Begin typing your search above and press return to search.

मुक्केबाजी

Asian Boxing Champinships: लवलीना, परवीन, अल्फिया और मिनाक्षी ने फाइनल में प्रवेश किया

पांच भारतीय पुरुष मुक्केबाज गुरुवार को सेमीफाइनल में होंगे

Lovlina Borgohain boxing
X

लवलीना बोरगोहेन ( नीली पौशाक)

By

The Bridge Desk

Updated: 2022-11-10T14:16:53+05:30

2020 टोक्यो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता लवलीना बोरगोहेन, 2022 विश्व चैम्पियनशिप की कांस्य पदक विजेता परवीन के साथ-साथ प्रतियोगिता में नवोदित अल्फिया पठान और मिनाक्षी सभी ने 2022 एशियाई एलीट बॉक्सिंग चैंपियनशिप अम्मान, जॉर्डन में बुधवार को फाइनल में अपनी जगह सुरक्षित करने के लिए पावर-पैक प्रदर्शन किया।

लवलीना (75 किग्रा) अपने सेमीफाइनल मुकाबले में दक्षिण कोरिया की सेओंग सुयोन के सामने थी। शुरू से ही, लवलीना ने अपनी चतुर तकनीकों और रणनीतियों का प्रभावी ढंग से उपयोग करके अपने प्रतिद्वंद्वी को सर्वसम्मत निर्णय से 5-0 से हराया।

तीन राउंड के दौरान, असम में जन्मी मुक्केबाज ने दक्षिण कोरियाई पर हावी होने के लिए अपनी अपार ताकत और बेहतर तकनीकी गुणों का प्रदर्शन किया और उसे खेल में वापसी करने का कोई मौका नहीं दिया।लवलीना, जिनके नाम दो एशियाई चैंपियनशिप कांस्य पदक हैं, अब इस संस्करण में एक रजत की गारंटी है, जो प्रतियोगिता में उनके अब तक के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की पुष्टि करती है।

लवलीना के साथ, अल्फिया पठान (81+ किग्रा), परवीन (63 किग्रा) और मिनाक्षी (52 किग्रा) भी अपनी-अपनी सेमीफाइनल जीत में समान रूप से प्रभाशाली रही क्योंकि उन्होंने सर्वसम्मत निर्णय से 5-0 की जीत में अपने मुकाबलों में दबदबा बनाये रखा।

पिछली बाउट में अपने दबदबे की तरह ही, परवीन ने मंगोलिया के उरानबिलेग शिनसेटसेग के खिलाफ अपने सेमीफाइनल मैच में महारत हासिल की और 2019 दक्षिण एशियाई खेलों की चैंपियन ने एक और शक्तिशाली और आत्मविश्वास से भरे प्रदर्शन के साथ फाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली।

अल्फिया का सामना 2016 विश्व चैंपियन लज्जत कुंगेइबायेवा से हो रहा था, जिसे अब उन्होंने इस साल दो बार हराया है। 2021 यूथ बॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन अल्फिया ने 2022 एलोर्डा कप फाइनल में कजाखस्तान की इस खिलाडी को अपने गृह प्रतियोगिता में हराकर अपनी सीनियर इंटरनेशनल डेब्यू प्रतियोगिता में गोल्ड हासिल करके सबको चौंका दिया था।

दूसरी ओर, मिनाक्षी को 2021 एशियाई चैंपियनशिप के कांस्य पदक विजेता मंगोलिया के लुत्सैखान अल्तांतसेटसेग से भिड़ना था और रोहतक में जन्मी मुक्केबाज को अपनी आरामदायक जीत में मुश्किल से पसीना बहाना पड़ा।

चारो मुक्केबाज देश को सोना दिलाने के लिए अपनी तरफ से पूरी कोशिश करेंगे। लवलीना 2021 एशियाई चैंपियनशिप की रजत पदक विजेता रुज़मेतोवा सोखीबा से भिड़ेंगी, अल्फिया जॉर्डन की इस्लाम हुसैली के आमने-सामने होंगी जबकि मीनाक्षी और परवीन फाइनल में जापानी जोड़ी क्रमशः किनोशिता रिंका और किटो माई के खिलाफ रिंग में उतरेंगी।

अन्य सेमीफाइनल में अंकुशिता बोरो (66 किग्रा) और प्रीति (57 किग्रा) उज्बेकिस्तान की खामिदोवा नवबखोर से क्रमश: 1-4 और 2020 ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता जापान की इरी सेना से 0-5 से हारकर प्रतियोगिता से बाहर हो गईं। दोनों मुक्केबाजों ने पूरे टूर्नामेंट में अपने उल्लेखनीय प्रयास से कांस्य पदक हासिल किया।

बाद में आज रात, स्वीटी (81 किग्रा) जॉर्डन की लीना जाबेर के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबले के लिए रिंग में उतरेगी।

प्रतिष्ठित टूर्नामेंट के इस साल के संस्करण में भारत की कुल पदक संख्या 12 है, जो सभी प्रतिस्पर्धी देशों में तीसरी सबसे बड़ी है।

गुरुवार को छह बार के एशियाई पदक विजेता शिव थापा (63.5 किग्रा) और दो बार के राष्ट्रमंडल कांस्य पदक विजेता मोहम्मद हुसामुद्दीन (57 किग्रा) सहित पांच भारतीय पुरुष मुक्केबाज सेमीफाइनल में भिड़ेंगे। अन्य पुरुष मुक्केबाज़ नरेंद्र (92+ किग्रा), सुमित (75 किग्रा), और गोविंद कुमार साहनी (48 किग्रा) भी मुक़ाबलों में शामिल होंगे।

प्रतियोगिता में 27 शीर्ष मुक्केबाजी देशों के 267 मुक्केबाज भाग ले रहे हैं। महिला वर्ग के टूर्नामेंट का फाइनल शुक्रवार को और पुरुष वर्ग के लिए शनिवार को होगा।

Next Story
Share it