गुरूवार, नवम्बर 26, 2020
होम ताज़ा ख़बर FIBA ने भारत को दी बड़ी ख़ुशख़बरी, नियमों में फेरबदल के बाद...

FIBA ने भारत को दी बड़ी ख़ुशख़बरी, नियमों में फेरबदल के बाद टीम इंडिया खेलेगी ओलंपिक क्वालिफ़ायर

भारतीय खेल प्रेमियों और भारतीय महिला बास्केट बॉल टीम के लिए अंतर्राष्ट्रीय बास्केट बॉल संघ (FIBA) ने एक बेहत ख़ुशख़बरी सुनाई है, FIBA ने ये फ़ैसला किया है कि वह भारतीय बास्केट बॉल टीम को प्री क्वालिफ़ाइंग ओलंपिक टूर्नामेंट से बाहर नहीं करेगी और उन्हें शामिल कर लिया गया है।

फ़िलिपीन्स से हार कर टीम इंडिया की उम्मीदों पर फिर गया था पानी

आपको बता दें कि टूर्नामेंट के नियमानुसार, भारत इस ओलंपिक क्वालिफ़ायर से बाहर हो गया था। क्योंकि टीम इंडिया डीविज़न A में इसी हफ़्ते आख़िरी स्थान पर रही थी और इस तरह से उन्हें डीविज़न A से बाहर भी होना पड़ा। नियमानुसान डीविज़न A में शामिल देशों के बीच ही प्री क्वालिफ़ाइंग ओलंपिक टूर्नामैंट खेला जाता है, इस तरह भारत इस दौड़ से बाहर हो गया था।

डीविज़न-A की टॉप-7 टीमों और डीविज़न-B की विजेता ही ओलंपिक क्वालिफ़ायर में शामिल होते हैं, उस लिहाज़ से भारत का टोक्यो 2020 में शामिल होने का सपना फ़िलिपीन्स से हार के साथ ही ख़त्म हो गया था। लेकिन अचानक FIBA के आए इस फ़ैसले ने भारतीय बास्केट बॉल टीम के उस सपने को दोबारा सच करने का मौक़ा दे दिया है।

वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में इन 4 भारतीयों ने फ़ाइनल में पहुंचकर हासिल किया टोक्यो का टिकेट

दरअसल, FIBA ने ये फ़ैसला इस आधार पर किया है कि इस साल डीविज़न-B टूर्नामेंट नहीं हो पाए थे, क्योंकि इसकी मेज़बानी करने के लिए कोई देश नहीं था। जिसके बाद डीविज़न-B से भारत को FIBA ने ओलंपिक क्वालिफ़ायर में शामिल करने का फ़ैसला किया है, ऐसा बताया जा रहा है कि ये निर्णय भारत के फ़िलिपीन्स वाले मैच के दिन ही लिया गया था।

FIBA ने प्री क्वालिफ़ाइंग ओलंपिक के ड्रॉ का भी ऐलान कर दिया है, जिसमें 8 टीमों को दो-दो ग्रुप में रखा गया है। भारत ग्रुप बी में है, जहां उनके साथ जापान, ऑस्ट्रेलिया और चाइनीज़ ताइपे शामिल हैं। इस टूर्नामेंट की 4 टीमों को टोक्यो ओलंपिक का टिकेट मिलेगा, यानी दोनों ग्रुप से जो टॉप-2 टीमें सेमीफ़ाइनल में पहुंचेगी उन्हें ओलंपिक का टिकेट भी मिल जाएगा।

FIBA प्री क्वालिफ़ाइंग ओलंपिक ड्रॉ:

ग्रुप ए: कोरिया, न्यूज़ीलैंड, फ़िलिपीन्स और चाइना

ग्रुप बी: जापान, ऑस्ट्रेलिया, चाइनीज़ ताइपे और भारत