मंगलवार, सितम्बर 29, 2020
होम अन्य चुनाव आयोग के ब्रांड अम्बेसडर राहुल द्रविड़ नहीं दे पाएंगे वोट

चुनाव आयोग के ब्रांड अम्बेसडर राहुल द्रविड़ नहीं दे पाएंगे वोट

कर्नाटक राज्य चुनाव आयोग के ब्रांड अम्बेसडर राहुल द्रविड़ लोकसभा चुनाव 2019 में वोट नहीं दे पाएंगे। टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक हाल ही में घर बदलने वाले राहुल द्रविड़ का नाम वोट लिस्ट से मिटा दिया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक द्रविड़ और विजेता ने हाल ही में बेंगलुरु के इंदिरानगर में स्थित अपना घर छोड़कर बेंगलुरु के ही अश्वतनगर में शिफ्ट कर लिया था। घर बदलने के बाद द्रविड़ ने माथीकेरे स्थित सब-डिविजन ऑफिस, जहां उनका नया घर है, की वोटर लिस्ट में अपना नाम शामिल करने का फॉर्म नहीं भरा था।

इंडियन क्रिकेट टीम के पूर्व कैप्टन द्रविड़ के भाई विजय ने उनके द्वारा घर बदलने के बाद 31 अक्टूबर 2018 को फॉर्म भरकर उन लोगों का नाम पहले की वोटर लिस्ट से हटवा दिया था। द न्यूज मिनट के मुताबिक परिवार के सदस्य फॉर्म भरकर वोटर लिस्ट से नाम कटवा तो सकते हैं लेकिन वोटर लिस्ट में नाम शामिल करने के लिए वोटर को खुद से फॉर्म भरना पड़ता है।

एडिशनल चीफ इलेक्टोरल ऑफिसर KN रमेश ने द न्यूज मिनट से कहा, ‘द्रविड़ को 16 मार्च से पहले फॉर्म 6 जमा करना था, इसके बाद कुछ नहीं हो सकता।’ गौरतलब है कि 16 मार्च को ही बेंगलुरु की फाइनल वोटर लिस्ट आई थी। रमेश ने आगे कहा, ‘हमें इसके बारे में निर्वाचक नामावली (electoral rolls) फाइनल करने के बाद ही पता चला। हमारे ऑफिसर निश्चित तौर पर उनके घर गए होंगे और अगर उस वक्त उन्होंने हमें बताया होता कि इंदिरानगर की लिस्ट से उनका नाम मिटा दिया गया है, तो हमने कुछ ना कुछ जरूर किया होता।’

माथीकेरे सब-डिविजन की असिस्टेंट इलेक्टोरल रिटर्निंग ऑफिसर रूपा ने द टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए कहा कि बूथ-लेवल के ऑफिसर्स द्रविड़ के घर गए थे। रूपा ने कहा, ‘हमारे ऑफिसर्स दो बार उनके घर गए थे लेकिन हमें अंदर नहीं जाने दिया गया। हमें बताया गया कि द्रविड़ अभी विदेश में हैं और उनकी तरफ से वोटर लिस्ट में उनका नाम शामिल करने के लिए कोई संदेश नहीं दिया गया है।’

आश्चर्यजनक बात यह है कि पूर्व इंडियन कैप्टन और इंडियन अंडर-19 टीम के मौजूदा कोच राहुल द्रविड़ चुनाव आयोग द्वारा लोगों को वोट डालने के लिए चलाई गई मुहिम का अहम हिस्सा था। लोगों से वोट डालने की अपील करने वाले उनके पोस्टर्स आज भी दीवारों पर देखे जा सकते हैं।