Begin typing your search above and press return to search.

ताज़ा ख़बर

INSIDE STORY: करणी सिंह में भारत के दो दिग्गज निशानेबाज़ों के बीच मारपीट की असली वजह जानिए सिर्फ़ यहां

INSIDE STORY: करणी सिंह में भारत के दो दिग्गज निशानेबाज़ों के बीच मारपीट की असली वजह जानिए सिर्फ़ यहां
X
By

Syed Hussain

Published: 23 Oct 2019 12:08 PM GMT

रविवार को देश के सबसे बड़े शूटींग रेंज करणी सिंह शूटींग रेंज में दो भारतीय दिग्गज निशानेबाज़ों के बीच मारपीट का वीडियो सोशल मीडिया पर ख़ूब वायरल हुआ था। असल में ये वीडियो योगिन्दर पाल सिंह और बाबर ख़ान के बीच हुई कहासुनी और हाथापाई का वीडियो था, जिसे पूर्व भारतीय दिग्गज शूटर शिमौन शरीफ़ ने अपने ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किया था। शिमौन उस वक़्त वहां मौजूद तो नहीं थे लेकिन उनके जानने वाले एक शूटर ने उन्हें ये वीडियो भेजा और पूरी कहानी बताई थी।

द ब्रिज हिन्दी के कंटेंट हेड सैयद हुसैन के साथ EXCLUSIVE बातचीत में उन्होंने उस हादसे के बारे में भी बात की और इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया। शिमौन जो फ़िलहाल कोच हैं और www.indianshooting.com के संस्थापक भी हैं।

EXCLUSIVE: शिमौन शरीफ़ के साथ पूरा इंटरव्यू पढ़ने के लिए क्लिक करें यहां

‘’करणी सिंह रेंज अभी काफ़ी दबाव में है, शॉटगन की सुविधा सिर्फ़ करणी सिंह शूटींग रेंज में ही है। इसलिए करणी सिंह में पूरे देश से शूटर्स प्रैक्टिस करने के लिए आते हैं, और फिर उनकी तादाद इतने हो जाती है कि शॉटगन के लिए सभी के बीच बहुत समय होता है। उस दिन भी वही हुआ शॉटगन को लेकर आपस में योगिन्दर पाल सिंह और बाबर ख़ान के बीच बहस हुई और फिर नौबत मारपीट तक पहुंच गई। लेकिन ये नहीं होना चाहिए था, मैं 1995 से करणी सिंह रेंज में जा रहा हूं और ये पहली बार है जब मैंने ऐसी चीज़ें सुनी या देखी। शूटर को काफ़ी शांत और संयम होना ज़रूरी होता है, क्योंकि शूटींग में बंदूकें रहती हैं ये कोई फ़ुटबॉल की तरह खेल नहीं है जहां खिलाड़ी आक्रामक हो सकते हैं।‘’: शिमौन शरीफ़, पूर्व अंतर्राष्ट्रीय शूटर

रविवार को करणी सिंह में हुई मारपीट की तस्वीर (तस्वीर सौ:ट्विटर)

यहां जानिए और देखिए वह वीडियो जिसमें दो दिग्गज शूटर कर रहे हैं मारपीट

शिमौन शरीफ़ का ये ख़ुलासा करणी सिंह शूटींग रेंज के लिए किसी चेतावनी से कम नहीं है, साथ ही साथ भारतीय राइफ़ल संघ को भी चाहिए कि देश में दूसरी जगह भी इस तरह के शूटींग रेंज होने चाहिए जहां शॉटगन से लेकर सभी तरह की ज़रूरतें निशानेबाज़ों को मिल सके। अन्यथा आने वाले दिनों में इस तरह की घटना अगर दोबारा होती है, तो शायद इसके लिए हमें हैरान होने की ज़रूरत नहीं बल्कि तैयार रहना होगा।

Next Story
Share it