मंगलवार, सितम्बर 29, 2020
होम एथलेटिक्स डोपिंग से बरी देविंदर सिंह कांग ने भारतीय टीम में फिर से...

डोपिंग से बरी देविंदर सिंह कांग ने भारतीय टीम में फिर से बनाई जगह

विश्व संचालन संस्था की एथलीट नैतिकता इकाई द्वारा डोपिंग के मामले में आरोपी पाए जाने के बाद बरी होने वाले भाला फेंक एथलीट देविंदर सिंह कांग को फिर से राष्ट्रीय टीम का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिल गया है। कांग को 21 अप्रैल से दोहा में शुरू होने वाली एशियाई चैम्पियनशिप के लिये 43 खिलाड़ियों की भारतीय टीम में चुना लिया गया है। दरअसल मूत्र नमूने में एनाबोलिक स्टेराइड पाये जाने के बाद 30 वर्षीय कांग पर 2017 में अस्थायी निलंबन लगाया गया था। हालांकि उन्हें हाल ही में एआईयू और वाडा द्वारा डोपिंग आरोपों से बरी कर दिया गया।

गौरतलब है कि कांग का देश के भाला फेंक एथलीट में काफी नाम है। कांग का व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 82.16 मीटर का है, लेकिन वह सत्र में डोपिंग के आरोपों के हटाये जाने के बाद दो प्रतियोगिताओं में भारतीय एथलेटिक्स महासंघ के क्वालीफाइंग मानक 80.75 मीटर तक नहीं पहुंच सके। दोहा में शुरू होने वाले चैंपियनशिप के लिए इस टीम में स्टार भाला फेंक और राष्ट्रीय रिकार्डधारी नीरज चोपड़ा नहीं होंगे क्योंकि उन्हें कोहनी की चोट लगी है।

एएफआई ने पहले 21 से 24 अप्रैल तक होने वाली चैम्पियनशिप के लिये 51 सदस्यीय टीम की घोषणा की थी लेकिन 23 खिलाड़ियों का चयन 13 अप्रैल को पटियाला में होने वाले ट्रायल के बाद ही होना था। लेकिन अब इस टीम के सदस्यों की गिनती 43 कर दी गई है। इसके अलावा एशियाई खेलों में 800 मीटर के स्वर्ण पदकधारी मंजीत सिंह चोट के कारण ट्रायल्स में नहीं आ सके, उनकी जगह केरल के मोहम्मद अफजल को चुना गया।

महिलाओं की चार गुणा 400 मीटर रिले में प्राची को जिस्ना मैथ्यू की जगह टीम में चुना गया। पुरूषों की 400 मीटर बाधा दौड़ के राष्ट्रीय रिकार्डधारी धारून अयासैमी भी चोटिल होने के कारण टीम में नहीं हैं। अनुभवी स्टीपलचेज सुधा सिंह को एएफआई ने चुना था लेकिन पता चला है कि खेल मंत्रालय ने उनके नाम की पुष्टि करने से इनकार कर दिया।