Begin typing your search above and press return to search.

राष्ट्रीय खेल

National Games 2022: जिम्नास्ट से गोताखोर बनीं मेधाली रेडकर ने डाइविंग में जीता गोल्ड मेडल

मेधाली रेडकर एक फिजियोथेरेपिस्ट भी हैं

Medhali Redkar Diving
X

मेधाली रेडकर 

By

The Bridge Desk

Updated: 2022-10-07T21:52:33+05:30

मेधाली रेडकर को जब लगा कि अब वह अपने जिम्नास्टिक करियर में और आगे नहीं बढ़ सकती है तो फिर उनके कोचों ने उन्हें सुझाव दिया कि वह डाइविंग में अपना हाथ आजमाएं क्योंकि दोनों खेलों में समान कोर शक्ति और कलाबाजी क्षमताओं की जरूरत होती है। यह सही विकल्प था या नहीं, मेधाली रेडकर इस बारे में अनिश्चित थी।

इसके बाद अपने नए विचार को पहले आजमाए बिना अस्वीकार नहीं करने के अपने विश्वास पर उन्होंने भरोसा किया और इसका फायदा भी उठाया। इसके सात साल बाद मुंबई की 24 साल की मेधाली रेडकर ने अपने राज्य की साथी ऋतिका श्रीराम को हराकर शुक्रवार को यहां 1 मीटर स्प्रिंगबोर्ड प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया।

मेधाली ने कुल 171.50 अंकों के साथ स्वर्ण पदक जीता। अपनी इस खिताबी जीत के बाद उन्होंने कहा, ''मैंने केवल एक इवेंट में टीम बनाई थी, और चूंकि यह आखिरी इवेंट था, इसलिए थकान बढ़ रही थी। लेकिन मैंने अपने मनोवैज्ञानिक के साथ उस पर काम किया और पदक जीतने के लिए अब तक का अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया।''

मेधाली रेडकर ने संयोग से, गुवाहाटी में संपन्न सीनियर नेशनल में 3एम स्प्रिंगबोर्ड इवेंट में कांस्य पदक जीता था और 1 मीटर स्प्रिंगबोर्ड इवेंट में पांचवें स्थान पर रही थी। उन्होंने कहा, ''मुझे अपनी क्षमताओं पर पूरा भरोसा था। हां, प्रतियोगिता में उतरने से पहले मेरे मन में कुछ चिंताए थी। लेकिन मैंने आज केवल अपनी दिनचर्या पर ध्यान केंद्रित करने पर काम किया।'' मेधाली रेडकर एक फिजियोथेरेपिस्ट भी हैं।

जिम्नास्टिक में राष्ट्रीय स्तर पर कई पदक जीतने वाली 24 वर्षीया मेधाली ने पिछले कुछ वर्षों में अपनी शिक्षा और खेल को सफलतापूर्वक संतुलित किया है। उन्होंने कहा कि यह उनके लिए आसान था क्योंकि उन्हें दोनों में शानदार प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित किया गया था।

मेधाली रेडकर डाइविंग अभ्यास पर लगभग तीन घंटे बिताती हैं और अपने दिन के काम के रूप में एक स्थानीय खेल क्लिनिक के साथ काम भी करती हैं। उन्होंने कहा, ''मैं कभी भी खुद को सिर्फ अकेडमिक और स्पोर्ट्स तक ही सीमित नहीं रखना चाहती थी। इसका मतलब है कि मुझे अतिरिक्त मेहनत करने की जरूरत है और मेरे सामाजिक जीवन और दोस्ती को नुकसान होता है। लेकिन जिस तरह से चीजें हैं, उससे मैं बहुत खुश हूं।''

जिम्नास्टिक से डाइविंग में अपने बदलाव के बारे में बात करते हुए मेधाली रेडकर ने कहा कि वह शुरू में दोनों खेलों का अभ्यास करती थीं, जब वह 2015 में प्रबोधंकर ठाकरे स्विमिंग पूल में कोच तुषार गीते के साथ शामिल हुईं।

उन्होंने कहा, ''हालांकि जिम्नास्टिक और डाइविंग के लिए समान क्षमताओं की जरूरत होती है। तकनीकी रूप से काफी अलग हैं। डाइविंग में आप सबसे पहले पानी में जाते हैं जबकि जिम्नास्टिक में आपको अपने पैरों पर उतरना होता है।''

मेधाली रेडकर ने आगे कहा, ''शुरू में मैं सही महसूस नहीं कर रही थी। लेकिन उसी साल स्कूली टूर्नामेंट में मैं चौथे या पांचवें स्थान पर रही। लेकिन जिस तरह से मैंने अपने डाइव्स को अंजाम दिया उससे मैं बहुत खुश थी। इसके बाद मैंने फैसला किया कि मैं इसी में अपना करियर आगे बढ़ा सकती हूं।''

मेधाली रेडकर इस बात से अच्छी तरह से अवगत हैं कि डाइविंग देश में अधिक लोकप्रिय खेलों में शामिल नहीं है। लेकिन उम्मीद है कि भविष्य में चीजें बदल जाएंगी। उन्होंने कहा, ''जब मैंने जिम्नास्टिक शुरू किया, तब भी यह एक अस्पष्ट खेल था। दीपा करमाकर के ओलंपिक में पहुंचने के बाद ही सभी को इसके बारे में पता चलने लगा।''

उन्होंने आगे कहा, ''Gymnast-turned-diver Medhali Redkar wins diving goldउम्मीद है, डाइविंग भी जल्द ही वहां पहुंच जाएगी। मुझे अपने प्रदर्शन से इसकी सफलता में योगदान देने में खुशी होगी।"

Next Story
Share it