Begin typing your search above and press return to search.

एथलेटिक्स

चोट के कारण राष्ट्रमंडल खेलों से बाहर हुए गोला फेंक खिलाड़ी तेजिंदरपाल सिंह तूर

उन्हे यह चोट तब लगी जब वह अमरीका में चुला विस्टा में भारतीय टीम के साथ अभ्यास कर रहे थे

चोट के कारण राष्ट्रमंडल खेलों से बाहर हुए गोला फेंक खिलाड़ी तेजिंदरपाल सिंह तूर
X
By

Pratyaksha Asthana

Updated: 2022-07-16T19:13:36+05:30

भारतीय गोला फेंक एथलीट तेजिंदरपाल सिंह तूर की मुश्किलें बढ़ गई हैं। पहले ही अपनी 'ग्रोइन' चोट के कारण यूजीन में चल रही विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में हिस्सा नहीं ले पाए तेजिंदर, अब अपनी चोट के कारण आगामी राष्ट्रमंडल खेलों से भी बाहर हो गए हैं।

उन्हे यह चोट तब लगी जब वह अमरीका में चुला विस्टा में भारतीय टीम के साथ अभ्यास कर रहे थे।

उन्होंने स्पर्धा के लिए कुछ अभ्यास थ्रो फेंके लेकिन दर्द के वजह से उन्होंने अभ्यास बंद कर दिया।

तूर ने कहा, " मैं इस ग्रोइन चोट के कारण राष्ट्रमंडल खेलों में हिस्सा नहीं ले पाऊंगा।"

उन्होंने कहा,"4 दिन पहले चुला विस्टा में मेरे ग्रोइन मांसपेशियों में खिंचाव आ गया था और इससे मेरे प्रदर्शन पर काफी असर पड़ा। मैं रिहैबिलिटेशन करूंगा और भविष्य की प्रतियोगिताओं में मजबूत वापसी करूंगा।"

बता दें कि तेजिंदर को 28 जुलाई से 8 अगस्त तक चलने वाले राष्ट्रमंडल खेलों के लिए 36 सदस्यीय भारतीय टीम में चुना गया था लेकिन उनका चयन कजाखस्तान में एक प्रतियोगिता के प्रदर्शन पर निर्भर था, जहां वह भारतीय एथलेटिक्स महासंघ (एएफआई) द्वारा तय किए गए 20.50 मीटर के क्वालीफाइंग मानक से चूक गए थे।

उन्होंने पिछले महीने चेन्नई में राष्ट्रीय अंतरराज्यीय चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने के दौरान 20.34 मीटर का थ्रो ही फेंका था।

इसके अलावा उन्होंने नौ जुलाई को चुला विस्टा में एक प्रतियोगिता में 19.96 मीटर का थ्रो किया था।

हालाकि तूर को विश्व चैम्पियनशिप के लिये वीजा औपचारिकतायें पूरी करने के कारण कोसानोव मेमोरियल एथलेटिक्स प्रतियोगिता में हिस्सा लिये बिना ही भारत लौटना पड़ा।

अपनी चोट पर उन्होंने कहा कि,"मुझे यह (ग्रोइन) चोट चुला विस्टा (अमेरिका) पहुंचने के बाद लगी थी। मैंने यह देखने के लिए दर्द अभी है या नहीं, कुछ 'वार्म-अप' थ्रो भी फेंके। थ्रो करते हुए मुझे दर्द महसूस हो रहा था इसलिए मैंने स्पर्धा से हटने का फैसला किया।"

एशियाई खेलों के मौजूदा स्वर्ण पदक विजेता ने कहा कि,"अगर मैं स्पर्धा में हिस्सा लेता तो मेरी चोट बढ़ सकती थी और यह 'थर्ड ग्रेड' की चोट बन सकती थी और मैं सात-आठ महीने के लिए बाहर हो जाता।"

Next Story
Share it