Begin typing your search above and press return to search.

राष्ट्रीय खेल

National Games 2022: डेब्यू पर किशोरी पहलवान अंतिम पंघल ने जीता स्वर्ण

मौजूदा विश्व अंडर-20 चैंपियन अंतिम पंघल को मैट पर समय बर्बाद करना पसंद नहीं है

Antim Panghal
X

अंतिम पंघल

By

The Bridge Desk

Updated: 2022-10-02T23:10:50+05:30

मौजूदा विश्व अंडर-20 चैंपियन अंतिम पंघल को मैट पर समय बर्बाद करना पसंद नहीं है। इसके बजाय, वह मुकाबलों से एक रात पहले अपने विरोधियों पर हावी होने के लिए सावधानीपूर्वक होमवर्क करती हैं।

हिसार की इस 18 वर्षीय पहलवान ने रविवार को यहां 36वें राष्ट्रीय खेलों में महिलाओं की 53 किग्रा कुश्ती स्पर्धा में मध्य प्रदेश की प्रियांशी प्रजापति को आसानी से हराकर स्वर्ण पदक जीता।

उनके कोच विकास भारद्वाज ने कहा कि मैट से लौटने पर अंतिम की पीठ थपथपाई और कहा, "जैसे ही किसी भी बड़े टूर्नामेंट से पहले अपने प्रशिक्षण सत्र के बाद हम अपने विरोधियों के वीडियो खोजना शुरू करते हैं वह पीछे ही रहती है। कभी-कभी वीडियो एकत्र करना मुश्किल हो जाता है, खासकर घरेलू प्रतियोगिताओं में क्योंकि अधिकांश कोच इनपुट साझा करना पसंद नहीं करते हैं, जो कि समझ में भी आता है।"

विकास ने कहा, "मैंने मध्य प्रदेश की प्रियांशी के खिलाफ फाइनल मुकाबले के लिए जाने से पहले अंतिम से कहा था कि आपको हार से जीत का लक्ष्य रखना चाहिए। वह पहले से ही 53 किग्रा वर्ग में है जबकि प्रियांशी 50 किग्रा से है, इसलिए हमेशा एक तरह की बढ़त होती है।"

तभी, हरियाणा के एक सज्जन अंतिम के बगल से गुजरते हैं। वह नौजवान को 500 रुपये का नोट सौंपते हैं और कहते हैं, "बेटी मैंने तेरा अंडर -20 वर्ल्ड चैंपियनशिप वाला बाउट देखा था। तुझे मिलने के लिए बहुत कोशिश किया। आज मिली है। ये ले, खूब तरक्की कर…।

अंतिम एक आज्ञाकारी छात्र के रूप में विकास की ओर देखती है, जो उसे व्यक्ति द्वारा दिए गए पैसों को आशीर्वाद के रूप में स्वीकार करने के लिए कहते हैं। फिर अंतिम कुछ नहीं कह पाती।

अंतिम ने 2016 में बब्बा लाल दास कुश्ती अकादमी 12 साल की उम्र में ज्वाइन किया था। उसकी चार बड़ी बहनों में से एक जो कि एक कबड्डी खिलाड़ी है ने हिसार के सुदूर बघाना गांव में स्थित इस कुश्ती अकादमी की पहचान की थी। उसने कोच से मिलने के बाद अपने किसान पिता से इस बारे में चर्चा की थी।

विकास ने कहा, "वह 12 साल की थी जब वह हमारी अकादमी में शामिल हुई। और हमने उसे कुश्ती के लिए एकदम फिट पाया। वह एक पहलवान होने के लिए एकदम सही काया और स्वभाव थी, लेकिन वास्तव में जिस चीज ने उसे भीड़ से अलग खड़ा किया, वह थी खेल के प्रति उसका जुनून। वह बिना किसी शिकायत के घंटों तक प्रशिक्षण लेती रहती जबकि अन्य लोग वजन आधारित प्रशिक्षण कम करने का अनुरोध करते रहते। अंतिम के लिए, यह हमेशा और अधिक मांगने जैसा था। आलम यह रहता था कि हमें उसे आराम के लिए कहना पड़ता था।"

राष्ट्रमंडल खेलों के क्वालीफायर में 53 किग्रा भार वर्ग में संभावित स्वर्ण पदक विजेता विनेश फोगट के हाथों हार ने युवा अंतिम को निराश कर दिया था। युवा खिलाड़ी को हारना पसंद नहीं है, और रविवार को उसका कौशल पूरे शबाब पर था औऱ यही कारण था कि उसने डेब्यू पर एकतरफा अंदाज में फाइनल जीता।

कोच ने कहा, "इसको बस मेडल का भूत है। क्वालिफायर में विनेश से हारने के बाद, उसने अपनी अगली प्रतियोगिता में बड़ी जीत हासिल करने के लिए इसे एक चुनौती के रूप में लिया। राष्ट्रीय खेल उसके लिए एक अच्छा मौका है। हमने कुछ तकनीकी खामियों पर काम किया, जो उसने विनेश के खिलाफ मुकाबले में की थी।"

अंतिम पंघल

गुजरात की खलीफा हिना और महाराष्ट्र की स्वाति संजय ने इस श्रेणी में कांस्य पदक हासिल किया।

अन्य श्रेणियों में महाराष्ट्र के अनुभवी पहलवान नरसिंह पंचम यादव को पुरुष फ्रीस्टाइल 74 किग्रा वर्ग में कांस्य से संतोष करना पड़ा। इसमें दिल्ली के यश ने फाइनल में हरियाणा के सागर जगलान को हराकर स्वर्ण पदक जीता।

पुरुषों के 86 किग्रा भार वर्ग में, उत्तर प्रदेश के ज्वाइंटी कुमार ने महाराष्ट्र के दूसरी वरीयता प्राप्त वेताल औदांब को हराकर स्वर्ण पदक जीता।

महिलाओं के 57 किग्रा भार वर्ग में, हरियाणा की पहलवान मानसी ने सोना जीतने के लिए चंडीगढ़ की नीतू पर पभारी जीत दर्ज की। राजस्थान की प्रीति कुमार और महाराष्ट्र की सोनाली मांडलिक ने अपने-अपने मुकाबले जीतकर कांस्य पदक हासिल किया।

ग्रीको रोमन कटेगरी में, सर्विसेज के ज्ञानेंद्र ने स्वर्ण पदक जीता, जबकि हरियाणा के विकास ने 60 किग्रा वर्ग में रजत पदक जीता। 130 किग्रा वर्ग में, हरियाणा के सतीश ने उस समय स्वर्ण पदक जीता, जब सर्विस के पहलवान नवीन चोट के कारण फाइनल से बाहर हो गए। पंजाब के गुरसेवक सिंह और उत्तर प्रदेश के यतेंद्र ने वर्ग में कांस्य पदक हासिल किया।

Next Story
Share it