रविवार, नवम्बर 29, 2020
होम टेनिस EXCLUSIVE: मैं कब तक खेलती रहूंगी आख़िर मेरी भी जगह किसी को...

EXCLUSIVE: मैं कब तक खेलती रहूंगी आख़िर मेरी भी जगह किसी को लेनी होगी- सानिया मिर्ज़ा

भारतीय टेनिस ने देश को लिएंडर पेस, महेश भूपति जैसे कई अच्छे खिलाड़ी दिए। लेकिन अगर देश में महिला टेनिस खिलाड़ी के बारे में कभी भी नाम लिया जाता है तो सबसे पहले सानिया मिर्जा का नाम सबसे ऊपर आता है। सानिया इन दिनों टेनिस कोर्ट से दूर हैं। वह अपनी निजी जिंदगी में अच्छा खासा आनंद उठा रही हैं। भारत को कई बार टेनिस कोर्ट पर गर्व महसूस कराने वाली सानिया मां बनने के बाद देश के हर भारतीय नारी को अहसास दिला रही हैं कि महिलाएं अपने काम के साथ अपने पारिवारिक जिंदगी को कैसे बेहतर तरीके से चला सकती हैं।

अब सानिया एक बार फिर से टेनिस कोर्ट पर वापसी करना चाहती है। जिसके लिए वह कड़ी मेहनत भी कर रही हैं। सानिया एक बार फिर हर भारतीय को अपने टेनिस रैकेट से गर्व महसूस कराना चाहती हैं। द ब्रिज ने सानिया से बातचीत कर जानना चाहा कि वह फिर कब वापसी करना चाहती हैं और इसके लिए वह किस प्रकार से समय निकाल कर योजनाएं बना रही हैं।

Sania Mirza with son Izhaan
अपने बेटे के साथ सानिया मिर्ज़ा

सानिया ने द ब्रिज हिन्दी के सााथ अपनी वापसी को लेकर बातचीत करते हुए कहा “मैंने अपनी तैयारी की वापसी में जुटी हूं। जिसके लिए मैं घंटो जिम और टेनिस कोर्ट पर बीता रही हूं। आप लोगों को पता है कि मां होना कितनी जिम्मेदारी की बात है । मेरा बेटे एक साल का हो गया है। जिसकी देख-रेख अच्छे से हो रही है। अगर सब कुछ अच्छा रहा तो मैं ऑस्ट्रेलियन ओपन से कोर्ट पर वापसी कर सकती हूं”।

भारत और पाकिस्तान के बीच इन दिनों रिश्ते अच्छे नहीं है। कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद वैश्विक स्तर पर पाकिस्तान भारत का विरोध कर अपनी घटिया मानसिकता जाहिर कर रहा है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अपने ओछी हरकतों की वजह से भारत के साथ तनावपूर्ण रिश्तों को बढ़ा रहे हैं। पड़ोसी देश के साथ खराब संबंधों की वजह से किसी भी तरह के खेल का रिश्ता रखना भारत के लिए अच्छा नहीं है। एक तरफ जहां पाकिस्तान भारत के साथ खेल चाहता है वहीं दूसरी तरफ आतंकवाद को बढ़ावा देकर नफरत फैलाना चाहता है। हमने सानिया मिर्जा से जानना चाहा कि क्या भारतीय टीम को डेविस कप खेलने पाकिस्तान जाना चाहिए। जिसका जवाब देते हुए सानिया ने इस मुद्दे पर बात करने से मना कर दिया। सानिया ने द ब्रिज से कहा कि मै इस बारे में कोई राय नहीं रखती। हालांकि सानिया का इस सवाल पर जवाब ना देना भी अपने आप में कई सवाल खड़े करता है। एक तरफ देश में तमाम क्रिकेटर और दूसरे खेल के खिलाड़ी पाकिस्तान के साथ खेल संबंध नहीं चाहते है। वहीं दूसरी तरफ सानिया ने इस मुद्दे पर अपनी राय रखना भी सही नहीं समझा।

गौरतलब है कि भारत-पाकिस्तान के बीच आपसी मतभेद के चलते प्रतियोगिता को न्य्ट्रल वेन्यू पर ले जाने के लिए बात चल रही है। जिसको लेकर विश्व टेनिस संघ 4 नवंबर को कोई फैसला सुनाएगा। पाकिस्तान में डेविस कप के आयोजन को लेकर काफी मतभेद चल रहा है। महेश भूपति जैसे कई दिग्गज टेनिस खिलाड़ियों का कहना है कि हमारे लिए अपने खिलाड़ियों की सुरक्षा सर्वप्रथम है।

पाकिस्तान के साथ खेल संबंधों के बाद सानिया से जब द ब्रिज ने हाल ही में रोजर फेडरर के साथ यूएस ओपन में अपना एकल मैच खेलने वाले सुमित नागल के बारे में उनकी राय जाननी चाही कि वो किस स्तर के खिलाड़ी हैं और उनका भविष्य कैसे है तो सानिया ने कहा “सुमित नागल एक बेहतरीन खिलाड़ी हैं। पिछले 5 सालों से नागल के बारे में मैं महेश भूपति से सुनती आ रही हूं। मैं उनके मौजूदा प्रदर्शन से काफी खुश हूं। अच्छा लगता है जब ऐसे खिलाड़ी अच्छा करते हुए विश्व स्तरीय रैंकिंग में अपनी जगह बनाते हैं। उनकी कद ज्यादा नहीं है। बावजूद इसके वो अपनी स्पीड से पूरा कोर्ट कवर करते हैं।”

बता दें कि सुमित नागल अचानक से चर्चा का विषय उस समय बन गए जब उन्होंने दुनिया के महान टेनिस खिलाड़ी रोजर फेडरर के खिलाफ मुकाबला खेलते हुए उन्हें पहले सेट में हरा दिया था। एटीपी की ताजा रैंकिंग में नागल को 129वां स्थान दिया गया। टॅाप-100 के बारे में बात करें तो भारत के एकमात्र खिलाड़ी प्रजनेश गुणेश्वरन है जिन्हें 82वां स्थान प्राप्त है। हाल ही में यूएस ओपन के दौरान महेश भूपति का बयान आया था। जिसमें उन्होंने कहा था कि फेडरर के खिलाफ नागल ने काफी धैर्य पूर्वक खेला। महेश भूपति डेविस कप टीम की कप्तान है।

भारत की उभरती हुई महिला खिलाड़ी जैसे अंकिता रैना और करमन कौर ठांडी के बारे में जब द ब्रिज ने उनकी राय को जानना चाहा तो सानिया मिर्जा ने जवाब देते हुए कहा कि “यह खिलाड़ी भारत का भविष्य हैं। ये अब युवा खिलाड़ी नहीं रही, बड़ी हो चुकी हैं। इन्हें अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी, लेकिन जैसे की मैंने पहले कहा कि इन खिलाड़ी को आगे के बारे में सोचना होगा। यह खिलाड़ी शीर्ष-200 खिलाड़ी की रैंकिंग में आ चुकी हैं। जो सुनहरे भविष्य के लिए अच्छे संकेत हैं”।

जाहिर है देश में कई युवा महिला खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं। जिससे देश में टेनिस औऱ ज्यादा लोकप्रिय होने की संभावना है। द ब्रिज ने जब सानिया से जानना चाहा कि आप किसे अगली सानिया मिर्जा बनते हुए देख रही हैं? तो उन्होंने जवाब देते हुए  कहा कि “मुझे नहीं लगता है इस प्रकार का दबाव किसी के उपर थोपने की जरूरत है। करमन जैसे खिलाड़ी के पास अच्छी कद-काठी है। हां भले ही कुछ समय से चोटिल हैं लेकिन मुझे लगता है कि वो भविष्य में एक बड़ी खिलाड़ी उभरकर सामने आएंगी”।

इसके अलावा सानिया ने कहा कि “मै भी आखिर कब तक खेलती रहूंगी। आखिर मेरी भी जगह किसी को लेनी होगी”।