Begin typing your search above and press return to search.

कुश्ती

भारतीय खेल इतिहास में पहली बार पद्म अवॉर्ड्स के लिए भेजे गए सभी के सभी महिलाओं के नाम, पहली बार किसी महिला को पद्म विभूषण के लिए किया गया नामित

भारतीय खेल इतिहास में पहली बार पद्म अवॉर्ड्स के लिए भेजे गए सभी के सभी महिलाओं के नाम, पहली बार किसी महिला को पद्म विभूषण के लिए किया गया नामित
X
By

Syed Hussain

Published: 12 Sep 2019 9:15 AM GMT

पद्म विभूषण के लिए किसी महिला का नाम पहली बार भारतीय इतिहास में नामित किया गया है, और ये नाम है 6 बार की वर्ल्ड चैंपियन एम सी मैरीकॉम। पद्म विभूषण पुरस्कार भारत रत्न के बाद देश का दूसरा सबसे उच्च नागरिक सम्मान है। मैरीकॉम को इससे पहले भी 2006 में पद्मश्री और 2013 में पद्मभूषण से सम्मानित किया जा चुका है।

36 वर्षीय मैरीकॉम को भारतीय जनता पार्टी की तरफ़ से 2016 में राज्यसभा सांसद भी बनाया गया था। मैरीकॉम की नज़र अपने एक और ओलंपिक के लिए भी क्वालिफ़ाई करने पर है, इससे पहले 2012 लंदन ओलंपिक्स में उन्होंने भारत के लिए कांस्य पदक भी जीता था।

एम सी मैरीकॉम

इतना ही नहीं इससे भी हैरान करने वाला और क़ाबिल-ए-तारीफ़ ये है कि खेल मंत्रालय की तरफ़ से पद्म पुरस्कार के लए नामित कुल 9 महिला खिलाड़ी शामिल हैं। जिनमें बैडमिंटन की मौजूदा महिला वर्ल्ड चैंपियन पी वी सिंधु के नाम पर देश के तीसरे उच्च नागरिक सम्मान पद्मभूषण के लिए नामित किया गया है। इससे पहले भी सिंधु के नाम पर 2017 में पद्माभूषण के लिए सिफ़ारिश की गई थी लेकिन तब उन्हें ये सम्मान नहीं मिल पाया था, जबकि 2015 में उन्हें पद्मश्री से नवाज़ा जा चुका है।

पी वी सिंधु

इससे पहले पद्म विभूषण तीन खिलाड़ियों को दिया जा चुका है, जिसकी शुरुआत 2007 में चेस चैंपियन विश्वनाथन आनंद के साथ हुई थी। 2008 में क्रिकेट के सरताज सचिन तेंदुलकर को भी पद्म विभूषण से नवाज़ा गया था और 2008 में ही दिग्गज पर्वतरोही सर एडमंड हिलेरी को भी इस पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।

एम सी मैरीकॉम और पी वी सिंधु के अलावा जो दूसरी 7 महिलाएं पद्म पुरस्कार के लिए नामित की गईं हैं, उनके नाम हैं – विनेश फ़ोगाट (महिला रेसलर), मनिका बत्रा (टेबल टेनिस), हरमनप्रीत कौर (क्रिकेट), रानी रामपाल (हॉकी), सुमा शिरुर (शूटर), ताशी और नुंगशी मलिक (दोनों पर्वतरोही)। इन सभी नामों की सिफ़ारिश गृह मंत्रालय को भेज दी गई है, जिसकी घोषणा गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या यानी 25 जनवरी 2020 को की जाएगी।

Next Story
Share it