Begin typing your search above and press return to search.

राष्ट्रीय खेल

Nationa Games 2022: गुलवीर सिंह ने अपने पहले ही सीजन में 10,000 मीटर स्वर्ण जीतने के लिए रिकॉर्ड तोड़ दौड़ लगाई

रोइंग और जिम्नास्टिक में अच्छे प्रदर्शन की बदौलत तीन बार के मौजूदा चैम्पियन सर्विसेज रविवार को पहली बार पदक तालिका में शीर्ष स्थिति में पहुंची

Gulveer Singh
X

गुलवीर सिंह

By

The Bridge Desk

Updated: 2022-10-03T18:26:39+05:30

गुलवीर सिंह ने साहसिक प्रयास करते हुए एथलेटिक्स प्रतियोगिता में नेशनल गेम्स रिकॉर्ड के साथ पुरुषों की 10,000 मीटर दौड़ का स्वर्ण जीत लिया, जिसकी मदद से सर्विसेज आज 36वें राष्ट्रीय खेलों के पदक तालिका में शीर्ष पर अपनी स्थिति मजबूत करने में कामयाब रही।

रोइंग और जिम्नास्टिक में अच्छे प्रदर्शन की बदौलत तीन बार के मौजूदा चैम्पियन सर्विसेज रविवार को पहली बार पदक तालिका में शीर्ष स्थिति में पहुंची।

गुलवीर सिंह ने अपने मुख्य प्रतिद्वंद्वियों, उत्तर प्रदेश के अभिषेक पाल और कार्तिक कुमार पर भारी बढ़त का आनंद उठा, क्योंकि यूपी के इन दोनों धावकों 48 घंटे पहले अपने 5000 मीटर दौड़ में जीत की थकान से उबरना पड़ा।

दौड़ के दौरान अधिकांश समय के लिए, उन्होंने अपने साथियों सावन बरवाल के साथ-साथ कार्तिक कुमार और अभिषेक पाल को भी पीछे छोड़ दिया। हालांकि, उन्होंने 28:54.29 समय के साथ विजेता बनने के लिए लगभग अंतिम 250 मीटर में अपनी गति बढ़ाई।

अभिषेक पाल ने बड़े ही उत्साह के साथ सबसे आगे चल रहे लीडर को बाहर से पछाड़ दिया, लेकिन ऐसा लग रहा था कि उन्होंने मोड़ पर अपनी लय को थोड़ा खो दी। उसके बाद उन्हें रजत पदक की स्थिति पर खुद को बनाए रखने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ी, कार्तिक कुमार ने अंतिम कुछ मीटरों में चुनौती को पूरा करने के लिए अपनी अंतिम ऊर्जा का एक-एक कतरा लगा दिया।

जी लक्ष्मणन के 29:13.50 के गेम्स रिकॉर्ड को पीछे छोड़ते हुए ये तीनों अपना व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ समय के साथ फिनिशिंग लाइन पार कर गए।

कुछ साल पहले सेना के 23 ग्रेनेडियर्स में शामिल होने के बाद ही प्रतिस्पर्धी दौड़ में उतरने वाले गुलवीर सिंह ने अपने पहले सत्र में मजबूत प्रगति की है। अप्रैल में फेडरेशन कप में कांसे के साथ शुरुआत और जून में राष्ट्रीय अंतर-राज्य चैम्पियनशिप में रजत तक पहुंचने के बाद, वह खुश थे कि उन्होंने एक कठिन दौड़ जीती है।

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले के सिरसा गांव के रहने वाले गुलवीर सिंह ने कहा, "मैं जानता था कि अभिषेक, कार्तिक और सावन मेरे सीनियर हैं और इनके साथ मैं ट्रेनिंग करता हूं। ये सभी बेहतरीन धावक हैं। मुझे बस उनके साथ बने रहना था और अंत में उन्हें पीछे छोडने की कोशिश करनी थी।। मुझे खुशी है कि मैं ऐसा करने में सक्षम हुआ।" उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि आज की दौड़ में मैंने जो किया उससे मेरे कोच खुश होंगे।"

गुजरात के मुरली गावित को 10,000 मीटर में मजबूत चुनौती पेश करने की उम्मीद थी, जो अप्रैल 2019 में दोहा में एशियाई एथलेटिक्स चैम्पियनशिप के बाद से इस दूरी पर अपने सर्वश्रेष्ठ प्रयास के साथ आए थे, लेकिन 29:43.53 समय के साथ पांचवें स्थान पर रहे। वह शीर्ष चार के ग्रुप के साथ बने नहीं रहे सके क्योंकि उन चारों ने आधे चरण में अपनी गति बढ़ा दी थी।

इसके बाद हुई महिलाओं की 10,000 मीटर स्पर्धा का स्वर्ण पदक हिमाचल प्रदेश की सीमा ने जीता, जब जूरी ने महाराष्ट्र की संजीवनी जाधव को लेन उल्लंघन के लिए अयोग्य घोषित कर दिया। रेस खत्म होने से पहले यानी अंतिम में थकी हुई नजर आ रहीं फ्रंट-रनर संजीवनी ने ठोकर खा बैठे और लड़खड़ा कर बॉर्डर के अंदर कदम रख बैठीं, जिसमें उन्होंने जूरी से अयोग्यता अर्जित की।


संजीवनी ने महिला 10,000 मीटर दौड़ में ओपी जैशा के 33:08.55 के गेम्स रिकॉर्ड को पीछे छोड़ने की कोशिश की, लेकिन बढ़ती गर्मी ने उन्हें आधे मिनट से भी कम समय से दूर कर दिया। वह 10 लैप के बाद अन्य समूह को पीछे छोड़ हो गईं और बहादुरी से घड़ी के खिलाफ खुद को आगे धक्का दे दिया। वह अंतिम लैप पर तनाव में थी, आखिरी 100 मीटर से अधिक लड़खड़ाती हुई और लाइन के पार चली गईं। लेकिन असली झटका बाद में लगा।

सीमा ने दौड़ के पहले हाफ में संजीवनी की गति से बराबरी करने की कोशिश की, लेकिन चतुराई दिखाते हुए खुद को थकान से बचाया। हिमाचल प्रदेश की धाविका दौड़ में अपनी स्थिति बनाए रखने पर ध्यान केंद्रित करने से ही संतुष्ट थी। शायद उन्हें इस बात का थोड़ा सा एहसास था कि दौड़ पूरी होने के बाद भाग्य का एक सुनहरा झटका उनका इंतजार कर रहा है।

Next Story
Share it