Begin typing your search above and press return to search.

राष्ट्रीय खेल

National Games 2022: भारत के दिग्गज तैराक वीरधवल खड़े ने तैराकी प्रतियोगिता के आयोजन और उसके स्तर की तारीफ की

उन्हें लगता है कि यहां प्रतियोगिता का स्तर 2015 केरल की तुलना में काफी बेहतर था

virdhawal khade swimming
X

 तैराक वीरधवल खड़े

By

The Bridge Desk

Updated: 2022-10-09T17:08:51+05:30

भारत के सर्वकालिक महान तैराकों में से एक वीरधवल खड़े 36वें राष्ट्रीय खेलों में तैराकी के स्तर के साथ-साथ इसके आयोजन से "अत्यधिक प्रभावित" हैं।

31 वर्षीय बीजिंग ओलम्पियन और कई राष्ट्रीय रिकॉर्ड धारक ने शनिवार को सरदार पटेल स्विमिंग कॉम्प्लेक्स में एक्शन से भरपूर आयोजन के समापन दिवस पर बोलते कहा कि इस इवेंट में युवाओं को भारी संख्या में प्रतिनिधित्व करता देखने के बाद वह भारतीय तैराकी में बदलाव को लेकर बेहद खुश हैं।

उन्होंने कहा, "यह बहुत अच्छी मीट रही क्योंकि कई युवा एवं नए चेहरे सामने आए। पहली बार खेलने वालों के लिए यह बहुत अच्छे अनुभव के रूप में गिना जाएगा।" हालांकि कुछ आश्चर्यजनक परिणाम देखने को मिले, जिसने उन्हें भौचक्का कर दिया। जैसे कि साजन प्रकाश का पुरुषों की 200 मीटर फ्रीस्टाइल नहीं जीतना।

जैसा कि विकिपीडिया की रिपोर्ट में बताया गया है कि, गुवाहाटी 2007 में 33वें राष्ट्रीय खेलों में छह स्वर्ण पदक जीतने और पांच मीट रिकॉर्ड बनाने वाले खाडे ने कहा कि कुल मिलाकर, उन्हें लगता है कि यहां प्रतियोगिता का स्तर 2015 केरल की तुलना में काफी बेहतर था। उन्होंने कहा, "प्रतियोगिता का स्तर बहुत ऊंचा रहा है और खिलाड़ियों द्वारा निकाले गए समय भी बहुत अच्छे रहे है। मैं कुल मिलाकर बहुत प्रभावित हूं।"

वह इस आयोजन के संचालन को लेकर जोश में थे कि इसे "बहुत अच्छी तरह से" एक साथ रखा गया था और स्विमिंग पूल भी बहुत अच्छा है।

वर्तमान भारतीय परिदृश्य पर टिप्पणी करने के सवाल पर, खड़े ने जवाब दिया, "लड़के लंबे समय से अच्छा कर रहे हैं। और वे लगातार सुधार भी कर रहे हैं।"

लड़कियां अब लंबी दूरी में भी अच्छा कर रही हैं, जबकि स्प्रिंट में वे शिखा टंडन द्वारा सेट समय के करीब पहुंच रही हैं, जिन्होंने 1990 के दशक के अंत और 2000 के दशक की शुरुआत में पूल पर अपना राज कायम किया था। उन्होंने चुटकी ली, "यह एक बड़ा सकारात्मक है।"

खाड़े ने स्पष्ट कि भारतीय तैराकी में वृद्धि और टाइमिंग में सुधार "शानदार काम" का परिणाम है, जो कि फेडरेशन (स्विमिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया) इस खेल में सरकार की अधिक साझेदारी के साथ कर रहा है। इससे खेल में अधिक पैसा आ रहा है और तैराकों को अधिक अंतरराष्ट्रीय एक्सपोजर मिल रहा है।

उन्होंने सुझाव दिया, "महासंघ और सरकार खेल का समर्थन करके बहुत कुछ कर रहे हैं, अब तैराकों के लिए अपने प्रशिक्षण में प्रयास करने और यह सुनिश्चित करने का समय आ गया है कि वे अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करें।"

एक ऐसे खेल में जहां पुराना ज्यादातर सोना नहीं होता, खाड़े ने जोर देकर कहा कि वह अभी भी तैराक है और कोच नहीं है, और वह अगले एशियाई खेलों के लिए ट्रेनिंग लगेंगे और अगले साल होने वाले अगले राष्ट्रीय खेलों में भी भाग लेंगे।

मुंबई में बसे खाड़े खार जिमखाना में प्रशिक्षण लेते हैं और आसपास भी मदद करते हैं। खाडे ने कहा कि वह एक तैराक के रूप में प्राप्त अपार अनुभव का उपयोग उन लोगों की तरह अपना समय को बेहतर करते है। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय तैराक रुजुता से शादी की है, जो उसी जिमखाना की पूर्व छात्र हैं; दोनों को "भारत का सबसे तेज तैराकी युगल" के रूप में वर्णित किया गया है।

Next Story
Share it