गुरूवार, अक्टूबर 1, 2020
होम ताज़ा ख़बर भारतीय निशानेबाजों ने अंतरराष्टूीय आनलाइन प्रतियोगिता को सराहा

भारतीय निशानेबाजों ने अंतरराष्टूीय आनलाइन प्रतियोगिता को सराहा

आनलाइन अंतरराष्ट्रीय निशानेबाजी लोकप्रिय हो रही है क्योंकि भारत की स्टार निशानेबाज मनु भाकर सहित शीर्ष पुरुष और महिला निशानेबाज भविष्य में उस समय ऐसी और प्रतियोगिताओं के आयोजन को लेकर उत्सुक हैं जबकि कोरोना वायरस के कारण वे घरों में रहने को मजबूर हैं। निशानेबाजों ने बुधवार को अपनी तरह के पहले अंतरराष्ट्रीय आनलाइन टूर्नामेंट में हिस्सा लिया और इसे सराहा जो भारत के पूर्व राइफल निशानेबाज शिमोन शरीफ की पहल है।

विश्व कप की स्वर्ण पदक विजेता मनु ने कहा कि जब अगली आनलाइन प्रतियोगिता होती तो वह एक बार फिर इसमें हिस्सा लेंगी। मनु को हालांकि यह जानकारी नहीं थी कि अंतरराष्ट्रीय निशानेबाजी खेल महासंघ (आईएसएसएफ) ने इस साल सभी प्रतियोगिताएं रद्द कर दी हैं। दस मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में तीसरे स्थान पर रहीं मनु ने कहा, ‘‘यह शानदार पहल है क्योंकि हम कम से कम एक साथ तो हैं, हम एकजुट हैं। खेल एक बार फिर दुनिया भर के निशानेबाजों को एकजुट कर रहा है। हम अलग अलग समय क्षेत्रों में रहकर निशानेबाजी कर रहे हैं लेकिन फिर भी हम एकजुट हैं।’’

मनु ने 60 राउंड में 572 का स्कोर बनाया जो उनके स्तर के हिसाब से कम है लेकिन यह इस तरह की प्रतियोगिता में सिर्फ स्कोर मायने नहीं रखते। आनलाइन स्पर्धा में 10 मीटर में दुनिया के नंबर एक निशानेबाज दिव्यांश सिंह पंवार और दो बार के ओलंपियन संजीव राजपूत ने भी हिस्सा लिया। राजपूत ने अपनी बिल्डिंग के बेसमेंट में जगह का इंतजाम करके आनलाइन स्पर्धा में हिस्सा लिया। विश्व कप के स्वर्ण पदक विजेता राजपूत ने ट्वीट किया, ‘‘मुश्किल समय में अच्छी व्यवस्था है आनलाइन निशानेबाजी प्रतियोगिता। इसका हिस्सा बनना अच्छा है। एक महीने तक पृथक रहने के बाद प्रतिस्पर्धा की मानसिकता के साथ उतरना मुश्किल था लेकिन इसकी काफी जरूरत थी।’’

टूर्नामेंट में मेघना सजनार ने भारतीय निशानेबाजों के बीच शानदार प्रदर्शन किया और 10 मीटर एयर राइफल में 630.5 अंक के साथ दूसरे स्थान पर रहीं। मेघना ने कहा, ‘‘यह अलग तरह की स्पर्धा थी लेकिन मैंने स्थिति से सामंजस्य बैठा लिया। अनुभव काफी अच्छा था।’’ पिछले कुछ समय से अभ्यास नहीं कर रहे भारत के अमनप्रीत सिंह 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में 576 अंक के साथ शीर्ष पर रहे जबकि 575 अंक के साथ आशीष डबास ने दूसरा स्थान हासिल किया। स्पर्धा को मिली प्रतिक्रिया से शरीफ काफी खुश हैं। उन्होंने कहा, ‘‘प्रतियोगिता को मेरी उम्मीद से बेहतर प्रतिक्रिया मिली। देखिए फेसबुक पर इसे कितने लोगों ने देखा, यह संख्या 10 हजार से अधिक थी।’’ शरीफ ने कहा, ‘‘इस बार सिर्फ क्वालीफिकेशन था और अगली प्रतियोगिता, जिसे हम एक हफ्ते में आयोजित करने की योजना बना रहे हैं। हमने उसमें फाइनल के आयोजन की भी योजना बनाई है।’’