शुक्रवार, सितम्बर 25, 2020
होम क्रिकेट NZ vs IND, पहला टेस्ट: पहले दिन भारत की खराब शुरुआत, आधी...

NZ vs IND, पहला टेस्ट: पहले दिन भारत की खराब शुरुआत, आधी टीम पवेलियन लौटी

भारत के शीर्षक्रम के बल्लेबात बेसिन रिजर्व की तेज उछालभरी पिच पर टिक नहीं सके और पहले टेस्ट के शुरूआती दिन न्यूजीलैंड ने काइल जैमीसन की शानदार गेंदबाजी की मदद से भारत के पांच विकेट 122 रन पर उखाड़ दिये। भारी बारिश के कारण चाय के बाद का खेल नहीं हो सका। भारत के लिये अजिंक्य रहाणे 122 गेंद में 38 रन बनाकर खेल रहे थे। अपना पहला टेस्ट खेल रहे छह फुट आठ इंच लंबे काइल जैमीसन ने 14 ओवरों में 38 रन देकर तीन विकेट लिये जिसमें कप्तान विराट कोहली और टेस्ट विशेषज्ञ चेतेश्वर पुजारा के कीमती विकेट शामिल थे।
पहले दिन की नम विकेट पर भारतीय बल्लेबाज बुरी तरह नाकाम रहे। जैमीसन ने फुल लैंग्थ और शार्टपिच गेंदों का मिश्रण फेंका जिसके सामने भारतीय बल्लेबाजों ने आसानी से घुटने टेक दिये। भारत के युवा बल्लेबाजों की तकनीकी कमजोरियों की भी कलई खुल गई। न्यूजीलैंड के गेंदबाजों ने इतना अनुशासित प्रदर्शन किया कि दूसरे सत्र में सिर्फ 43 रन बने। रहाणे ने 122 गेंद में चार चौकों की मदद से 38 रन बना लिये हैं। ऋषभ पंत 10 रन बनाकर खेल रहे हैं ।
मयंक अग्रवाल ने 84 गेंद में 34 रन बनाये जो लंच के बाद ट्रेंट बोल्ट को पुल शाट खेलने के प्रयास में आउट हुए। वहीं हनुमा विहारी (सात) जैमीसन का तीसरा शिकार बने।
सुबह न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन ने टास जीतकर गेंदबाजी का दुरूस्त फैसला लिया। पृथ्वी साव (18 गेंद में 16 रन) , चेतेश्वर पुजारा (42 गेंद में 11 रन) और कप्तान कोहली (सात गेंद में दो रन) क्रीज पर टिक ही नहीं सके। युवा बल्लेबाज साव ने बोल्ट को स्क्वेयर कट पर दो चौके लगाये लेकिन कमजोर तकनीक का उन्हें खामियाजा भुगतना पड़ा । साउदी की गेंद उनके पैड से टकराकर आफ स्टम्प पर जा लगी। पुजारा ने काफी संयम के साथ आफ स्टम्प से बाहर जाती गेंदों का सामना किया । दूसरे बदलाव के तौर पर आये जैमीसन ने हालांकि उनका संयम तोड़ दिया। जैमीसन की उछाल लेती एक गेंद पुजारा के बल्ले से टकराकर विकेटकीपर बीजे वाटलिंग के हाथ में गई। इसी तरह से उन्होंने कोहली को पवेलियन भेजकर भारत को सबसे बड़ा झटका दिया। कोहली ने अपना सौवां टेस्ट खेल रहे रोस टेलर को पहली स्लिप में कैच थमाया । रहाणे को कल दूसरे दिन काफी जिम्मेदारी से खेलना होगा जबकि खराब फार्म से जूझ रहे पंत के पास भी खुद को साबित करने का यह सुनहरा मौका है।