सोमवार, जनवरी 18, 2021
होम विशेष टोक्यो ने प्रदर्शित किए पुराने गैजेट्स से बने 2020 ओलपिंक के पदक

टोक्यो ने प्रदर्शित किए पुराने गैजेट्स से बने 2020 ओलपिंक के पदक

उचित मात्रा में मूल्यवान धातुओं को निकालने के लिए, इस्तेमाल न किए गए गैजेट्स को सफलतापूर्वक एकत्रित करने के बाद, टोक्यो 2020 की ऑर्गनाइज़िंग कमिटी ने खेल शुरू होने के ठीक एक वर्ष पहले ओलम्पिक पदकों के डिज़ाइन प्रदर्शित कर दिए हैं।

पदकों को जूनिची कवानिशी द्वारा डिज़ाइन किया गया है जिन्होंने एक प्रतियोगिता जीती थी जिसमें 400 से अधिक प्रोफेशनल डिज़ाइनर्स और डिज़ाइन स्टूडेंट्स ने हिस्सा लिया था।

सभी पदक डायामीटर में 85mm हैं, सर्वाधिक पतला हिस्सा 7.7mm और सर्वाधिक मोटा हिस्सा 12.1mm.

स्वर्ण पदकों में शुद्ध चांदी पर 6 ग्राम से अधिक की गोल्ड प्लेटिंग की गई है, रजत पदक शुद्ध चांदी से बने हैं और कांस्य पदकों में लाल ब्रास का मिश्र धातु है जो 95 प्रतिशत तांबा और 5 प्रतिशत ज़िंक से बना है।

आईओसी के रेगुलेशन के अनुसार, डिज़ाइन में 5 प्रसिद्ध रिंग्स का चिन्ह, खेलों के आधिकारिक नाम और पनाथेनियाक स्टेडियम के सामने विजय की यूनानी देवी नाइक शामिल होने चाहिए।

टोक्यो 2020 की ऑर्गनाइज़िंग कमिटी ने जनता द्वारा डोनेट किए गए इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को एकत्रित करने के लिए अप्रैल 2017 में दो वर्षीय कैंपेन लॉन्च किया था ताकि ज़रूरी धातुओं को निकाला जा सके।

78,895 टन गैजेट्स प्राप्त किए गए थे जिनमें 6.21 मिलियन मोबाइल थे और इनसे लगभग 32 किलो स्वर्ण 3,500 किलो चांदी और 2,200 किलो कांस्य निकाला गया।