बुधवार, सितम्बर 30, 2020
होम ताज़ा ख़बर 2019 ट्रैक एशिया कप: भारत की झोली में अब तक 22 पदक,...

2019 ट्रैक एशिया कप: भारत की झोली में अब तक 22 पदक, एसो अल्बेन के बाद रोनाल्डो ने लगाई गोल्ड की हैट्रिक

भारत के लिए 2019 ट्रैक एशिया कप शानदार जा रहा है, पहले दिन जहां भारत की झोली में 12 पदक आए थे तो दूसरे दिन भी हिन्दुस्तान ने 10 पदक और जीतते हुए आंकड़े को 22 तक पहुंचा दिया है। इसमें सबसे बड़ा कमाल कर रहे हैं साइकिल पर सवार रफ़्तार के के सौदागर रोनाल्डो लैतोन्जम। रोनाल्डा ने पहले दिन जहां दो गोल्ड जीते थे वहीं दूसरे दिन भी 200 मीटर टाइम ट्रायल इवेंट में गोल्ड मेडल जीतते हुए हैट्रिक लगा डाली।

रोनाल्डो ने 200 मीटर टाइम ट्रायल इवेंट ने न सिर्फ़ स्वर्ण पदक जीता बल्कि मेंस जूनियर 200 मीटर ट्रायल इवेंट का रिकॉर्ड भी तोड़ डाला। रोनाल्डो ने क्वालिफ़ाइंग राउंड में 10.065 सेकंड्स में अपनी रेस पूरी की और इस तरह उन्होंने इस इवेंट में चाइना ल्यू के 2018 के रिकॉर्ड को तोड़ डाला। ल्यू की ने इसे 10.149 सेकंड्स में पूरा किया था।

‘’क्वालिफ़ाई करना तो मेरे दिमाग़ में चल रहा था, लेकिन जब मैंने स्कोर देखा तो हैरान रह गया। मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि मैंने रिकॉर्ड तोड़ दिया है।‘’ : रोनाल्डो लैतोन्जम, साइकलिस्ट, भारत

रोनाल्डो ने दो दिनों में जीता है तीन गोल्ड मेडल

रोनाल्डो की इस उपलब्धि पर भारतीय कोच ने भी ख़ुशी ज़ाहिर की और आगे भी इस तरह के रिकॉर्ड तोड़ने का भरोसा दिलाया।

‘’हमारे जूनियर्स बहुत ही शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं और आने वाले सालों में इस तरह के और भी कई रिकॉर्ड टूटेंगे। हमारी टीम पूरी मेहनत के साथ तैयारी कर रही है और अब उसके अच्छे नतीजे भी सामने आ रहे हैं।“: आर के शर्मा, साइकलिंग कोच, भारत

चाइना के ल्यू की के रिकॉर्ड को भी रोनाल्डो ने तोड़ डाला

रोनाल्डो के साथ साथ दो बार वर्ल्ड जूनियर चैंपियनशिप में पदक जीतने वाले 17 वर्षीय एसो अल्बेन ने भी एलीट मेंस स्प्रिट इवेंट में भी स्वर्ण पदक जीतते हुए अपने शानदार सफ़र को यहां भी जारी रखा है। भारत को दूसरे दिन कुल 10 पदक मिले जिसमें 4 स्वर्ण पदक, 4 रजत पदक और 4 कांस्य पदक शामिल हैं। साइकलिंग फ़ेडरेशन ऑफ़ इंडिया के तत्वाधान में पिछले साल भी भारत मेज़बान देश था और तब भी इसी तरह पदकों की बारिश हो रही थी। पहले दिन भारत ने 12 पदक जीते थे, जिसमें मेंस और विमेंस दोनों ही जूनियर टीम ने भारत को गोल्ड मेडल दिलाया था।