बुधवार, सितम्बर 23, 2020
होम ताज़ा ख़बर किंग्स कप: थाईलैंड को 1-0 से हराकर भारत को तीसरा स्थान

किंग्स कप: थाईलैंड को 1-0 से हराकर भारत को तीसरा स्थान

भारतीय फुटबॉल टीम ने थाईलैंड को 1-0 से हराते हुए चर्चित किंग्स कप में तीसरा स्थान हासिल किया। भारत के लिए एकमात्र गोल अनिरुद्ध थापा ने किया।

कोच इगोर स्टमक की अगुआई में भारतीय टीम की यह पहली जीत है। प्री मैच कांफ्रेंस में कोच इगोर ने कहा था कि वह टीम के हर खिलाडी को खेलने का मौका देना चाहते है, एक प्रयोग के तौर कोच ने सेमी फाइनल में न खेल पाए सभी खिलाड़ियों को प्लेइंग XI में शामिल किया, स्ट्राइकर सुनील छेत्री की जगह डिफेंडर सन्देश झिंगन को टीम की कमान दी गयी। रायनेर फर्नांडेस और अमरजीत सिंह ने भी टीम के लिए अपना पूर्ण रूप से पहला डेब्यू किया। थाईलैंड ने भी टीम में कई बदलाव किये, अपना 100 वा अंतराष्ट्रीय मैच खेल रहे तीरसिल दंगड़ा को टीम की कमान दी गयी।

 इस बार भी भारत 4-2-3-1 के फार्मेशन में शुरुआत की। अपने लॉन्ग पास की बजाय भारत ने निचले पासेज के सहारे अटैकिंग गेम खेलना चालू किया, वही थाईलैंड भी अटैकिंग शैली का उपयोग करते दिखी, पाचवे मिनट में ही गोलकीपर अमरिंदर सिंह और विनीत राय के बीच हुए कम्युनिकेशन गैप की वजह से थाईलैंड को मौका मिला लेकिन बॉल को आसानी से क्लियर कर दिया गया। इसके बाद थाईलैंड ने लगातार 2 हमले किये लेकिन दोनों बार अनिरुद्ध थापा और आदिल खान ने अवरोधित करते हुए इन्हे विफल कर दिया।

 17 वे मिनट में भारत को फ्री किक मिली, रायनेर फर्नांडेस ने राइट साइड से किक ली जिसे थाईलैंड ने लगभग क्लियर कर ही लिया था लेकिन बॉक्स के लेफ्ट फ्लेंक में आदिल खान ने बॉल को चेस करते हुए गोल पोस्ट के सामने क्रॉस किया जहा अनिरुद्ध थापा चौकन्ने खड़े थे, अनिरुद्ध ने बिना कोई गलती के बॉल को पोस्ट में डालते हुए भारत के लिए पहला गोल दागा। अनिरुद्ध थापा का यह दूसरा अंतराष्ट्रीय गोल था।

 35 वे मिनट में राहुल भेके लेफ्ट फ्लेंक में तीरसिल को रोकने में संघर्ष करते नज़र आये, तिरसिल ने बिना कोई गलती किये बॉल को गोल पोस्ट में डाल दिया लेकिन रेफ़री ने ऑफ़साइड फ्लैग दिखाते हुए गोल को अमान्य कर दिया। पहला हाफ ख़त्म होने के एक मिनट पहले ही फारुख को काउंटर अटैक करने का अच्छा मौका मिला और उन्होंने डिफेंस को भेदते हुए सीधे गोलकीपर के सामने आ गए लेकिन उन्होंने निर्णय लेते हुए बॉल को बलवंत सिंह को पास किया और थाई गोलकीपर को बॉल क्लियर करने के लिए पर्याप्त समय मिल गया। 59% के साथ थाईलैंड ने अच्छे मूव बनाये लेकिन भारत के खिलाफ गोल करने में असमर्थ रहे।

 दूसरे हाफ की शुरुआत के साथ ही भारत अपने दूसरे गोल की तलाश में दिखी, 49 वे मिनट में फारुख का शॉट गोल पोस्ट पे जा लगा, बलवंत ने रिबाउंड लेने की कोशिश भी लेकिन उनका शॉट गोल पोस्ट की बाहरी नेट पर लगा। 50 वे मिनट में मनवीर सिंह को बलवंत की जगह और 56 वे मिनट में फारुख की जगह जैकीचंद को टीम में उतारा गया।

62 वे मिनट में थाईलैंड के पास बराबरी करने का एक और मौका मिला, थाई खिलाडी सरचत के पास पर तिरसिल ने एक हैडर लगाया जो कि सीधा गोलकीपर अमरिंदर के हाथो में गया।

69 वे मिनट में भारत के पास गोल करने का एक और मौका आया जब थाई डिफेंडर के गोलकीपर को दिए बैक पास को अमरिंदर ने आसानी से अवरोधित करते हुए गोल की तरफ धकेला, लेकिन सुफान थोंगसांग ने इसे गोल पोस्ट के बिलकुल नज़दीकी छोर पर क्लियर कर दिया, इसकी वजसे से सुफान खुद को गंभीर रूप से चोटिल कर बैठे और उन्हें फील्ड से बहार ले जाना पड़ा।

76 वे मिनट में समद सहल को रायनेर फर्नांडेस की जगह टीम में रिप्लेस किया गया, इस सब्स्टिटूशन से लग गया था कि कोच इगोर का फोकस एक और गोल करके मैच को पूर्णतः अपने पक्ष में करना है, इसी बीच भारत को एक और फ्री किक मिली और लेकिन सहल की ख़राब किक की वजह से बॉल सीधे गोलकीपर के हाथो में गयी। 89 वे मिनट में थाईलैंड को फ्री किक मिली लेकिन पीरदोन चामृतसमी का हैडर गोल पोस्ट के बाहर गया और भारत के ऊपर से खतरा लगभग टल गया। 91 वे मिनट में गोलकीपर अमरिंदर ने आगे आकर तीरसिल के हैडर को पुश करते हुए थाईलैंड की मैच में बराबरी की सारी उम्मीदों पर पानी फेर दिया। भारत ने यह मैच 1-0 से अपने पक्ष में करते हुए किंग्स कप में तीसरा स्थान हासिल किया।

भारत की पांच महीनो में थाईलैंड पर दूसरी जीत है, इससे पूर्व भारत ने थाईलैंड को जनवरी में एशिया कप में 4-1 से हराया था। इस मैच की खास बात यह भी रही की एशिया कप में थाईलैंड के खिलाफ खेली टीम से सिर्फ तीन खिलाडी (सन्देश झिंगन, सुबाशिस बोसे और अनिरुद्ध थापा) मैच का हिस्सा थे।

 भारत अब जुलाई में अहमदाबाद में होने वाले इंटर कॉन्टिनेंटल कप में हिस्सा लेगी जहा उसका मुक़ाबला सीरिया, ताजीकिस्तान और नार्थ कोरिया से होगा।