Begin typing your search above and press return to search.

अन्य

गुजरात में होंगे इस बार के नेशनल गेम्स, 2015 में आखिरी बार हुआ था आयोजन

आईओए ने यह फैसला गुजरात ओलंपिक संघ और राज्य सरकार द्वारा संयुक्त रूप से खेलों की मेजबानी में दिलचस्पी जताने के बाद लिया

गुजरात में होंगे इस बार के नेशनल गेम्स, 2015 में आखिरी बार हुआ था आयोजन
X
By

Shivam Mishra

Updated: 2022-06-30T17:09:27+05:30

देश में सात साल बाद एक बार फिर नेशनल गेम्स होने की तैयारी जोर शोर से शुरू हो चुकी हैं। खेल का 36वां संस्करण गुजरात में होना तय हुआ हैं, जिसके लिए गुजरात के पांच शहरों में भारतीय ओलंपिक संघ, खेल मंत्रालय और भारत सरकार ने अपनी पूरी तैयारी कर ली हैं।

आईओए ने यह फैसला गुजरात ओलंपिक संघ और राज्य सरकार द्वारा संयुक्त रूप से खेलों की मेजबानी में दिलचस्पी जताने के बाद लिया।

कुछ दिन पहले से ही इसे लेकर भारतीय ओलंपिक संघ के पदाधिकारी भारत सरकार के खेल मंत्रालय से मिले थे और इसे कराने के लिए सहयोग मांगा था। भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव राजीव मेहता का कहना था कि यह आयोजन वर्ष 2015 में होना था और सात साल से किसी न किसी कारण वश टलता जा रहा है। इससे खिलाड़ियों को काफी नुकसान सहना पड़ रहा है। कहा जा रहा है कि एशियन गेम्स की तिथि बढ़ने के कारण राष्ट्रीय खेल का उचित समय है।

महासचिव राजीव मेहता ने यह जानकारी देते हुए कहा की, गुजरात सरकार ने हमें लिखा कि वे खेलों की मेजबानी की इच्छा जताने वाले गुजरात ओलंपिक संघ के साथ है, जिसके लिए हमने उनका प्रस्ताव स्वीकार कर लिया।'

उन्होंने कहा, 'खेल अहमदाबाद समेत गुजरात के 5 या 6 शहरों में सितंबर-अक्टूबर में होंगे। आने वाले कुछ दिनों में तारीखों की घोषणा हो जाएग। हमें खुशी है कि इतने विलंब के बाद खेल हो रहे हैं।' उन्होंने यह भी कहा की, आईओए के आला अधिकारियों के पास फैसला लेने का अधिकार है और बाद में आईओए की आमसभा से स्वीकृति ले सकते हैं। हमने कई एनएसएफ और प्रदेश ईकाइयों से ईमेल के जरिए स्वीकृति ले ली है।

मेहता ने कहा कि गोवा ने आईओए से कहा कि वे इस साल नेशनल गेम्स की मेजबानी नहीं कर सकेंगे। इसलिए अब खेल गुजरात में होंगे, वहां उच्च स्तरीय सुविधाएं हैं और बुनियादी ढांचा काफी मजबूत है।

गौरतलब है कि इस खेल का आयोजन गोवा में वर्ष 2015 में होना था। कोरोना समेत अन्य कारणों से टलता चला गया। हाल ही गोवा सरकार की ओर कहा गया था कि छह माह का समय दिया जाए पर भारतीय ओलंपिक संघ इसे लेकर तैयार नहीं दिखा।

Next Story
Share it