Begin typing your search above and press return to search.

राष्ट्रीय खेल

National Games 2022: मंदीप कौर की निगाहें नौकरी पाने और अपने करियर को सहारा देने के लिए पदक जीतने पर

मंदीप कौर को उम्मीद है कि पोडियम पर पहुंचने से पंजाब पुलिस में उनकी भर्ती के दरवाजे खुल जाएंगे

Mandeep Kaur Boxing
X

मंदीप कौर

By

The Bridge Desk

Updated: 2022-10-09T17:08:31+05:30

पूर्व जूनियर विश्व चैंपियन मुक्केबाज मंदीप कौर 36वें राष्ट्रीय खेलों में स्वर्ण पदक जीतने की उम्मीद कर रही हैं। उन्हें उम्मीद है कि यहां पोडियम पर पहुंचने से पंजाब पुलिस में उनकी भर्ती के दरवाजे खुल जाएंगे और फिर अपने आहार से जुड़ी जरूरतों के लिए पिता की खेती की कमाई पर से उनकी निर्भरता खत्म हो जाएगी।

इंटर-यूनिवर्सिटी गेम्स में दो बार की स्वर्ण पदक विजेता ने 57 किग्रा वर्ग में तमिलनाडु की जे हन्ना जॉय पर सहज जीत के साथ अपने राष्ट्रीय खेलों के अभियान की शुरुआत की है।

मंदीप ने कहा, "यह एक कठिन यात्रा रही है। खासकर जब मुझे सप्लीमेंट्स के लिए पैसे मांगने के लिए अपने पिता के पास वापस पड़ता है। मुझे अपने परिवार से जो भी पॉकेट मनी मिलती है, वह डाइट में खत्म हो जाती है। यह मुश्किल है जब आपके पास आपको समर्थन देने के लिए कोई प्रायोजक न हो। लेकिन जीवन आशा का नाम है। मुझे आशा है कि राष्ट्रीय खेलों में स्वर्ण जीतने के बाद मेरे लिए दरवाजे खुल जाएंगे। "

राष्ट्रीय खेलों में स्वर्ण तक पहुंचने की राह पंजाब के मुक्केबाज के लिए आसान नहीं होगी क्योंकि असम की जमुना बोरो, जो पूर्व विश्व चैंपियनशिप पदक विजेता और प्री-टूर्नामेंट फेवरिट हैं, भी 57 किग्रा भार वर्ग में मैदान में है।

मंदीप ने कहा, "इस कैटेगरी में कई अच्छे मुक्केबाज हैं। यहां रिंग में किसी का भी दिन हो सकता है। प्रत्येक मुकाबला अलग होता है क्योंकि हमें विभिन्न तकनीकों के साथ मुक्केबाजों का सामना करना पड़ता है। यही इस खेल का आकर्षण है। है ना?"

लुधियाना के पास चकर गांव की रहने वाली मंदीप कौर, जो टोक्यो ओलंपियन सिमरनजीत कौर बाथ का मूल स्थान भी है, को सात साल की उम्र में इस खेल से प्यार हो गया था। लेकिन उनके पिता की आर्थिक स्थिति ने उनके लिए उनके दस्ताने या प्रशिक्षण उपकरण के लिए पैसे दे पाना मुश्किल बना दिया। लेकिन शेर-ए-पंजाब स्पोर्ट्स अकादमी इस लड़की को प्रायोजित करने के लिए आगे आई और उन्होंने तब से पीछे मुड़कर नहीं देखा।

अपने बड़े भाई के नक्शेकदम पर चलने के बाद अकादमी में शामिल हुई इस युवा खिलाड़ी ने 2015 में सर्बिया में आयोजित चौथे जूनियर नेशंस बॉक्सिंग कप में स्वर्ण पदक जीतने से पहले 2011 और 2012 के राष्ट्रीय सब-जूनियर खिताब जीते थे।

नियर विश्व चैंपियनशिप स्वर्ण के बाद, मंदीप कौर को पीआईएस, मोहाली में द्रोणाचार्य पुरस्कार विजेता क्यूबा के कोच ब्लास इग्लेसियस फर्नांडीज की देखरेख में प्रशिक्षण के लिए चुना गया था। मंदीप ने कहा, "सिमरनजीत और मैं फर्नांडीज सर की देखरेख में मोहाली में एक ही केंद्र में प्रशिक्षण लेते हैं। पंजाब और देश भर के कई मुक्केबाज अकादमी में आते हैं और प्रशिक्षण लेते हैं। शुक्र है कि मुझे वहां आहार के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है, जो कि किसी भी एथलीट के लिए सबसे जरूरी चीज है।"

मंदीप कौर टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई नहीं कर सकी थीं लेकिन अब इस 22 वर्षीय मुक्केबाज का लक्ष्य ओलंपिक के लिए तैयारी करनी है ताकि वह क्वालीफाई करके और फिर पदक जीतकर खुद को साबित कर सके।

राष्ट्रीय खेलों के बा, मंदीप दिसंबर में भोपाल में होने वाली सीनियर राष्ट्रीय मुक्केबाजी चैंपियनशिप की तैयारी के लिए मोहाली के शिविर में वापस जाएंगी।

साल 2019 में राष्ट्रीय चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली मंदीप ने जाते-जाते कहा, "यह सभी मुक्केबाजों के लिए बहुत व्यस्त वर्ष होगा। मैं राष्ट्रीय खेलों के बाद सीधे शिविर में जाऊंगी और राष्ट्रीय चैंपियनशिप की तैयारी शुरू करूंगी। नेशनल्स जीतने से नेशनल सेलेक्शन का रास्ता खुलेगा। फिर हमारे पास पेरिस में भारत का प्रतिनिधित्व करने के अंतिम लक्ष्य से पहले विश्व चैंपियनशिप और एशियाई खेल हैं।"

Next Story
Share it