Begin typing your search above and press return to search.

भारोत्तोलन

एशियाई वेटलिफ्टिंग चैम्पियनशिप में मीराबाई जीतेगी स्वर्ण पदक- विजय शर्मा

एशियाई वेटलिफ्टिंग चैम्पियनशिप में मीराबाई जीतेगी स्वर्ण पदक- विजय शर्मा
X
By

Deepak Mishra

Updated: 2022-04-11T13:39:05+05:30

एशियाई वेटलिफ्टिंग चैम्पियनशिप 18 अप्रैल से चीन के निंगबो में शुरू हो रही है। इस चैंपियनशिप में भारत की अगुवाई विश्व चैम्पियनशिप 2017 की स्वर्ण पदक विजेता मीराबाई चानू करेगी। एशियाई चैम्पियनशिप 2020 टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाइंग प्रतियोगिता है। हालांकि राष्ट्रमंडल खेलों में दो बार स्वर्ण पदक जीतने वाली संजीता चानू को टीम में जगह नहीं मिली है। साफ है भारतीय वेटलिफ्टिंग टीम के लिए यह टूर्नामेंट काफी अहम है और यहां का प्रदर्शन ही उनके 2020 टोक्यो ओलंपिक की राह आसान करेगा। द ब्रिज ने एशियाई वेटलिफ्टिंग में भारतीय टीम की तैयारियों के उपर राष्ट्रीय वेटलिफ्टिंग टीम और मीराबाई चानू के कोच विजय शर्मा से खास बातचीत की। विजय शर्मा ने चीन में शुरू होने वाली इस प्रतियोगिता के बारे में बातचीत करते हुए कहा कि " हमारी तैयारियां काफी अच्छी चल रही है और हमें यहां पर शानदार प्रदर्शन की उम्मीद है। हम लोग इस चैंपियनशिप के लिए काफी समय से तैयारी कर रहे थे और हमारी टीम भी काफी अच्छी है। इसकी वजह से हम वहां अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देंगे''।

वर्ष 2018 में विश्व चैंपियनशिप के लिए हुए क्वालीफायर्स के लिए कई सीनियर भारतीय वेटलिफ्टर इंजरी से जूझ रहे थे। जिसकी वजह से वहां पर जूनियर टीम को भेजा गया था। हालांकि इस बार टीम में चार महिला और आठ पुरूष खिलाड़ी शामिल हैं। इस टीम में राष्ट्रमंडल खेलों में और युवा ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले सतीश शिवलिंगम और जेरेमी लालरिनुंगा भी हैं। वहीं महिला टीम में मीराबाई चानू की मौजूदगी टीम की ताकत को और ज्यादा बढ़ाती है। जाहिर है एशियाई चैंपियनशिप में शानदार प्रदर्शन से टोक्यो ओलंपिक का रास्ता साफ होगा। यह 2020 ओलंपिक के लिए क्वालीफाई टूर्नामेंट है। विजय शर्मा के मुताबिक "हमारे खिलाड़ियों को इस बारे में पता है और उन्होंने इसके लिए काफी कड़ी मेहनत की है। वैसे वहां पर और भी टीम आएगी जो अच्छा प्रदर्शन करेगी लेकिन हमारी टीम भी किसी मायनों में कम नहीं है"।

साइखोम मीराबाई चानू के लिए चीन में होने वाली एशियाई चैंपियनशिप करियर के लिए एक टर्निंग प्वाइंट साबित हो सकता है। पिछले काफी समय से चोट से जूझ रही मीराबाई इस चैंपियनशिप में देश का नेतृत्व कर रही है। वहीं वह खुद अपने प्रदर्शन को लेकर भी काफी आशवस्त नजर आ रही है। अमेरिका में 2017 में हुई विश्व चैम्पियनशिप की स्वर्ण पदक विजेता और पद्मश्री और राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित मीराबाई चानू के अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद उनके कोच विजय शर्मा को भी है। विजय शर्मा के मुताबिक "मीराबाई देश का नेतृत्व कर रही है। यह काफी सम्मान की बात है। वो लगभग 8 महीने से चोट से जूझ रही थी। लेकिन अब वह पूरी तरह से फिट है। एक समय पर वह रिहैबलिटेशन से गुजर रही थी और उनकी रिकवरी धीरे हो रही थी। लेकिन अब वह पूरी तरह से स्वस्थ हो चुकी है। उम्मीद है मीराबाई चीन में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देंगी और देश के लिए स्वर्ण पदक जीतेगी"।

चोट की वापसी के बाद मीराबाई के हौंसले मजबूत है। वह लगातार अच्छी ट्रेनिंग से अपनी तैयारियों को पुख्ता करने की कोशिश कर रही है। मीराबाई ने अपना सर्वश्रेष्ठ बीते साल राष्ट्रमंडल खेलों में दिया था और स्वर्ण पदक हासिल किया था। तब उन्होंने 196 किलोग्राम का भार उठाया था। चीन में होने वाली एशियाई चैंपियनशिप में मीराबाई अपने पुराने प्रदर्शन में सुधार करने की कोशिश करेगी। विजय शर्मा ने द ब्रिज से हुई खास बातचीत में कहा कि "ट्रेनिंग के दौरान मैने मीराबाई के साथ मिलकर काफी काम किया है। हमने अभ्यास में अपना सबकुछ झोंक दिया था। कई बार ट्रेनिंग के दौरान मीराबाई ने 210 कि.ग्रा. का लक्ष्य रखा था। जिसे मीराबाई ने पूरा किया और 210 कि.ग्रा का वजनभार उठाकर दिखाया। हमें उम्मीद है कि एशियाई चैंपियनशिप में भी मीराबाई 200 कि.ग्रा से उपर का भार उठाकर देश के लिए स्वर्ण जीतकर दिखाएगी"।

एशियाई चैपियनशिप में भारत की तरफ से महिला दल में झिल्ली दलबहेरा (55 किग्रा), स्वाति (59 किग्रा), राखी हलदर (64 किग्रा) भी शामिल है। जिससे भारत को अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है। विजय शर्मा के मुताबिक अगर इन खिलाड़ियों को अच्छा प्रदर्शन करना है तो अपने व्यक्तिगत भार में सुधार करना होगा। क्योंकि यह टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाइंग टूनामेंट है। इंटरनेशनल वेटलिफ्टिंग फेडरेशन में व्यक्तिगत क्वालीफाई करने का नियम का बनाया है। जिसके लिए इन्हें अकेले अपने दम पर ज्यादा भार उठाना होगा। वैसे सभी की ट्रेनिंग काफी अच्छी है तो उम्मीद है कि सभी बेहतर प्रदर्शन करेंगे।

साफ है किसी भी खिलाड़ी के लिए ओलंपिक में खेलना और वहां पदक जीतना सबसे बड़ा सपना होता है। भारतीय वेटलिफ्टिंग टीम के खिलाड़ियों का भी यही सपना है। राष्ट्रीय वेटलिफ्टिंग टीम के कोच विजय शर्मा का मानना है कि "हमारे खिलाड़ी टोक्यो ओलंपिक के लिए अपनी सभी ताकत लगा देंगे। हमारी तैयारियां काफी अच्छी चल रही है। हम पहले एशियाई चैंपियनशिप में अच्छा प्रदर्शन कर क्वालीफाई करेंगे उसके बाद टोक्यो ओलंपिक में भी पदक जीतकर देश का नाम रोशन करने की कोशिश करेंगे"।

Next Story
Share it