Begin typing your search above and press return to search.

राष्ट्रीय खेल

National Games 2022: स्वर्ण पदक विजेता सिद्धार्थ परदेशी को उम्मीद, गोताखोरी कुछ और ध्यान खीचेगी

सिद्धार्थ परदेशी की इच्छा है कि उस खेल पर अधिक से अधिक ध्यान दिया जाए, जिसे वह बहुत पसंद करते हैं और वो है डाइविंग

Siddharth Pardeshi
X

सिद्धार्थ परदेशी

By

The Bridge Desk

Updated: 2022-10-02T23:11:45+05:30

आप सिद्धार्थ परदेशी के साथ आसानी से सहानुभूति रख सकते हैं, जब उनकी इच्छा है कि उस खेल पर अधिक से अधिक ध्यान दिया जाए, जिसे वह बहुत पसंद करते हैं और वो है डाइविंग।

वह कुछ साल पहले खबरों में थे क्योंकि वह उन एथलीटों में से एक में थे, जो कोविड-19 के कारण लगे लॉकडाउन के दौरान विदेशों में फंसे हुए थे। वह मार्च से सितंबर 2020 तक रूस के कज़ान स्थित फिना डेवलपमेंट सेंटर में थे। यह एक ऐसी स्मृति बन गई है जो उनके अवचेतन में हमेशा के लिए रह गई है।

रविवार को नासिक में जन्में गोताखोर ने यहां सरदार पटेल एक्वेटिक्स कॉम्प्लेक्स में 3 मीटर स्प्रिंगबोर्ड का इस्तेमाल राष्ट्रीय खेलों के प्रतिष्ठित स्वर्ण पदक के लिए खुद को लॉन्च करने और भारतीय डाइविंग एथलीटों को थोड़ा और प्रोत्साहित करने के लिए पारिस्थितिकी तंत्र से अपील करने के लिए किया। नेशनल चैम्पियन, टीम के साथी और ट्रेनिंग पार्टनर एच. लंदन सिंह के साथ उनका मुकाबला हमेशा की तरह करीब था।

स्पर्धा में 288.40 अंकों के साथ शीर्ष पर रहने के बाद उन्होंने कहा, "मुझे खुशी है कि मैं लंदन को हरा सका, जिसके साथ मैं पुणे स्थित आर्मी स्पोर्ट्स इंस्टीट्यूट में ट्रेनिंग करता हूं। मुझे लगता है कि आज किस्मत मेरे साथ थी और मुझे गोल्ड मिला।" उन्होंने कहा, "फिर भी, मैं कभी-कभी चाहता हूं कि हमें अपने दोस्तों, तैराकों और अन्य खिलाड़ियों की तरह से थोड़ा और ध्यान मिले। हमारा खेल उतना ही कठिन है जितना कि अन्य कोई स्पर्धा।"

सिद्धार्थ परदेशी अपने विचारों को बखूबी रखते हैं। उन्होंने कहा, "हां, मुझे बुरा लगता है कि गोताखोरी को कोई जगह नहीं मिलती। हम थोड़ा और ध्यान पाना चाहेंगे, घर और विदेश दोनों में कुछ और प्रतियोगिताएं बेहतर होने के लिए।"

उन्होंने आगे कहा, "डाइविंग एक कठिन खेल है। यह जटिल है। यह शारीरिक के साथ मानसिक संयोजन की मांग करता है। इसके लिए जिम्नास्टिक क्षमता की जरूरत होती है। एथलीट को अपने शरीर और उसकी गतिविधियों को समझना होता है।"

जकार्ता में 2018 एशियाई खेलों में भाग लेने वाले 25 वर्षीय गोताखोर ने आज प्रतियोगिता से पहले थोड़ा नर्वस होने की बात स्वीकार की। सिद्धार्थ परदेशी ने कहा, "टखने की समस्या से दिमाग को हटाना हमेशा एक चुनौती होती है। मैं प्रतियोगिता की शुरुआत में थोड़ा अधिक नर्वस था लेकिन मुझे खुशी है कि मैंने इसे दूर कर लिया।"

बॉम्बे इंजीनियर ग्रुप, किरकी, के साथ सूबेदार पद पर कार्यरत सिद्धार्थ परदेशी ने तीन महीने पहले राष्ट्रीय खेलों की तारीखों की घोषणा के बाद कड़ी मेहनत की। टखने में चोट के कारण, वह पिछले महीने गुवाहाटी में राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में लंदन सिंह के बाद दूसरे स्थान पर रहे। लेकिन उनके फौलादी दृढ़ संकल्प और डाइविंग रूटीन के साफ-सुथरे कार्यान्वयन ने आज उनकी मदद की।

2015 के राष्ट्रीय खेलों में जीते 1 स्वर्ण और 3 कांस्य के अपने संग्रह में एक और गोल्ड जोड़ने के बाद सिद्धार्थ परदेशी ने कहा, "मैं कजान में कार्यकाल के बाद अपनी तकनीक के बारे में अनिश्चित था। और मैं चिंतित था कि कहीं मैं रूस में अपनाई की गई तकनीकों और उस तकनीक, जिसके साथ मैं सहज था, के बीच फंस न जाऊं। मुझे खुशी है कि मैंने वही चुना, जिसके साथ मैं सहज था और आज स्वर्ण पदक जीता।"

Next Story
Share it