सोमवार, सितम्बर 28, 2020
होम ताज़ा ख़बर बैडमिंटन रैंकिंग पर रोक, 17 मार्च की रैंकिंग के आधार पर टूर्नामेंटों...

बैडमिंटन रैंकिंग पर रोक, 17 मार्च की रैंकिंग के आधार पर टूर्नामेंटों में मिलेगी वरीयता

बैडमिंटन विश्व महासंघ (बीडब्ल्यूएफ) ने मंगलवार को विश्व रैंकिंग फ्रीज (बंद) करने का फैसला किया और कहा कि जब अंतरराष्ट्रीय कैलेंडर शुरू होगा तो 17 मार्च तक के स्थान के आधार पर प्रवेश और वरीयता दी जायेगी। कोविड-19 महामारी के कारण अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगितायें स्थगित या रद्द करनी पड़ी हैं।

इसके बाद विश्व रैंकिंग को फ्रीज करने की गुहार की जा रही थी जिसमें भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल, बी साई प्रणीत, पारूपल्ली कश्यप और एच एस प्रणय ने चिंता व्यक्त की थी। बीडब्ल्यूएफ ने अपनी विज्ञप्ति में कहा, ‘‘बीडब्ल्यूएफ घोषणा कर सकता है कि वह अपनी विश्व रैंकिंग और विश्व जूनियर रैंकिंग अगले नोटिस तक फ्रीज कर देगा। फ्रीज की हुई रैंकिंग 12वें हफ्ते की होगी जो अंतिम अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट – योनेक्स आल इंग्लैंड ओपन 2020 – के बाद के हफ्ते की है। ’’ इसके अनुसार, ‘‘17 मार्च 2020 को जारी रैंकिंग सूची अगले अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट की प्रविष्टि और वरीयता का आधार होगी। हालांकि इस समय यह कहना मुश्किल है कि ऐसा कब होगा।’’

इससे पहले भारतीय शटलरों ने रैंकिंग को स्थिर करने का आग्रह किया था। भारतीय खिलाड़ी बी साई प्रणीत ने पीटीआई से कहा, ‘‘बीडब्ल्यूएफ ने कोरोना वायरस के कारण टूर्नामेंट स्थगित कर दिये हैं लेकिन तब भी हमारे अंक काटे जा रहे हैं। स्विस ओपन स्थगित कर दिया गया लेकिन तब भी मेरे अंक काट दिये गये। अगर इस तरह से वे स्थगित कर दिये गये सभी क्वालीफायर्स के अंक काटेंगे तो फिर मैं नहीं जानता कि क्या होगा। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘बीडब्ल्यूएफ को रैंकिंग को स्थिर कर देना चाहिए, इसके बाद वे ओलंपिक की तिथियों के आधार पर क्वालीफिकेशन पर फैसला कर सकते हैं लेकिन अभी कोई स्पष्टता नहीं है। ’’ 

यह भी पढ़ें: विश्व बैडमिंटन महासंघ वर्ल्ड चैंपियनशिप की तारीखों का विकल्प तलाश रहा 

यह भी पढ़ें: भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों की बीडब्लूएफ से रैंकिंग को स्थिर रखने का आग्रह