Begin typing your search above and press return to search.

एथलेटिक्स

Commonwealth Games 2022: स्वर्ण जीतने को तैयार भारतीय धाविका दुती चंद, जाने कैसा रहा उनकी मेहनत से लेकर कामयाबी तक का सफ़र

दुती चंद को दौड़ने की प्रेरणा उनकी बहन से मिली जो स्टेट लेवल की एथलीट रह चुकी हैं

Commonwealth Games 2022: स्वर्ण जीतने को तैयार भारतीय धाविका दुती चंद, जाने कैसा रहा  उनकी मेहनत से लेकर कामयाबी तक का सफ़र
X
By

Pratyaksha Asthana

Updated: 2022-07-28T20:52:11+05:30

हमनें अपने जीवन में ये लाइनें तो जरुर सुनी होंगी कि मंजिल उन्हीं को मिलती है, जिनके सपनों में जान होती है, पंख से कुछ नहीं होता, हौसलों से उड़ान होती हैं। इसी बात को सच किया है भारत की सर्वश्रेष्ठ महिला धावक दुती चंद ने। बेहद साधारण परिवार से नाता रखने वाली दुती ने अपनी रफ्तार के दम पर ना सिर्फ अपना नाम बनाया है, बल्कि देश का नाम भी हमेशा ऊंचा किया हैं।

ओडिशा के जाजपुर जिले के चाकागोपालपुर गांव में जन्मी दुती का पालन पोषण एक गरीब परिवार में हुआ था। साथ भाई बहनों में चौथे स्थान की दुती को दौड़ने की प्रेरणा उनकी बहन से मिली जो स्टेट लेवल की एथलीट रह चुकी हैं।

दुती का जीवन काफी उतार चढ़ाव वाला रहा है, पहले गरीबी और बाद में समलैंगिक होने की बेहद व्यक्तिगत बातें दुनिया के सामने आई, लेकिन दुती ने हर मुसीबत का सामना डट कर करा और अपने प्रदर्शन में कोई कमी नही आने दी।

उनके करियर की बात करे तो दुती के नाम कई उपलब्धियां हैं। दुती ग्रीष्म ओलंपिक खेलों के महिला 100 मीटर स्पर्धा में क्वालीफाई करने वाली तीसरी भारतीय महिला एथलीट हैं। उन्होंने 2018 एशियाई खेलों में 100 मीटर रेस में रजत पदक तो वहीं 200 मीटर रेस में भी रजत पदक हासिल किया है। इसके अलावा उन्होंने 2013 एशियाई चैंपियनशिप के 200 मीटर में कांस्य पदक, 2017 में 100 मीटर में कांस्य और फिर चार गुना यानी कि 400 मीटर में भी कांस्य पदक अपने नाम किया हैं।

साथ ही 2019 दोहा में भी उन्होंने 200 मीटर की दौड़ में कांस्य पदक जीता था।

इतना ही नही उन्होंने 2016 दोहा में आयोजित एशियन इनडोर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में कांस्य पदक तो वहीं दक्षिण एशियाई खेल 2016 में 100 मीटर में रजत जीता था। जबकि 200 मीटर स्पर्धा में कांस्य पदक अपने नाम किया था।

गौरतलब है कि दुती 2019 में नेपाल में आयोजित ग्रीष्मकालीन विश्वविद्यालय प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारत की पहली महिला स्प्रिंटर बनीं थी जिसे उन्होंने 100 मीटर की रेस 11.32 सेकेंड में पूरी की थी।

फिलहाल भारतीय स्टार खिलाड़ी दुती चंद महिला 100 मीटर स्पर्धा में नेशनल चैंपियन हैं।

इस बार के राष्ट्रमंडल खेलों में स्प्रिंट में भारतीय महिला दल का प्रतिनिधित्व दुती चंद ही कर रही हैं। जिस वजह से सीनियर होने के नाते पर उन पर पदक जीतने और दूसरे एथलीट्स को प्रेरित करने की जिम्मेदारी भी होगी।

Next Story
Share it