Begin typing your search above and press return to search.

शतरंज

भारत के 16 वर्षीय ग्रांडमास्टर प्रज्ञानानंद ने जीता पैरासिन ओपन

वें पूरे टूर्नामेंट में अजेय रहे और 8 अंक के साथ टूर्नामेंट में शीर्ष स्थान हासिल कर खिताब अपने नाम किया

Praggnanandhaa Chess
X
By

Amit Rajput

Updated: 2022-07-17T19:24:29+05:30

भारत के 16 वर्षीय ग्रैंडमास्टर आर प्रज्ञानानंद का शानदार प्रदर्शन जारी है। उन्होंने शनिवार को पैरासिन ओपन 'ए' शतरंज टूर्नामेंट 2022 का खिताब अपने नाम किया। वें पूरे टूर्नामेंट में अजेय रहे और 8 अंक के साथ टूर्नामेंट में शीर्ष स्थान हासिल कर खिताब अपने नाम किया।

भारतीय ग्रैंडमास्टर प्रज्ञानानंद ने टूर्नामेंट में भारत की महिला ग्रैंडमास्टर श्रीजा शेषाद्री, लचेजर योर्डानोव (बुल्गारिया), काजीबेक नोगेरबेक (कजाकिस्तान), हमवतन कौस्तव चटर्जी, आर्यस्तानबेक उराजेव (कजाखस्तान) पर शुरुआती छह मैचों में लगातार जीत के साथ अपना अभियान शुरू किया। प्रेडके ने सातवें दौर में उन्हें बराबरी पर रोका। उन्होंने इसके बाद आठवें दौर में अर्जुन कल्याण को शिकस्त दी और फिर नौवें दौर में सुलेमेनोव के साथ उनका मुकाबला बराबरी पर छूटा। इसी के साथ टूर्नामेंट में उनके 10 दौर में 8 अंक रहे।

वही टूर्नामेंट में एलेक्जेंडर प्रेडके 7.5 अंक के साथ दूसरे स्थान पर रहे। अलीशर सुलेमेनोव और भारत के एएल मुथैया ने एक समान सात अंक हासिल किये लेकिन बेहतर टाई-ब्रेक स्कोर के आधार पर कजाकिस्तान के सुलेमेनोव ने तीसरा स्थान हासिल किया। वही भारत के युवा अंतरराष्ट्रीय मास्टर वी प्रणव का अभियान अंतिम दौर में प्रेडके से हार के बाद 6.5 अंकों के साथ समाप्त हुआ। ग्रैंडमास्टर अर्जुन कल्याण (6.5 अंक) सातवें स्थान पर रहे।

Next Story
Share it