Begin typing your search above and press return to search.

राष्ट्रीय खेल

National Games 2022: महाराष्ट्र को चौंकाकर पुरुष हॉकी फाइनल में पहुंचा उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश ने राष्ट्रीय खेलों के पुरुष हॉकी फाइनल में प्रवेश करने के लिए टाई-ब्रेकर तक खिंचे मुकाबले में महाराष्ट्र को हरा दिया

Hockey Mens Semifinals - Uttar Pradesh vs Maharashtra
X

हॉकी पुरुष सेमीफइनल उतर प्रदेश बनाम महाराष्ट्र 

By

The Bridge Desk

Updated: 2022-10-10T14:33:08+05:30

उत्तर प्रदेश ने 36वें राष्ट्रीय खेलों के पुरुष हॉकी फाइनल में प्रवेश करने के लिए टाई-ब्रेकर तक खिंचे मुकाबले में महाराष्ट्र को हरा दिया।

ध्यानचंद स्टेडियम में सोमवार को हुए एक जबरदस्त मुकाबले में दोनों टीमें नियत समय तक 3-3 की बराबरी पर थीं। सुमित, सुनील यादव और मनीष यादव ने उत्तर प्रदेश के लिए और अनिकेत गुरव (2) और सैय्यद नियाज रहीम ने महाराष्ट्र के लिए गोल किया।

महाराष्ट्र के लिए शूटआउट में दर्शन गावकर और युवराज वाल्मीकि ने गोल किए, जबकि यूपी के लिए राजकुमार पाल और राहुल कुमार राजभर ने टाई-ब्रेकर के बाद भी 2-2 से स्कोर बराबर कर लिया।

फिर सडेन डेथ में भारतीय टीम के सदस्य ललित कुमार उपाध्याय ने उस समय यूपी के लिए गोल किया जब महाराष्ट्र के प्रताप शिंदे अपनी टीम को अंतिम रूप से 6-5 से जीत दिलाने में विफल रहे।

महाराष्ट्र की टीम को इस मैच का संभावित विजेता माना जा रहा था क्योंकि वह न केवल कागज पर बल्कि मैदान पर भी बेहतर टीम दिख रही थी। लेकिन उत्तर प्रदेश ने उस समय प्रभावित किया जब मैच को अंत तक जिंदा रखना सबसे ज्यादा जरूरी था।

महाराष्ट्र ने एक सकारात्मक नोट पर अपना अभियान शुरू किया और प्रतिद्वंद्वी टीम के डिफेंस को बार-बार धमकाया। युवराज वाल्मीकि ने चतुराई से अग्रिम पंक्ति का नेतृत्व किया, और इस प्रक्रिया में मैच का पहला पेनल्टी कार्नर अर्जित किया। लेकिन इश पर गोल नहीं हुआ।

उत्तर प्रदेश की रक्षापंक्ति कई मौकों पर सुस्त नजर आई लेकिन इससे किसी प्रकार की क्षति नहीं हुई।

दूसरे क्वार्टर में उत्तर प्रदेश ने बेहतर खेल दिखाया और महाराष्ट्र के गोल पोस्ट पर कई हमले किए। इस टीम ने जल्द ही अपना पहला पीसी अर्जित किया और उसे गोल में बदल भी दिया।

तीसरा क्वार्टर सबसे रोमांचक था। इसमें चार गोल हुए। इनमें से दो उत्तर प्रदेश ने और एक महाराष्ट्र ने किया।

महाराष्ट्र ने हालांकि स्कोर को बराबर करने और टाई-ब्रेकर तक ले जाने के लिए काफी संघर्ष किया। किस्मत ने उसका साथ नहीं दिया क्योंकि टाई-ब्रेकर में उसे हार का सामना करना पड़ा।

Next Story
Share it