Begin typing your search above and press return to search.

राष्ट्रीय खेल

National Games 2022: बॉक्सिंग में पिटने से तंग आकर 96 किग्रा गोल्ड मेडल विजेता सैम्बो लापुंग ने वेटलिफ्टिंग अपनाई थी

अरुणाचल प्रदेश के सैम्बो लापुंग ने खूनी नाक के साथ रिंग से लौटने या अपने कोच की पिटाई से थकने के बाद बॉक्सिंग छोड़ दी और वेटलिफ्टिंग अपना ली

Sambo Lapung Weightlifter
X

सैम्बो लापुंग

By

The Bridge Desk

Updated: 2022-10-03T19:20:10+05:30

अरुणाचल प्रदेश के सैम्बो लापुंग ने खूनी नाक के साथ रिंग से लौटने या अपने कोच की पिटाई से थकने के बाद बॉक्सिंग छोड़ दी और वेटलिफ्टिंग अपना ली।

सोमवार को यहां 36वें राष्ट्रीय खेलों में भारोत्तोलन में पुरुषों का 96 किग्रा स्वर्ण जीतने के तुरंत बाद सैम्बो लापुंग ने मुस्कुराते हुए कहा, "हां, मैंने पहले 2008 में केवल एक साल के लिए बॉक्सिंग करने की कोशिश की थी। लेकिन मैंने इसे छोड़ दिया। रिंग में और बाहर दोनों जगह पिटने का क्या मतलब है?"

अपने स्वर्णिम अभियान में उन्होंने नेशनल क्लीन एंड जर्क रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया, जिससे उनकी जीत और भी सुखद बन गई।

14 साल पहले अपने खेल को बदलने के कारण को याद करते हुए सैम्बो लापुंग कहते हैं, "मैं एक मुक्केबाज बनना चाहता था और ईटानगर में SAI केंद्र में शामिल हो गया। हम वेटलिफ्टर्स के साथ ट्रेनिंग करते थे और मैंने देखा कि वेटलिफ्टिंग कोच हमारे बॉक्सिंग कोच की तुलना में अपने शिष्यों के प्रति अधिक उदार था, जो हमें थोड़ी सी भी गलतियों के लिए पीटा करता था।"

सैम्बो लापुंग इतने निराश थे कि वे साई केंद्र को ही छोड़ना चाहते थे। उन्होंने बताया, "लेकिन मेरी बहन ने हस्तक्षेप किया और मुझे खेल बदलने के लिए मजबूर किया।"

उत्तर-पूर्वी राज्य के सुदूर पूर्वी कामेंग जिले के एक किसान के घर जन्मे साम्बो निम्न मध्यमवर्गीय परिवार में छह लड़कों और तीन लड़कियों में तीसरे नंबर की संतान हैं।

उन्होंने अपनी एथलीट बहन चितुंग लापुंग की तरह ही खेलों को अपनाया। उन्होंने खुलासा किया, "उसने मुझे केवल दो वक्त का भोजन और नए कपड़े प्राप्त करने के लिए खेलों को अपनाने की कोशिश करने के लिए राजी किया।" उन्होंने कहा, "बाद में, जब मुझे पता चला कि खेल मुझे परिवार का समर्थन करने का एक साधन प्रदान कर सकता है और मैंने इसे आगे बढ़ाया किया।"

उन्होंने अपने करियर के टर्निंग पॉइंट का उल्लेख करते हुए कहा, "शुरुआत में खेलों के बारे में मेरा ज्ञान शून्य था। लेकिन अरुणाचल प्रदेश के भारोत्तोलन अधिकारी अब्राहम के. तेची को मेरी प्रतिभा का आकलन करने के लिए आर्मी स्पोर्ट्स इंस्टीट्यूट से कोच मिलने के बाद मैंने इसे गंभीरता से लेना शुरू कर दिया।"

सैम्बो लापुंग ने कहा, "नेशनल गेम्स में स्वर्ण जीतना अच्छा लगता है, लेकिन मेरे लिए जो अधिक महत्वपूर्ण है वो राष्ट्रीय रिकॉर्ड कायम करना था। मैं यहां खुद से मुकाबला करने आया था और मेरी नजर रिकॉर्ड पर थी। मैं ट्रेनिंग में भारी वजन उठा रहा हूं लेकिन मेरे कोच चाहते थे कि मैं पहले अपनी खामियों में सुधार करू और नए सिरे से शुरुआत करूं।"

सोमवार को लापुंग ने क्लीन एंड जर्क में 198 किग्रा के रिकॉर्ड सहित कुल 346 किग्रा भार उठाया और इस प्रयास ने उन्हें स्वर्ण दिलाया। वह इसे सीजन में आगे के लिए लॉन्चिंग पैड के रूप में इस्तेमाल करना चाहते हैं।

सेना में हवलदार के रूप में कार्यरत सैम्बो लापुंग अब भी अपनी सीमित आय के कारण संघर्ष कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें हर अपने लिए पोषक तत्वों की खुराक की आवश्यकता पूरी के लिए साल बैंक से ऋण लेना पड़ता है। उन्होंने कहा, "पिछले चार साल से हर साल 11 या 12 लाख रुपये का कर्ज है।"

Next Story
Share it