Begin typing your search above and press return to search.

टेबल टेनिस

भारत ने खोया उभरता हुआ टेबल टेनिस खिलाड़ी, दुर्घटना में हुई मौत

कल शाम युवा टेबल टेनिस खिलाड़ी विश्व दीनदयालन की एक दुखद सड़क दुर्घटना में मौत हो गयी

Vishwa Deenadayalan Table Tennis
X
By

Amit Rajput

Updated: 2022-04-18T14:05:38+05:30

कल शाम भारत के खेल जगत के लिए बुरी खबर आयी। कल शाम युवा टेबल टेनिस खिलाड़ी विश्व दीनदयालन की एक दुखद सड़क दुर्घटना में मौत हो गयी। दीनदयालन तमिलनाडु के रहने वाले थे। उनकी मौत की जानकारी टेबल टेनिस फेडरेशन ऑफ इंडिया ने एक बयान जारी कर दी। अपने बयान में टीटीएफआई ने कहा कि 18 वर्षीय दीनदयालन 83वें सीनियर राष्ट्रीय और अंतर-राज्यीय टेबल टेनिस चैपियनशिप में भाग लेने के लिए शिलांग जा रहे थे। इसी दौरान दुर्घटना में उनकी मौत हो गयी।

टेबल टेनिस फेडरेशन ऑफ इंडिया ने बयान में कहा ''दीनदयालन उनकी कार में उनके साथ तीन अन्य साथियो के साथ यात्रा कर रहे थे,तभी उल्टी दिशा से आ रहा एक 12-पहिया ट्रेलर, उमली चेक पोस्ट के ठीक बाद, सड़क के डिवाइडर से होकर शांगबांग्ला में टैक्सी से टकरा गया और खाई में गिर गया। घटना में टैक्सी ड्राइवर की मौके पर ही मौत हो गई। आयोजकों ने मेघालय सरकार की मदद से दीनदयालन और उनके तीन साथियों को नॉर्थ ईस्टर्न इंदिरा गांधी रीजनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एंड मेडिकल साइंसेज अस्पताल पहुंचाया। अस्पताल पहुंचने पर दीनदयालन को मृत घोषित कर दिया। जबकि दीनदयालन के तीन साथी घायल हुए है।"

मेघालय के सीएम ने जताया शोक

इस सड़क दुर्घटना पर मेघालय के सीएम कोनराड संगमा ने शोक जताया , उन्होंने शोक जताते हुए ट्वीट किया "यह जानकर दुख हुआ कि तमिलनाडु के पैडलर दीनदयालन विश्व का री भोई जिले में एक दुर्घटना के बाद निधन हो गया, जब वह हमारे राज्य में 83वीं सीनियर राष्ट्रीय टेबल टेनिस चैंपियनशिप में भाग लेने के लिए शिलांग जा रहे थे।"

शरत कमल भी खेल के मुरीद

विश्व दीनदयालन टेबल टेनिस के तेज़ी से उभरते हुए खिलाड़ी थे, उनके खेल के मुरीद टेबल टेनिस के दिग्गज खिलाड़ी शरत कमल भी थे। दीनदयालन ने बहुत ही कम उम्र में कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खिताब अपने नाम किये थे। उन्हें 27 अप्रैल से ऑस्ट्रिया के लिंज में शुरू हो रहे डब्ल्यूटीटी यूथ कंटेंडर चैंपियनशिप में भारत का प्रतिनिधित्व करना था। वे अन्ना नगर में कृष्णास्वामी टीटी क्लब से प्रशिक्षित हुए थे। दीनदयालन को रामनाथ प्रसाद और जय प्रभु राम ने ट्रेनिंग दी थी।

Next Story
Share it