Begin typing your search above and press return to search.

क्रिकेट

लड़कियों के सड़कों पर क्रिकेट खेलने को आम बात बनाने में शायद मेरी भूमिका: मिताली राज

मिताली राज ने कहा कि बीसीसीआई की छत्रछाया में आने के बाद महिला क्रिकेट में पेशेवरपन आया

Mithali Raj Cricket
X

मिताली राज

By

Amit Rajput

Published: 16 Jun 2022 11:55 AM GMT

भारतीय क्रिकेट की दिग्गज महिला खिलाड़ी मिताली राज ने पिछले दिनों क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। वे पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा रन बनाने वाली महिला खिलाड़ी हैं। उन्होंने अपने करियर के कई नए कीर्तिमान बनाए। उन्होंने क्रिकेट खेलना तो शुरू एक युवा लड़की के तौर पर किया था, लेकिन उन्होंने संन्यास एक क्रिकेट लेजेंड के तौर पर लिया। उन्होंने अपने क्रिकेट करियर से देश और दुनिया की कई लड़कियों को क्रिकेट खेलने के लिए प्रेरित किया। जिसको लेकर उन्होंने हाल ही में अपने एक इंटरव्यू में जिक्र किया।

मिताली राज ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद दिए इंटरव्यू में कहा कि उन्हें तसल्ली है कि देश में लड़कियां अब सड़क पर क्रिकेट खेलती हुई आम नजर आ रही हैं। मिताली ने क्रिकेट में अपने योगदान पर बोलते हुए कहा कि मुझसे लोग मेरी विरासत के बारे में पूछते हैं लेकिन मेरे पास कोई अच्छा जवाब नहीं है। शायद लड़कियों के सड़कों पर क्रिकेट खेलने और अकादमियों में दाखिला लेने को आम बनाने में मेरी भूमिका रही। जब मैंने खेलना शुरू किया तब यह आम बात नहीं थी।

बीसीसीआई की महिला क्रिकेट को उबारने में भूमिका को लेकर मिताली राज ने कहा कि बीसीसीआई की छत्रछाया में आने के बाद महिला क्रिकेट में पेशेवरपन आया। स्थिरता, सुरक्षा और प्रगति आई। अब खेल होते ही सब पांच सितारा होटलों के कमरों में चले जाते हैं। अधिकांश लड़कियां फोन पर होती हैं। मैं यह नहीं कर रही कि यह गलत है लेकिन समय बदल गया है। टीम में मदभेदों पर उन्होंने कहा कि मतभेद होने स्वाभाविक है। सभी अच्छा खेलना चाहते हैं लेकिन सभी की राय अलग होती है।

मिताली ने इस दौरान आरक्षित टिकट के बिना ट्रेन में सफर करने को भी याद किया। उन्होंने कहा कि अब समय बदल गया है। लेकिन पहले ऐसा नहीं था। मुझे लगता है कि दोनों समय का अपना आकर्षण था। मुझे पहले भी बिना आरक्षित टिकट के सफर करने में मजा आता था। आज भी टीम के साथ सफर करने में मजा आता है।

वही संन्यास की घोषणा पर मिताली बोलीं- पहली बार मेरे दिमाग में संन्यास की बात आई जब राहुल द्रविड़ ने क्रिकेट को अलविदा कहा था। मैंने वो प्रेस वार्ता देखी थी। यह काफी जज्बाती थी और मुझे लगा कि मैं संन्यास लूंगी तो कैसा लगेगा। उन्होंने कहा कि मुझे लगता था कि इतना भावुक पल नहीं होगा। मुझे यह तो पता था कि विश्व कप मेरा आखिरी होगा लेकिन मैं जज्बात के उतार चढ़ाव के बीच फैसले नहीं लेती।

नवीनतम वीडियो
Next Story
Share it