Begin typing your search above and press return to search.

राष्ट्रीय खेल

National Games 2022: पश्चिम बंगाल की प्रणति, त्रिपुरा की प्रोतिष्टा ने जिमनास्टिक्स में दो-दो स्वर्ण जीते

प्रणति ने सुबह अनइवन बार्स स्पर्धा का पहला स्वर्ण जीता और फिर शाम को फ्लोर एक्सरसाइज का ताज जीतकर डबल स्वर्ण कर दिया

Women Artistic Gymnastics - Uneven Bars Medalist
X

महिला आर्टिस्टिक जिमनास्टिक्स अनइवन बार्स स्पर्धा की पदक विजेता

By

The Bridge Desk

Updated: 2022-10-02T23:55:22+05:30

ओलम्पियन प्रणति नायक ने रविवार को यहां समा इंडोर स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में 36वें राष्ट्रीय खेलों से विदा लेने से पहले दो स्वर्ण पदक जीते।

पश्चिम बंगाल जिमनास्ट ने सुबह अनइवन बार्स स्पर्धा का खिताब अपने नाम करके अपना पहला स्वर्ण जीता और फिर शाम को फ्लोर एक्सरसाइज का ताज जीतकर डबल गोल्ड कर दिया।

प्रणति नायक ने बगल में खड़ीं अपने राज्य साथी प्रणति दास को देखकर कहा, "हां, यह वही उपकरण (अनइवन बार्स) था कि जिस पर मैं शनिवार को घायल हो गई थी और कल सोने से चूक गई। लेकिन आज, मैं वो गलती नहीं करने जा रही थी और मैंने इसे आपसे वापस जीत लिया है।"

छोटे कद की जिमनास्ट ने कहा, "मैं स्वर्ण जीतने के लिए बेताब थी, भले ही मैंने पिछले संस्करण में अच्छा प्रदर्शन किया था, लेकिन मैंने उनमें से एक भी नहीं जीती थी।"

इससे पहले दिन में, त्रिपुरा जिमनास्ट प्रोतिष्टा सामंता ने भी दो स्वर्ण जीते। उन्होंने आर्टिस्टिक वॉल्टिंग और बैलेंसिंग बीम स्पर्धाएं जीतकर खुद को जन्मदिन का अग्रिम उपहार प्रदान किया, क्योंकि वह अगले सप्ताह (13 अक्टूबर) अपना 20वां जन्मदिन मनाने जा रही हैं।

उन्होंने मुस्कुराते हुए प्रतिक्रिया दी, "ओह, मैं इसके बारे में लगभग भूल गई थी। मुझे याद दिलाने के लिए धन्यवाद।"

प्रोतिष्टा पश्चिम बंगाल में जन्मी और पली-बढ़ी हुईं। उन्होंने 2019 में त्रिपुरा के रंग में रंगने के लिए अपना आधार इस छोटे राज्य में स्थानांतरित कर दिया था। रेलवे कोच फैक्ट्री में एक तकनीशियन की इकलौती बेटी प्रोतिष्टा ने अपने पड़ोसी की बेटी से प्रेरित होकर इस खेल को अपनाया, जो जिमनास्टिक का अभ्यास करती थी। तब वह सिर्फ तीन साल की थी।

तब से, वह जूनियर मीट में पश्चिम बंगाल के लिए पदक जीत रहीं थीं। सीनियर्स में यह उनका पहला साल है। अगरतला कॉलेज से बीए प्रथम वर्ष की छात्रा ने कहा, "मैं इन पदकों का श्रेय अपने माता-पिता को देती हूं, जिन्होंने बहुत सहयोग किया, खासतौर पर मेरी मां।"

और जब वह इंग्लैंड के लिवरपूल में 29 अक्टूबर को होने वाली विश्व चैम्पियनशिप से पहले शिविर के लिए रवाना हुई, तो उन्होंने कहा, कि ये पदक बहुत खास थे और इनको उनके शोकेज में एक प्रमुख स्थान मिलेगा।

इस बीच, सर्विसेज बोर्ड नियंत्रण बोर्ड के गौरव कुमार भी अच्छी स्थिति में नजर आए, जब उन्होंने तीन स्वर्ण और एक कांस्य पदक जीता।

गौरव कुमार ने कहा, "मैं पांच जीतना चाहता था, लेकिन ऐसा नहीं कर सका। मुझे खुशी है कि मैंने तीन जीते हैं। मैंने जिन पांच इवेंट्स में हिस्सा लिया है, उनमें से किसी में भी पोडियम से कभी नहीं चूका।"

सिद्धार्थ वर्मा ने पोमेल हॉर्स स्पर्धा में स्वर्ण जीता, जबकि केरल के हरिकृष्णन जेएस और एसएससीबी के अभिजीत कुमार ने क्रमशः रजत और कांस्य पदक जीते।

Next Story
Share it