Begin typing your search above and press return to search.

राष्ट्रीय खेल

National Games 2022: अमलान बोरगोहेन सबसे तेज पुरुष, ज्योति याराजी सबसे तेज महिला

'मैं खुद के लिए सीमाएं तय नहीं करता। मैं बस कड़ी मेहनत करता हूं और जहां भी भगवान मुझे ले जाता है, मैं जाता हूं' - अमलान

Amlan Borgohain and Jyothi Yarraji
X

अमलान बोरगोहेन और ज्योति याराजी

By

The Bridge Desk

Updated: 2022-10-02T15:59:51+05:30

जब दौड़ने की बात आती है तो अमलान बोरगोहेन का एक सरल दर्शन है। परिस्थितियों या किसी भी चीज के बारे में ज्यादा न सोचो। बस तेज दौड़ो।

असम के इस 23 वर्षीय एथलीट ने आईआईटी गांधीनगर एथलेटिक्स ट्रैक पर पुरुषों की 100 मीटर रेस का स्वर्ण पदक जीतने और शनिवार को 36वें राष्ट्रीय खेलों के सबसे तेज व्यक्ति का खिताब जीतने के लिए घड़ी की सुइयों को 10.38 सेकेंड पर रोक दिया।

मौजूदा राष्ट्रीय रिकॉर्ड धारक अमलान ने सेमीफाइनल में 10.28 सेकेंड का समय दर्ज किया था और हालांकि वह उस प्रदर्शन में सुधार नहीं कर सके, लेकिन वह अपने पदक से खुश थे। अमलान ने मुस्कुराते हुए कहा, "आप जानते हैं, यह एक स्टेज शो की तरह है, कभी-कभी आप परफॉर्म करते हैं, कभी-कभी नहीं करते हैं।"

अद्भुत स्पष्टता और सम्मान की भावना के साथ अमलान ने कहा कि जब वह दौड़ रहे होते हैं तो वह कुछ भी नहीं सोचते हैं। अमलान ने कहा, "उन कुछ सेकंड्स में सोचने का समय नहीं होता है। आप बस अपने गेम प्लान को क्रियान्वित करने पर ध्यान केंद्रित करते हैं।"

अमलान ने खुलासा किया कि केवल एक चीज जिस पर उन्होंने ध्यान केंद्रित किया, वह था उनका पास्चर (मुद्रा)। अमलान बोरगोहेन ने कहा कि गर्मी उनके दिमाग में एक बार भी नहीं आईं। बकौल अमलान, "मैं इसके बारे में ज्यादा नहीं सोचता। यह सभी के लिए समान है। है ना? अखिल भारतीय रेलवे प्रतियोगिता में मैं दोपहर 2 बजे दौड़ा और 10.25 सेकंड का समय निकाला। इसलिए, मैं इस तरह के मौसम में आदी हूं।"

संयोग से, उन्होंने उस समय रायबरेली में गर्मी के बीच राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ा था और उन्हें लगता है कि उनका वह प्रदर्शन कई युवाओं को उत्तर पूर्व में एथलेटिक्स लेने के लिए प्रेरित कर सकता है। उन्होंने कहा, "हमारे पास कई फुटबॉल खिलाड़ी, भारोत्तोलक और मुक्केबाज हैं और अब साबित हो गया है कि हम एथलेटिक्स में इतने भी बुरे नहीं हैं।"

अमलान बोरगोहेन ने भी इस अवसर पर अपने परिवार द्वारा एथलेटिक्स में करियर बनाने में मदद करने के लिए किए गए बलिदानों को याद किया और कहा कि वह खुश हैं कि वह अच्छा परिणाम दे सके। अमलान ने अपनी बांह, जिस पर उन्होंने 'मां' का टैटू गुदवाया है, की ओर इशारा करते हुए कहा, "आप इसे देख रहे हैं। मैं उड़ीसा में था और अपनी मां के बारे में सोच रहा था और बस गया और इसे अपने हाथ पर इसे टैटू करवा लिया।"

अमलान ने खुलासा किया कि उन्होंने टैटू कराने से पहले अपनी मां को नहीं बताया था। यह पूछे जाने पर कि आने वाले वर्षों में वह कितनी तेजी से आगे बढ़ सकते हैं। उन्होंने अपना लक्ष्य बताने से इनकार कर दिया और जोर देकर कहा कि उनके लिए आकाश ही सीमा है। अमलान ने कहा, "मैं खुद के लिए सीमाएं तय नहीं करता। मैं बस कड़ी मेहनत करता हूं और जहां भी भगवान मुझे ले जाते हैं, जाता हूं।"

कुछ ही मिनटों के बाद, आंध्र प्रदेश की ज्योति याराजी ने दुती चंद और हिमा दास सहित सितारों से भरे मैदान में सबको चौंकाकर महिलाओं की 100 मीटर रोमांचक दौड़ में स्वर्ण पदक जीत लिया। खेलों में सबसे तेज महिला के रूप में उभरने के लिए 11.51 सेकंड का समय निकालने वाली दुबली पतली ज्योति ने कहा कि वह दौड़ से पहले बहुत रिलैक्स थी और अपनी जीत से खुश हैं।

ज्योति याराजी ने कहा, "मैं यहां जीतने या हारने के बारे में सोचकर नहीं आई थी। मैं सिर्फ एक अच्छा समय देना चाहती थी और इससे मुझे अपनी सबसे तेज दौड़ने में मदद मिली। " वह स्टार अपने विकास में स्प्रिंटर दुती चंद (ओडिशा) और हिमा दास (असम) द्वारा निभाई गई भूमिका के लिए धन्यवाद देने से पीछे नहीं हटीं

100 मीटर स्वर्ण पदक विजेता ज्योति याराजी

ज्योति ने कहा, "उन्होंने हमेशा मुझे प्रोत्साहित किया है और मैं उनके समर्थन के लिए उन्हें धन्यवाद देती हूं। मैं बस खुश हूं कि मैं जीत गई और उस तर्ज पर नहीं सोचती कि मैंने उन्हें हराया है। " अर्चना सुसींद्रन (तमिलनाडु) और डिआंड्रा वल्लादारेस (महाराष्ट्र) ने इस ब्लू रिबैंड इवेंट में क्रमशः रजत और कांस्य पदक जीता।

Next Story
Share it