शुक्रवार, अक्टूबर 30, 2020
होम विशेष लोक सभा चुनाव 2019 में भाग्य आजमा रहे सुपरस्टार प्लेयर्स

लोक सभा चुनाव 2019 में भाग्य आजमा रहे सुपरस्टार प्लेयर्स

दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का सबसे बड़ा उत्सव, यानि कि लोकसभा चुनाव आ चुके हैं। एक चरण की वोटिंग भी हो चुकी है। इन चुनावों में तमाम नेताओं के बीच कुछ पूर्व प्लेयर्स भी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। फील्ड पर देश का नाम ऊंचा करने के बाद अब ये सीधे जनता की सेवा करना चाहते हैं। इन प्लेयर्स में क्रिकेटर्स, फुटबॉलर्स, शूटर्स और डिस्कस थ्रोअर मतलब स्पोर्ट्स की लगभग हर फील्ड में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुके लोग शामिल हैं। आइए आपको बताते हैं उन छह बड़े नामों के बारे में जो इस साल लोक सभा चुनावों में भाग ले रहे हैं…

1- राज्यवर्धन सिंह राठौर- रिटायर्ड कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौर (अति विशिष्ट सेवा मेडल) ने साल 2004 में हुए एथेंस ओलंपिक्स में डबल ट्रैप शूटिंग का सिल्वर मेडल जीता था। उस वक्त यह किसी भी भारतीय एथलीट द्वारा ओलंपिक्स में जीता गया सर्वोच्च सम्मान था। साल 2013 में आर्मी और शूटिंग दोनों से रिटायर होने के बाद राठौर पॉलिटिक्स में आए और बीजेपी के टिकट पर जयपुर ग्रामीण सीट से जीत हासिल की। राठौर ने बीजेपी सरकार में इन्फॉर्मेशन और ब्रॉडकास्ट मिनिस्ट्री में मिनिस्टर ऑफ स्टेट और फिर साल 2017 में कैबिनेट मिनिस्टर के तौर पर युवा और खेल मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार संभाला है। राठौर एक बार फिर से जयपुर ग्रामीण सीट से चुनाव लड़ रहे हैं जहां उनके सामने होंगी पूर्व ओलंपियन कृष्णा पूनिया।

2- कृष्णा पूनिया- तीन बार की ओलंपियन कृष्णा पूनिया डिस्कस थ्रो में अपनी उपलब्धियों के लिए पद्म श्री से सम्मानित की जा चुकी हैं। साल 2018 में हुए विधानसभा चुनावों में सादुलपुर विधानसभा से जीतने वाली पूनिया इस बार जयपुर ग्रामीण सीट से सिटिंग MP राज्यवर्धन सिंह राठौर के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं। साल 2004, 2008 और 2012 में ओलंपिक्स में भाग ले चुकीं पूनिया ने 2010 दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मेडल जीता था। इसके अलावा उन्होंने 2006 दोहा और 2010 ग्वांगझू एशियन गेम्स में ब्रॉन्ज मेडल्स भी जीते हैं। पूनिया ओलंपिक्स के ट्रैक एंड फील्ड इवेंट्स के फाइनल में जगह बनाने वाली सिर्फ तीसरी एथलीट भी हैं।

3.कीर्ति आजाद- कीर्तिवर्धन भगवत झा आजाद, जी हां कीर्ति आजाद का पूरा नाम यही है। पूर्णिया, बिहार में पैदा हुए कीर्ति आजाद ने भारत के लिए 7 टेस्ट और 25 वनडे मैच खेले हैं। सालों तक दिल्ली के लिए एक बेहतरीन ऑलराउंड के तौर पर खेले आजाद ने अपने करियर के 95 रणजी मैचों में 4867 रन बनाने के साथ 162 विकेट्स भी लिए हैं। साल 1983 में वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य रहे कीर्ति लंबे वक्त से राजनीति में हैं। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री भगवत झा आजाद के बेटे कीर्ति आजाद तीन बार बीजेपी के टिकट पर सांसद रह चुके हैं। इतना ही नहीं वह दिल्ली की गोल मार्केट सीट से विधायकी भी जीत चुके हैं। लंबे वक्त तक बीजेपी में रहने वाले कीर्ति को दिसंबर 2015 में केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के खिलाफ बोलने के चलते सस्पेंड कर दिया गया था। जिसके बाद उन्होंने बीती फरवरी में कांग्रेस का दामन थाम लिया और अब उनके टिकट पर झारखंड की धनबाद सीट से चुनाव लड़ रहे हैं।

 

4- प्रसून बनर्जी- अर्जुन अवॉर्डी पूर्व फुटबॉलर प्रसून लोक सभा चुनाव जीतने वाले पहले भारतीय प्रोफेशनल फुटबॉलर हैं। बनर्जी ने यह उपलब्धि साल 2013 में हावड़ा सदर लोक सभा सीट पर हुए उपचुनाव को जीतकर हासिल की थी। उपचुनाव के बाद साल 2014 में हुए आमचुनाव में भी उन्होंने इस सीट को जीता था। लेजेंडरी इंडियन फुटबॉलर पीके बनर्जी के छोटे भाई प्रसून एशियन ऑल स्टार XI में खेलने वाले सिर्फ दूसरे इंडियन फुटबॉलर हैं। मोहन बागान ने उन्हें अपनी ऑल टाइम बेस्ट XI में भी शामिल किया है। एशियन ऑल स्टार XI के लिए प्रसून ने ब्राज़ीली नेशनल टीम के खिलाफ दो मैच भी खेले थे, इनमें उनका सामना ज़िको, एडर, फल्काओ और सोक्राटेस जैसे प्लेयर्स से हुआ था। प्रसून 2019 के लोक सभा चुनाव में एक बार फिर हावड़ा सदर से अपनी किस्मत आजमाएंगे।

5- गौतम गंभीर- छह वनडे मैचों में भारत की कप्तानी करने वाले गौतम गंभीर ने अपनी कप्तानी में एक भी मैच नहीं हारा। 2007 के T20 वर्ल्ड कप और 2011 के वनडे वर्ल्ड कप के फाइनल्स में दीवार बनकर डटे रहे गंभीर दुनिया के सिर्फ चौथे जबकि भारत के इकलौते ऐसे प्लेयर हैं जिसने लगाातर पांच टेस्ट मैचों में सेंचुरी स्कोर की है। इतना ही नहीं गंभीर इकलौते ऐसे इंडियन बैट्समेन हैं जिसने लगातार चार टेस्ट सीरीज में 300 या उससे ज्यादा रन बनाए हैं। साल 2008 में अर्जुन अवॉर्ड जीतने वाले गंभीर 2009 की ICC रैंकिंग में नंबर-1 टेस्ट बैट्समेन थे। इसी साल उन्होंने ICC टेस्ट प्लेयर ऑफ द ईयर का अवॉर्ड भी अपने नाम किया था। साल 2019 में उन्हें पद्म श्री पुरस्कार ने नवाजा गया। दिसंबर 2018 में क्रिकेट से रिटायर होने वाले गंभीर ने बीते मार्च में बीजेपी की सदस्यता ले ली है और अब वह नई दिल्ली लोकसभा सीट से चुनाव लड़ सकते हैं।

6- नवीन जिंदल- कांग्रेस के दिग्गज नेता और उद्योगपति नवीन जिंदल को कौन नहीं जानता। आम भारतीय को कभी भी झंडा फहराने का अधिकार दिलाने वाले जिंदल कई बार सांसद रह चुके हैं। लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि जिंदल एक बेहतरीन शूटर भी हैं। उनकी कप्तानी में इंडियन शूटिंग टीम ने अप्रैल 2004 में पाकिस्तान में हुए साउथ एशियन फेडरेशन गेम्स में सिल्वर मेडल जीता था। इससे पहले साल 2002 में बुसान, साउथ कोरिया में हुए एशियन गेम्स में भी उन्होंने भाग लिया था। नेशनल और इंटरनेशनल लेवल शूटिंग में तमाम मेडल्स जीत चुके जिंदल पोलो के भी अच्छे प्लेयर हैं। जिंदल गुड़गांव में मई 2011 में हुई 54वीं नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप (बिग बोर) की सिविलियन कैटिगरी में गोल्ड मेडल जीतने वाली हरियाणा की टीम में भी थे। 14वीं और 15वीं लोक सभा के सदस्य रह चुके जिंदल इस बार फिर अपनी कुरुक्षेत्र सीट से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं।