Begin typing your search above and press return to search.

एथलेटिक्स

विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप: नीरज चोपड़ा ने रचा इतिहास, रजत पदक जीतने वाले पहले भारतीय बने

नीरज अपने स्वर्णिम करियर में ओलंपिक, एशियाई खेल, अंडर-20 विश्व, राष्ट्रमंडल खेल और डायमंड लीग में पदक जीत चुके हैं।

विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप: नीरज चोपड़ा ने रचा इतिहास, रजत पदक जीतने वाले पहले भारतीय बने
X
By

Bikash Chand Katoch

Updated: 2022-07-24T11:37:38+05:30

नीरज चोपड़ा ने भालाफेंक स्पर्धा में 88.13 मीटर के थ्रो के साथ रजत पदक जीतकर इतिहास रच दिया है। टोक्यो ओलंपिक चैंपियन नीरज ने विश्व चैंपियनशिप में दूसरे नंबर पर रहते हुए रजत पदक अपने नाम किया। इस स्पर्धा का स्वर्ण पदक ग्रेनाडा के एंडरसन पीटर्स ने जीता। वह इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता में रजत पदक जीतने वाले पहले भारतीय हैं। इससे पहले साल 2003 में लॉन्ग जंप में अंजू बॉबी जॉर्ज ने देश के लिए कांस्य पदक जीता था। नीरज अपने स्वर्णिम करियर में ओलंपिक, एशियाई खेल, अंडर-20 विश्व, राष्ट्रमंडल खेल और डायमंड लीग में पदक जीत चुके हैं।

फाउल से शुरूआत करने वाले चोपड़ा ने शानदार वापसी करते हुए दूसरे प्रयास में 82.39, तीसरे में 86.37 और चौथे प्रयास में 88.13 मीटर का थ्रो फेंका जो सत्र का उनका चौथा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है । उनका पांचवां और छठा प्रयास फाउल रहा ।ग्रेनाडा के एंडरसन पीटर्स ने 90.54 मीटर के साथ स्वर्ण पदक जीता जबकि चेक गणराज्य के याकूब वालडेश को कांस्य पदक मिला जिन्होंने 88.09 मीटर का थ्रो फेंका ।

भारत के रोहित यादव 78.72 मीटर के सर्वश्रेष्ठ थ्रो के साथ दसवें स्थान पर रहे ।

चोपड़ा ने पिछले साल टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीता था और निशानेबाज अभिनव बिंद्रा के बाद ओलंपिक की व्यक्तिगत स्पर्धा में स्वर्ण जीतने वाले वह पहले भारतीय हैं । पीटर्स ने 90.21 मीटर से शुरूआत की और उनका उसके बाद 90.46 , 87.21, 88.11, 85.83 मीटर के थ्रो फेंके । पांच प्रयासों के बाद ही उनका स्वर्ण सुनिश्चित हो गया था लेकिन उन्होंने छठा थ्रो 90.54 मीटर फेंका जो उनका सर्वश्रेष्ठ थ्रो रहा।

चोपड़ा ने ग्रुप ए क्वालीफिकेशन में शुरूआत की और 88.39 मीटर का थ्रो फेंका था जो उनके कैरियर का तीसरा सर्वश्रेष्ठ थ्रो था । गत चैम्पियन पीटर्स ने ग्रुप बी में 89.91 मीटर का थ्रो लगाकर पहला स्थान हासिल किया था । चोपड़ा का सर्वश्रेष्ठ निजी प्रदर्शन 89.94 मीटर का है । उन्होंने लंदन विश्व चैम्पियनशिप 2017 में खेला था लेकिन फाइनल के लिये क्वालीफाई नहीं कर पाये थे । दोहा में 2019 विश्व चैम्पियनशिप में वह कोहनी के आपरेशन के कारण नहीं खेल सके थे।

चोपड़ा ने इस सत्र में दो बार पीटर्स को हराया था जबकि पीटर्स जून में डायमंड लीग में विजयी रहे थे । पीटर्स अब सत्र में छह बार 90 मीटर से अधिक का थ्रो फेंक चुके हैं जबकि चोपड़ा अभी तक यह बाधा पार नहीं कर पाये हैं । रोहित ग्रुप बी में 80.42 मीटर का थ्रो फेंककर छठे स्थान पर और कुल 11वें स्थान पर रहे थे। उनका सत्र का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 82.4 मीटर है जो उन्होंने राष्ट्रीय अंतर प्रांत चैम्पियनशिप में पिछले महीने हासिल करके रजत पदक जीता था।

टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले नीरज लगातार शानदार प्रदर्शन करते आ रहे हैं।

हाल ही में हुई डायमंड लीग में नीरज ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 89.94 मीटर दूर भाला फेंककर अपना ही राष्ट्रीय रिकार्ड तोड़ा था। इससे पहले उनका रिकार्ड 89.30 मीटर था जो उन्होंने पावो नुर्मी खेलों में रजत पदक हासिल करते हुए बनाया था। उन्होंने बीते 18 जून को कुआर्तोन खेलों में 86.69 मीटर दूर भाला फेंककर स्वर्ण पदक पर कब्जा किया था।

जबकि 2017 में लंदन में हुई विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में नीरज क्वालीफाइ करने में नाकाम रहे थे, और 2019 में दोहा एथलेटिक्स चैंपियनशिप में नीरज चोट लगने के कारण भाग नहीं ले पाए थे। लेकिन इस बार हुई विश्व चैंपियनशिप में नीरज ने शानदार प्रदर्शन करते हुए रजत पदक हासिल कर देश का सीना गर्व से ऊंचा कर दिया।

गौरतलब है कि नीरज भारतीय सेना की राजपूताना रेजीमेंड में सूबेदार हैं।

Next Story
Share it