शुक्रवार, सितम्बर 25, 2020
होम एथलेटिक्स ज्योति वाई ने 100 मीटर बाधा दौड़ में नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया

ज्योति वाई ने 100 मीटर बाधा दौड़ में नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया

कर्नाटक के मैंगलोर में खेली जा रही 80वीं ऑल इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी चैम्पियनशिप में आंध्रा प्रदेश की ज्योति वाई ने बाधा दौड़ (हर्डल्स) में नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया है। उन्होंने सोमवार को महिलाओं की 100 मीटर बाधा दौड़ को पूरी करने में महज 13.03 सेकेंड का समय लिया और नया राष्ट्रीय कीर्तिमान स्थापित किया। इस प्रतियोगिता में हज़ारीबाग की सपना कुमारी दूसरे स्थान पर रहीं।

इससे पहले यह राष्ट्रीय रिकॉर्ड अनुराधा बिस्वाल के नाम था जो उन्होंने 13.38 सेकेंड्स में पूरा करके बनाया था। दिल्ली में आयोजित हुई डीडीए राजा भालेन्दर सिंह नेशनल सर्किट में अनुराधा ने साल 2002 में यह रिकॉर्ड बनाया था। इससे पहले ज्योति का पिछला राष्ट्रीय रिकॉर्ड 13.72 सेकेंड था।

100m hurdles

Jyothi Y representing Acharya University Guntur came first in 100m Hurdles.#alvas #rguhs #alvasekalavya #80th #athleticmeet #womens #hurdles #inter #university #winner #guntur

Posted by Alva's Madhyama on Sunday, 5 January 2020

साधारण से परिवार से संबंध रखने वाली ज्योति के पिता एक निजी सुरक्षा गार्ड के रूप में काम करते हैं, जबकि उनकी माँ एक घरेलू गृहणी है। ज्योति पहली बार चर्चा में तब आई जब उन्होंने पिछले साल अगस्त में लखनऊ में आयोजित 59वीं राष्ट्रीय अंतर-राज्यीय सीनियर एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता था। राष्ट्रीय स्तर पर उनका पहला स्वर्ण पदक 32वीं राष्ट्रीय जूनियर एथलेटिक चैंपियनशिप में आया जब उन्होंने नवंबर 2016 में कोयंबटूर में 14.92 सेकंड के साथ शानदार प्रदर्शन किया। इसके बाद उन्होंने 2017 में भी उल्लेखनीय प्रदर्शन किया।

लम्बी और पतली एथिलीट ज्योति इस समय दक्षिण अफ्रीका के विदेशी कोच ओलंपियन सीफ ले रूक्स की देखरेख में प्रोजेक्ट गांडीवा के अंतर्गत ट्रेंनिग ले रही है। यह प्रोजेक्ट स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ आंध्र प्रदेश (एसएएपी) और टेनविक स्पोर्ट्स की एक पहल है, जिसके अंतर्गत कैंपस में एस्ट्रोटर्फ ट्रैक सहित विश्व स्तरीय सुविधाएं उपलब्ध हैं। वह अंतरराष्ट्रीय कोचों द्वारा प्रशिक्षित किए जाने वाले 50 अन्य एथलीटों में शामिल हैं। अगर ज्योति निरंतर ऐसा प्रदर्शन जारी रख पाती हैं तो वह निश्चित ही भविष्य में चैम्पियन बाधा धाविका बन पायेंगी।