शनिवार, सितम्बर 26, 2020
होम ताज़ा ख़बर पूजा रानी सहित पांच मुक्केबाज़ों ने सेमीफाइनल में प्रवेश के साथ पक्का...

पूजा रानी सहित पांच मुक्केबाज़ों ने सेमीफाइनल में प्रवेश के साथ पक्का किया ओलिंपिक में स्थान

एशियाई चैम्पियन पूजा रानी (75 किग्रा), अनुभवी विकास कृष्ण (69 किग्रा) समेत पांच मुक्केबाजों ने रविवार को यहां एशियाई ओलंपिक क्वालीफायर के सेमीफाइनल में पहुंचकर इस साल होने वाले तोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया। भारत के जिन पांच मुक्केबाजों ने इस साल जुलाई अगस्त में होने वाले तोक्यो ओलंपिक में अपना स्थान पक्का किया है उनमें पूजा रानी और विकास कृष्ण के अलावा सतीश कुमार (+91 किलोग्राम), लोवलीना बोरगोहैन (69 किलोग्राम) तथा आशीष कुमार (75 किलोग्राम) शामिल हैं।

चौथी वरीय रानी ने थाईलैंड की पोर्निपा च्यूटी को 5-0 से जबकि विकास ने कड़े मुकाबले में तीसरे वरीय जापानी मुक्केबाज सेवोनरेट्स ओकाजावा को सर्वसम्मत फैसले में हराकर यहां एशिया/ओसियाना क्वालीफाइंग टूर्नामेंट में पदक पक्का किया। शाम के सत्र में विश्व चैंपियनशिप की दो बार की कांस्य पदक विजेता और दूसरी वरीय लवलीना ने उज्बेकिस्तान की मफतूनाखोन मेलीवा को हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई और ओलंपिक कोटा हासिल किया।

एशियाई खेलों में रजत पदक विजेता आशीष कुमार ने शानदार खेल दिखाते हुए इंडोनेशिया के एम आर मुस्किता को 5-0 से हराया जबकि राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक जीतने वाले सतीश कुमार ने मंगोलिया के डी ओटगोनबायर को 5-0 से हरा कर ओलंपिक में अपना स्थान पक्का किया । सचिन कुमार (81 किग्रा) को हालांकि क्वार्टर फाइनल मुकाबले में चीन के राष्ट्रीय चैम्पियन दाक्साइंग चेन से 2-3 से हार का सामना करना पड़ा।

सचिन अगर हारने वाले क्वार्टर फाइनलिस्ट के बीच दो बाक्स-आफ मुकाबलों में जीत हासिल कर लें तो वह अब भी ओलंपिक में स्थान हासिल कर सकते हैं। पूजा और लवलीना ने जहां पहली बार ओलंपिक कोटा हासिल किया वहीं विकास ने लगातार तीसरी बार इस महासमर के लिये क्वालीफाई किया जिसका आयोजन जुलाई-अगस्त में किया जाना है। पूजा तीन बार की एशियाई पदक विजेता हैं और वह 2014 एशियाई खेलों में कांस्य पदक भी जीत चुकी हैं। पूजा ने कहा, ‘‘मैं इस मुक्केबाज के खिलाफ नहीं खेली थी, मैं थोड़ी डरी हुई थी। मैंने बाउट से पहले अपने कोचों को इसके बारे में बता दिया था। उन्होंने मेरा आत्मविश्वास बढ़ाया और मैं एकतरफा नतीजा हासिल कर सकी। मैं खुश हूं।”

पूजा का सामना अब मौजूदा विश्व और एशियाई चैम्पियन चीन की लि कियान से होगा। शीर्ष वरीय कियान ने दिन के पहले मुकाबले में मंगोलिया की म्यागमारजारगल मुंखबाट को 5-0 से मात दी। विकास को हालांकि पिछले साल ओलंपिक परीक्षण स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने वाले ओकाजावा के खिलाफ कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। लेकिन उन्होंने लगातार दमदार मुक्कों से अंक जुटाकर 5-0 से जीत हासिल की। अब वह सेमीफाइनल में कजाखस्तान के दूसरे वरीय अबलेखान झुसुपोव से भिड़ेंगे जिन्होंने थाईलैंड के वुटीचाई मासुक को हराया। विकास पेशेवर मुक्केबाजी में हाथ आजमाने के बाद एमेच्योर में वापसी कर रहे हैं। वापसी के बाद उन्होंने दिसंबर में दक्षिण एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक हासिल किया। सेमीफाइनल में विकास का सामना दूसरे वरीय कजाखस्तान के अबलेखान जुसुपोव से होगा जो विश्व चैंपियनशिप के दो बार के कांस्य पदक विजेता और एशियाई चैंपियनशिप के पूर्व रजत पदक विजेता हैं। जुसुपोवा ने सर्वसम्मत फैसले से थाईलैंड के वुतिचाई मासुक को हराया। वहीं सचिन को अपने से लंबी कद काठी के चेन से पराजय झेलनी पड़ी।