Begin typing your search above and press return to search.

राष्ट्रमंडल खेल

Commonwealth Games 2022 : राष्ट्रमंडल खेलों भारत के लिए ये लम्हें बने बुरे सपने जैसे, जानिए इन लम्हों के बारे में विस्तार से

राष्ट्रमंडल खेलों में इस बार भारत ने 22 स्वर्ण पदक 16 रजत जबकि 23 कांस्य पदक सहित कुल 61 पदक जीते थे।

Commonwealth Games 2022 : राष्ट्रमंडल खेलों भारत के लिए ये लम्हें बने बुरे सपने जैसे, जानिए इन लम्हों के बारे में विस्तार से
X
By

Amit Rajput

Published: 10 Aug 2022 7:52 AM GMT

बीते सोमवार को 15वें राष्ट्रमंडल खेलों का समापन हुआ। जहां भारत ने इस बार 60 से अधिक पदक जीतकर राष्ट्रमंडल खेलों में अपना पांचवा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। इन खेलों ने इस बार भारत को कई यादगार और ऐतिहासिक लम्हें दिए जिन्हें शायद ही कभी भारतीय खेल प्रेमी भूल पाएंगे। इन यादगार लम्हों के अलावा इस बार खेलों में भारतीय खिलाड़ियों के कुछ बुरे लम्हें भी आए। जिन्हें भी शायद ही कभी कोई भारतीय खिलाड़ी याद रख पाएंगा। आज हम आपको ऐसे ही राष्ट्रमंडल खेलों के कुछ लम्हों के बारे में बताने वाले है। जिन्हें शायद ही कभी कोई भारतीय खिलाड़ी या खेल प्रेमी याद रखना चाहेंगे। आईये नजर डालते हैं ऐसे ही कुछ चुनिंदों लम्हों।


जहां विवादों की शुरुआत लवलीना के नोट से हुई। जहां बर्मिंघम विलेज में सीमित संख्या में सहयोगी स्टाफ की अनुमति के साथ, लवलीना बोरगोहेन के कोच संध्या गुरुंग को एक अलग मान्यता दी गई, क्योंकि उन्हें विलेज के अंदर जाने की अनुमति नहीं दी गई। बॉक्सर ने मानसिक उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए सोशल मीडिया पर इस मुद्दे को उठाया। आखिरकार, बॉक्सिंग टीम के मुख्य कोच भास्कर भट्ट द्वारा उनके कोच की मान्यता देनी पड़ी। टीम डॉक्टर को भी अपनी मान्यता से हाथ धोना पड़ा, ताकि गुरुंग को मान्यता मिल सके।

इसके बाद दूसरा विवाद भारतीय महिला और आस्ट्रेलिया महिला हाॅकी टीम के मैच के बीच देखने को मिली। जहां ऑस्ट्रेलियाई महिला हॉकी टीम को भारत के खिलाफ सेमीफाइनल में पेनल्टी शूट-आउट फिर से लेने के लिए कहा गया था, जबकि अधिकारियों ने दावा किया था कि टाइमर काम नहीं कर रहा था। भारत की गोलकीपर और कप्तान सविता दंग रह गईं क्योंकि अधिकारियों ने उन्हें सूचित किया कि प्रयास फिर से किया जाएगा क्योंकि पहला शॉट लेने के समय टाइमर चालू नहीं था। ऑस्ट्रेलियाई टीम ने दोबारा शूट आउट के प्रयास में गोल दागा और मैच 3-0 से जीत लिया क्योंकि सभी तीन प्रयासों में भारतीय असफल रही थीं।

इसका बाद एक और भारत और आस्ट्रेलिया महिला टीम के फाइनल मैच में देखने को मिली। जहां एक खिलाड़ी को कोरोना संक्रमित होने के बावजूद एक मैच में खेलने की अनुमति दी गई है, जब से महामारी शुरू हुई है, तब से खेल पर इसका बुरा प्रभाव पड़ा है। बर्मिंघम 2022 की आयोजन समिति, आईसीसी, ऑस्ट्रेलिया और भारत के क्रिकेट बोर्डों ने ऑस्ट्रेलिया की हरफनमौला खिलाड़ी ताहलिया मैक्ग्रा को पॉजिटिव होने के बावजूद भारत के खिलाफ महिला टी-20 क्रिकेट फाइनल खेलने की अनुमति दी गई थी, जिससे भारतीय और ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों का स्वास्थ्य खतरे में पड़ गया।


नवीनतम वीडियो
Next Story
Share it