर वापस आ गई थी और स्कोर 28-26 हो गया था। लेकिन दूसरी तरफ़ से पटना का डिफ़ेंस बेहद निराशाजनक प्रदर्शन करता आ रहा था, एक तरफ़ लगातार प्वाइंट्स ला रहे थे और दूसरी तरफ़ पटना के डिफ़ेंडर उसे बर्बाद करते जा रहे थे। नतीजा ये हुआ कि अब 6 मिनट का समय बचा था और पटना फिर 26-33 से पीछे हो गई थी। यहां से हरियाणा कोई ग़लती नहीं की और पटना के डिफ़ेंस ने ग़लतियां पर ग़लतियां करते हुए परदीप की मेहनत बेकार कर दी, और जैसे ही व्हिसल बजी हरियाणा ने पटना को 5 अंकों से मात दे दी थी।

वीवो प्रो कबड्डी इतिहास में हरियाणा स्टीलर्स की पटना पायरेट्स पर ये 5 मैचों में तीसरी जीत है और इस सीज़न में लगातार दूसरी। इस जीत के बाद अंक तालिका में 17 मैचों में 59 अंकों के साथ हरियाणा तीसरे नंबर पर बरक़रार हैं। जबकि इस हार के बाद पटना को एक अंक ज़रूर मिले जिससे वह 39 अंकों के साथ 9वें स्थान पर चले गए हैं।