Begin typing your search above and press return to search.

बैडमिंटन

डेनमार्क ओपन: सिंधू की गैरमौजूदगी में किदांबी श्रीकांत, लक्ष्य सेन, एचएस प्रणय पर नजरें

सिंधू राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने के दौरान लगी टखने की चोट से उबर रही हैं

Lakshya Sen badminton
X

लक्ष्य सेन

By

Bikash Chand Katoch

Published: 18 Oct 2022 6:09 AM GMT

चोटिल पीवी सिंधू की गैरमौजूदगी में भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों के लिए आज से शुरू हो रहे डेनमार्क ओपन सुपर 750 टूर्नामेंट में राह आसान नहीं होगी। सिंधू राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने के दौरान लगी टखने की चोट से उबर रही हैं। उनकी गैरमौजूदगी में सभी की नजरें किदांबी श्रीकांत, लक्ष्य सेन, एचएस प्रणय के अलावा सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की पुरुष युगल जोड़ी पर होगी जिन्होंने अगस्त में टोक्यो में विश्व चैंपियनशिप में ऐतिहासिक कांस्य पदक जीता था।

भारत के किसी एकल खिलाड़ी को वरीयता नहीं मिली है जिसके कारण उन्हें मुश्किल ड्रॉ मिला है। दुनिया की सर्वश्रेष्ठ आठवीं विश्व रैंकिंग पर पहुंचने वाले लक्ष्य पहले दौर में छठे वरीय एंथोनी सिनिसुका गिनटिंग से भिड़ेंगे जिनके खिलाफ उन्होंने अब तक दोनों मुकाबले जीते हैं। भारतीय खिलाड़ी ने उन्हें इस साल जर्मन ओपन और थॉमस कप फाइनल में हराया था।

लेकिन यह देखना होगा कि भारतीय खिलाड़ी ब्रेक के बाद वापसी करते हुए लय में होगा या नहीं। लक्ष्य अगर पहले दौर में जीत दर्ज करते हैं तो उनकी भिड़ंत साथी भारतीय एचएस प्रणय से हो सकती है जिन्हें पहले दौर में झाओ जुन पेंग से भिड़ना है। प्रणय के लिए यह मुकाबला आसान नहीं होने वाला। चीन के दुनिया के 19वें नंबर के खिलाड़ी पेंग ने अब तक प्रणय के खिलाफ दोनों मैच जीते हैं। उन्होंने भारतीय खिलाड़ी को अगस्त में विश्व चैंपियनशिप जबकि जून में इंडोनेशिया ओपन में हराया।

श्रीकांत को पहले दौर में एंगस एनजी का लोंग से भिड़ना है। दोनों ने एक दूसरे के खिलाफ तीन-तीन मुकाबले जीते हैं। दोनों खिलाड़ियों के बीच हुए पिछले मुकाबले में श्रीकांत ने हांगकांग में खिलाड़ी को हराया था लेकिन यह मैच एक साल से भी अधिक समय पहले हाइलो ओपन के दौरान हुआ था। श्रीकांत हालांकि तब से अपने प्रदर्शन में निरंतरता लाने के लिए जूझ रहे हैं। श्रीकांत अगर पहले दौर में जीत दर्ज करते हैं तो उनकी भिड़ंत सातवें वरीय सिंगापुर के पूर्व विश्व चैंपियन लोह कीन युव से हो सकती है।

शीर्ष वरीय, प्रबल दावेदार और दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी विक्टर एक्सेलसन को भी उनके क्वार्टर में जगह मिली है। एक्सेलसन मौजूदा विश्व चैंपियन भी हैं। एक्सेलसन पहले दौर में कुनलावुत विदित सार्न से भिड़ेंगे जिन्हें उन्होंने विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में हराया था।

अनुभवी साइना नेहवाल महिला एकल में चुनौती पेश करने वाली एकमात्र भारतीय हैं। वह चीन की झेंग यी मान से भिड़ेंगी जिन्होंने दोनों खिलाड़ियों के बीच 2016 में हुए एकमात्र मुकाबले में झेंग ने साइना को हराया था। साइना अगर जीत दर्ज करने में सफल रहती हैं तो उनका सामना पांचवीं वरीय रतचानोक इंतानोन से हो सकता है।

पुरुष युगल में विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाले सात्विक और चिराग पहले दौर में केंग मिन ह्युक और सियो सियंग जेई की जोड़ी से भिड़ेंगे। कोरिया की इस जोड़ी ने अप्रैल में भारतीय जोड़ी को हराया था। महिला युगल में राष्ट्रमंडल खेलों की कांस्य पदक विजेता त्रीशा जॉली और गायत्री गोपीचंद को पहले दौर में एलेक्सांद्रा बोये और एमेली मेगलुंड की जोड़ी के खिलाफ उतरना है। मिश्रित युगल में तनिषा क्रास्टो और ईशान भटनागर को इंडोनेशिया के मिथा हेनिंगत्यास मेंतारी और रिनोव रिवाल्डी का सामना करना है।

नवीनतम वीडियो
Next Story
Share it