मंगलवार, सितम्बर 29, 2020
होम ताज़ा ख़बर BWF वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में सिंधु ने भारत का पहला पदक किया...

BWF वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में सिंधु ने भारत का पहला पदक किया पक्का, वर्ल्ड नंबर-2 को हराया

स्विट्ज़रलैंड में खेले जा रहे BWF वर्ल्ड चैंपियनशिप के महिला सिंगल्स क्वार्टर फ़ाइनल में शुक्रवार को भारत की सबसे बड़ी उम्मीद और पिछले साल की रनर अब पी वी सिंधु ने चाइनीज़ ताईपी की ताई ज़ू विंग को एक घंटे 11 मिनट चले कांटे के मुक़ाबले में 12-21, 23-21 और 21-19 से हराकर पदक पक्का कर लिया। पीवी सिंधु विश्व वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में सबसे ज़्यादा पदक जीतने वाली दुनिया की दूसरी महिला हो गईं हैं, सिंधु के नाम ये पांचवां पदक होगा जबकि चीन की ज़ैन्ग निंग के नाम भी 5 पदक थे।

साथ ही साथ ताई ज़ू विंग की ये लगातार पांचवीं क्वार्टर फ़ाइनल में हार है, वह दो साल तक वर्ल्ड नंबर-1 रहीं हैं लेकिन वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में कभी भी पदक जीत नहीं पाईं और आज भी सिंधु ने उनकी उम्मीदों को ख़त्म कर दिया। भारत के लिए और अच्छी ख़बर ये है कि 2011 के बाद से लगातार वर्ल्ड चैंपियनशिप में भारत के लिए किसी न किसी महिला ने पदक लाया ही है।

पहले गेम की शुरुआत से ही दुनिया की नंबर-2 शटलर ताई ज़ू ने अपनी पकड़ मैच में बना ली थी और हाफ़ टाइम तक उन्होंने 11-4 की बढ़त हासिल कर ली थी। हालाँकि ब्रेक के बाद सिंधु ने कुछ अच्छे और दमदार शॉट्स लगाते हुए उम्मीद ज़रूर जगाई थी लेकिन ताई का खेल कहीं आगे लग रहा था और पहला गेम ताई ज़ू विंग ने आसानी से महज़ 15 मिनट में 21-12 से अपने नाम कर लिया था।

पहला गेम 15 मिनट में 21-12 से ताई ज़ू विंग ने जीता

अब अगर मैच में बने रहना था तो सिंधु को दूसरा गेम जीतना ही था। दूसरे गेम की शुरुआत सिंधु ने मैच की 38 शॉट्स वाली सबसे लंबी रैली करते हुए पहला प्वाइंट लिया और तुरंत ही एक और अंक लेते हुए बढ़त 2-0 की कर दी थी। लेकिन तुरंत ही ताई ने वापसी करते हुए स्कोर बराबर कर दिया और अब बढ़त ताई की हो गई थी। सिंघु भी इस गेम में कड़ी टक्कर दे रहीं थी, हाफ़ टाइम तक स्कोर 11-9 से सिंधु के पक्ष में था। इसके बाद ताई ज़ू ने लाजवाब वापसी करी और एक एक अंक की लड़ाई दिख रही थी लेकिन आख़िरकार पी वी सिंघु ने 28 मिनट में दूसरा गेम 23-21 से जीत लिया। अब सभी की नज़रे तीसरे और निर्णायक गेम पर थीं।

दूसरा गेम 28 मिनट तक चला सिंधु ने 23-21 से जीता

तीसरे और निर्णायक गेम की की शुरुआत पी वी सिंधु ने अंक लेते हुए की लेकिन तुरंत ही ताई ज़ू ने वापसी करते हुए बढ़त बना ली थी, हालांकि हाफ़ टाइम तक सिंधु ने कड़ी टक्कर देते हुए स्कोर 9-11 पर ख़त्म किया। इसके बाद सिंधु ने कमाल का खेल दिखाते हुए तीसरा और निर्णायक गेम भी 28 मिनट में 21-19 से जीतते हुए इतिहास रच दिया। इस जीत के साथ ही पी वी सिंधु सेमीफ़ाइनल में पहुंच गई हैं, यानी अगर वह जीतें या हारें एक पदक भारत का पक्का हो गया है।