Begin typing your search above and press return to search.

शतरंज

बेंगलुरु के शतरंज खिलाड़ी किशोर प्रणव आनंद बने भारत के 76वें ग्रैंड मास्टर

15 साल के प्रणव ने ग्रैंड मास्टर की उपलब्धि हासिल करने के लिए बाकी मानदंडों को पहले ही पूरा कर दिया था।

बेंगलुरु के शतरंज खिलाड़ी किशोर प्रणव आनंद बने भारत के 76वें ग्रैंड मास्टर
X
By

Pratyaksha Asthana

Updated: 2022-09-16T13:35:40+05:30

रोमानिया के मामाइया में चल रही विश्व युवा शतरंज चैंपियनशिप में शतरंज खिलाड़ी प्रणव आनंद 2500 ईएलओ रेटिंग की संख्या पार करके भारत के 76वें ग्रैंड मास्टर बन गए हैं।

15 साल के प्रणव ने ग्रैंड मास्टर की उपलब्धि हासिल करने के लिए बाकी मानदंडों को पहले ही पूरा कर दिया था। प्रणव ने तीसरा और अंतिम ग्रैंडमास्टर नॉर्म जुलाई में स्विट्जरलैंड में खेले गए बील शतरंज महोत्सव में हासिल किया था। इसके अलावा प्रणव ने पहले दो ग्रैंडमास्टर नॉर्म सिटजेस ओपन और वेज़रकेप्सो राउंड रॉबिन प्रतियोगिताओं में हासिल किए थे।

बता दें ग्रैंड मास्टर बनने के लिए किसी भी खिलाड़ी को तीन ग्रैंड मास्टर नॉर्म हासिल करने होते हैं और इसके अलावा उनकी 'लाइव रेटिंग' 2500 ईएलओ अंकों से अधिक होनी चाहिए।

इस कामयाबी पर प्रणव के कोच वी सर्वनन ने कहा, ''वह शतरंज के प्रति जुनूनी है। वह इस खेल को बहुत चाहता है और घंटों तक अभ्यास करने के लिए तैयार रहता है।''

सर्वनन ने विश्व युवा शतरंज चैंपियनशिप के अंडर-16 वर्ग के नौवें दौर में प्रणव की जीत के बाद कहा, ''वह गणना करने और 'यंड गेम' में विशेष रूप से अच्छा है। अभी यह दोनों उसके मजबूत पक्ष हैं।''

नवीनतम वीडियो
Next Story
Share it