रविवार, सितम्बर 27, 2020
होम ताज़ा ख़बर सुनील छेत्री का विकल्प अगले पांच सालों में भी नहीं दिखाई देता-आइगोर...

सुनील छेत्री का विकल्प अगले पांच सालों में भी नहीं दिखाई देता-आइगोर स्टीमैक

भारतीय फुटबॉल टीम के मुख्य कोच आइगोर स्टीमैक ने कहा है कि उन्हें अगले पांच सालों में भी सुनील छेत्री का विकल्प नहीं मिल पायेगा। इसके अलावा उन्होंने यह अभी अपील की है कि सुनील छेत्री को अपने खेल का आनंद लेने दिया जाना चाहिए। उन पर संन्यास को लेकर अतिरिक्त दबाव नहीं बनाया जाना चाहिए।

शुक्रवार को आइगोर स्टीमैक ने कहा, “ईमानदारी से कहूं तो छेत्री के बाद आगे क्या होगा यह सवाल मुझे परेशान करता है। हमारे पास टीम में सुनील हैं। लेकिन फिर भी हर कोई यह पूछता रहता है कि ‘वह कब जा रहा है या उनके जाने के बाद क्या होगा? उसे अपने खेल का आनंद लेने दें। हम उस पर दबाव क्यों बना रहे हैं?”

भारतीय कोच ने आगे कहा कि सुनील की कमी को पूरा कर पाना बहुत मुश्किल है। उन्होंने कहा, “उनके पास अभी काफी साल बाकी हैं, वह अपने खेल का आनंद ले रहे हैं और अभी भी गोल कर रहे हैं। उनके टीम से चले जाने के बाद हम उनकी कमी को एक टीम के रूप में पूरा करना है। यह एक व्यक्तिगत खिलाड़ी के बारे में नहीं है। उनकी जगह एक खिलाड़ी से भर पाना मुश्किल है। हमें नहीं लगता कि अगले पांच सालों में भी हमें उनका विकल्प नहीं मिल पायेगा। इसके लिए टीम का प्रयास करना चाहिए।”

स्टीमैक ने कहा सुनील छेत्री टीम के युवा खिलाड़ियों को सिखाने की कोशिश करते हैं। उन्होंने कहा, “वह बहुत सकारात्मक हैं और युवा खिलाड़ियों को सिखाने की कोशिश करते हैं कि कैसे अपना समय को खराब नहीं करना है। समय जल्दी से गुजर जाता है और वह जानते हैं कि अगर वह अपने कुछ साल बर्बाद नहीं करते तो खुद और बेहतर कर सकते थे।”

भारत के अगले फीफा विश्व कप में क्वालीफाई करने के सभी रास्ते बंद हो गये हैं लेकिन स्टीमैक का मानना है कि टीम अपने बचे हुए तीन मैच में अच्छा प्रदर्शन करेगा। भारत क्वालीफायर मुकाबलों में अफगानिस्तान और बांग्लादेश को भी नहीं हरा सका था। इसके अलावा उन्होंने कहा, “मुझे दुःख है कि हम क्वालीफायर में अफगानिस्तान और बांग्लादेश को नहीं हरा सके, लेकिन चीजें बदल रही हैं। हमने कुछ अच्छे मैच खेले और हमने कुछ मुश्किल मैचों का सामना किया। हमने पांच मैच खेले और केवल पांच गोल खाये, जो कि एक बड़ा सुधार है। पिछले बार हमने 18 गोल खाये थे।”